GWALIOR NEWS- पुलिस वालों की गैंग ने चलती ट्रेन में 60 लाख की लूट की थी

ग्वालियर
। मध्य प्रदेश पुलिस की ग्वालियर क्राइम ब्रांच ने राजस्थान की एक फर्जी क्राइम ब्रांच का खुलासा किया है जिसने चलती ट्रेन में तीन व्यापारियों से ₹60 लाख की लूट की थी। मामले में बड़ी बात यह है कि सभी आरोपी मध्य प्रदेश पुलिस के कर्मचारी हैं। गैंग का सरगना पुलिस जवान व्यापम घोटाले में सस्पेंड चल रहा है। 

कुल 5 गिरफ्तार- 3 साइबर पुलिस, एक आरपीएफ और सरगना निलंबित पुलिसकर्मी है

ग्वालियर पुलिस ने इन्वेस्टिगेशन और गिरफ्तारी के बाद बताया कि चलती ट्रेन में झांसी के व्यापारियों को राजस्थान क्राइम ब्रांच बनकर लूटने वाले गिरोह का मास्टर माइंड व्यापम कांड में निलंबित पुलिस जवान सतेन्द्र गुर्जर है। इसने अपने सायबर पुलिस के जवान अभिषेक तिवारी, विवेक पाठक और रेलवे पुलिस फोर्स के जवान योगेन्द्र के साथ मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया है। वारदात के दौरान MP पुलिस का निलंबित जवान क्राइम ब्रांच का ऑफिसर बना था। ग्वालियर क्राइम ब्रांच ने पांच लोगों को अभी तक पकड़ा है। एक निलंबित जवान सतेन्द्र है, तीन साइबर और रेलवे पुलिस में पदस्थ हैं।

घटना का विवरण
उत्तर प्रदेश झांसी के बड़ा बाजार निवासी सराफा व्यापारी 42 वर्षीय राकेश पुत्र शंकरलाल अग्रवाल स्थानीय सराफा बाजार के व्यापारियों से रुपए लेकर दिल्ली से उनको डिजाइनर ज्वेलरी लाने का काम करते हैं। जिस पर उनका फिक्स कमीशन होता है। उनके साथ ही सागर अग्रवाल और संजय गुप्ता भी यही काम करते हैं। बीते 25 साल से वह इस व्यवसाय में है। 

17 जून को यह तीनों झांसी से दिल्ली जाने के लिए जबलपुर-निजामुद्दीन एक्सप्रेस (ट्रेन नंबर-02181) में सवार हुए। दो बैग में 30-30 लाख रुपए रखे हुए थे। वह ट्रेन को कोच-2 की सीट नंबर-1,15,9 पर सफर कर रहे थे। डबरा निकलते ही चार लोग इनके पास आए। उनको तीनों व्यापारियों के नाम पता था। नाम लेकर उन्होंने तीनों व्यापारियों को बुलाया। चारों युवकों ने खुद को राजस्थान क्राइम ब्रांच का जवान और अफसर बताया। साथ ही बताया कि सूचना मिली आप लोग हवाला का पैसा यहां से वहां करते हो। 

व्यापारी घबरा गए। चारों युवकों ने उनसे उनके तीनों बैग छीन लिए। दो बैग में करीब 60 लाख रुपए मिले, एक खाली था। बैग को जब्त कर चारों युवक ग्वालियर स्टेशन के पास अगले कोच में चले गए। व्यापारियों से कहा पूरी जांच के बाद रुपए मिलेंगे। आगे आखिरी कोच में अफसर बैठे हैं वहां आ जाना। घटना से व्यापारी घबरा गए। रुपयों का कोई रिकॉर्ड उनके पास नहीं था। इसके बाद वह दिल्ली पहुंचे और लौटकर झांसी आकर मामले की सूचना व्यापारियों को सूचना दी। 

वहां से झांसी पुलिस और वहां से ग्वालियर पुलिस को सूचना दी गई। इसमें क्राइम ब्रांच ने जांच शुरू कर दी। जब चार आरोपी हाथ आ गए तो शनिवार (3 जुलाई) को GRP ग्वालियर में मामले की FIR दर्ज की गई है।

03 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

EMPLOYEE NEWS- कर्मचारी के ट्रांसफर को कब अवैध माना जाता है, पढ़िए
MP CORONA NEWS- संक्रमण फिर बढ़ने लगा, मुख्यमंत्री चिंतित
मध्य प्रदेश मानसून- 11 जिलों में बारिश होगी, 17 जिलों में बूंदाबांदी
MP NEWS- अतिथि शिक्षकों की भर्ती के आदेश जारी
IFMIS TRANFER कर्मचारी ऑनलाइन आवेदन करें
CRIME STORY- राखी भोपाल छोड़ने तैयार नहीं थी, इसलिए मार डाला: प्रशांत ने पुलिस को बताया
INDORE NEWS- मंत्री उषा ठाकुर से पंगा महंगा पड़ा, डिप्टी रेंजर सस्पेंड
JABALPUR NEWS- मुख्यमंत्री ने जो घाव दिए हैं, वह हरे हैं, भरे नहीं हैं: अजय विश्नोई
KHANDWA ELECTION NEWS- कैलाश विजयवर्गीय को खंडवा लोकसभा से उप चुनाव लड़ाने की तैयारी
INDORE NEWS- में रेत के नीचे दबकर कॉन्ट्रेक्टर और उसके बेटे की मौत
ट्रांसफर में टंटे मत करना: सीएम ने डिनर टेबल पर मंत्रियों को समझाया

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiबारिश की बूंदे गोल क्यों होती है, लंबी क्यों नहीं होती 
Tech Tips Step by Stepघर की अर्थिंग कैसे चेक करें, बिना इलेक्ट्रीशियन को बुलाएं
GK in Hindiमुर्गा सूर्योदय से पहले बांग क्यों देता है, कभी लेट क्यों नहीं होता
GK in Hindi- COCA COLA सिरदर्द के लिए बना रहे थे, गलती से कोल्ड ड्रिंक बन गया
GK in Hindiमनुष्य की दो आंखें क्यों होती है जबकि एक आंख से भी पूरा दिखाई देता है
GK IN HINDI- इंटरनेट डाटा का उत्पादन कहां और कैसे होता है 
GK IN HINDI- BIKE का इंजन CC में क्यों होता है, हॉर्स पावर में क्यों नहीं होता
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here