Loading...    
   


BHOPAL NEWS- डॉक्टर भूरिया की मौत का रहस्य बरकरार, बैचमेट डॉक्टर भी हैरान

भोपाल
। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के जेपी अस्पताल में पदस्थ सीनियर डॉक्टर एचएल भूरिया की मौत का रहस्य बरकरार है। परिवार और अस्पताल ने एक दूसरे को टारगेट किया है। उनकी लाश उन्हीं के सरकारी आवास में फांसी पर लटकी हुई मिली थी। पुलिस इसे आत्महत्या मान कर चल रही है परंतु ना तो पुलिस के पास कोई सुसाइड नोट है और ना ही आत्महत्या का कारण। 

कुत्ते की रस्सी से बनाया गया था फांसी का फंदा

डॉक्टर हजारी लाल भूरिया जेपी अस्पताल कैंपस में बने हुए सरकारी आवास में रहते थे। उनकी लाश कुत्ते को बांधने वाली रस्सी से बनाए गए फांसी के फंदे पर लटकी हुई थी। घर में इलेक्ट्रिक वायर से बनाया गया फांसी का फंदा भी मिला है। डॉक्टर के भतीजे दीपक राज ने बताया कि डॉ. भूरिया को घर में कोई परेशानी नहीं थी। ऑफिस से कोई दिक्कत हो तो हम बता नहीं सकते। इधर, अस्पताल के अधिकारियों का कहना है कि हमारे यहां कुछ नहीं हुआ, कोई निजी कारण होगा तो पता नहीं।

काम से काम रखते थे, परिवार में बात करते रहते थे, किसी से कोई विवाद नहीं

डॉ. भूरिया की सागर के जिला अस्पताल में पदस्थ स्त्रीरोग विशेषज्ञ पत्नी डॉ. सरोज भूरिया ने कहा कि उनको कुछ भी समझ में नहीं आ रहा। उन्हाेंने बताया कि बातचीत होती रहती थी। बेटा चेतन (27) नोएडा से एबीबीएस की पढ़ाई कर रहा है। जेपी अस्पताल के सिविल सर्जन डॉक्टर राकेश श्रीवास्तव ने बताया कि डॉ. भूरिया का किसी से विवाद नहीं था। काम से काम रखते थे।

घर में कुत्ते नहीं थे, रस्सी कहां से आई

अस्पताल के स्टाफ ने बताया कि वह किसी से ज्यादा बात नहीं करते थे। वह अस्पताल से निकलने के बाद सीधे अपनी क्वार्टर में जाते थे। कुछ दिन पहले तक उनके पास दो जर्मन शेफर्ड नस्ल के कुत्ते थे। उनके साथ कई बार उनके घर के बगीचे में खेलते देखा। कुछ समय पहले उनको रिश्तेदार कहीं ले गए। 

COVID-19 का शिकार हुए थे लेकिन डिप्रेशन में नहीं थे

डॉक्टर भूरिया को कोविड भी हो गया था। ऐसे में कुछ लोग उनके अकेलेपन को लेकर मानसिक परेशानी होने के कयास भी लगा रहे हैं। हालांकि इसको लेकर कोई भी स्पष्ट कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। कुछ ने बताया कि अस्पताल में उनका कोई विवाद नहीं था। निजी कारण से कदम उठया हो तो हम कुछ बता नहीं सकते।

खुशमिजाज व्यक्ति आत्महत्या कैसे कर सकता है, बैचमेट डॉक्टर भी हैरान

डॉ. भूरिया तीन साल पहले ही सागर से ट्रांसफर होकर जेपी अस्पताल आए थे। वे मार्च 2022 में रिटायर होने वाले थे। डॉ. भूरिया के साथ कॉलेज में पढ़ाई करने वाले एम्स के डॉ. राजेश मलिक ने बताया कि डेढ़-दो महीने पहले मुलाकात हुई थी। हमेशा खुश मिजाजी से मिलते थे। हमारे बैच के सभी लोगों को आश्चर्य हो रहा है कि इतना खुशमिजाज व्यक्ति आत्महत्या जैसा कदम उठा सकता है।

सबसे पहले रसोईया ने लाश को फांसी पर झूलते हुए देखा

सागर के रहने वाले 63 वर्षीय डॉक्टर एचएल भूरिया जेपी अस्पताल में ब्लड बैंक के इंचार्ज थे। वह अस्पताल परिवसर में सरकारी आवास में अकेले ही रहते थे। शनिवार सुबह 7 बजे घर पर खाना बनाने वाला रसोइया पहुंचा, तो भूरिया फंदे पर लटके मिले।

04 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

EMPLOYEE NEWS- कर्मचारी के ट्रांसफर को कब अवैध माना जाता है, पढ़िए
MP CORONA NEWS- संक्रमण फिर बढ़ने लगा, मुख्यमंत्री चिंतित
मध्य प्रदेश मानसून- 11 जिलों में बारिश होगी, 17 जिलों में बूंदाबांदी
MP NEWS- अतिथि शिक्षकों की भर्ती के आदेश जारी
IFMIS TRANFER कर्मचारी ऑनलाइन आवेदन करें
CRIME STORY- राखी भोपाल छोड़ने तैयार नहीं थी, इसलिए मार डाला: प्रशांत ने पुलिस को बताया
INDORE NEWS- मंत्री उषा ठाकुर से पंगा महंगा पड़ा, डिप्टी रेंजर सस्पेंड
JABALPUR NEWS- मुख्यमंत्री ने जो घाव दिए हैं, वह हरे हैं, भरे नहीं हैं: अजय विश्नोई
KHANDWA ELECTION NEWS- कैलाश विजयवर्गीय को खंडवा लोकसभा से उप चुनाव लड़ाने की तैयारी
INDORE NEWS- में रेत के नीचे दबकर कॉन्ट्रेक्टर और उसके बेटे की मौत
ट्रांसफर में टंटे मत करना: सीएम ने डिनर टेबल पर मंत्रियों को समझाया

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiबारिश की बूंदे गोल क्यों होती है, लंबी क्यों नहीं होती 
Tech Tips Step by Stepघर की अर्थिंग कैसे चेक करें, बिना इलेक्ट्रीशियन को बुलाएं
GK in Hindiमुर्गा सूर्योदय से पहले बांग क्यों देता है, कभी लेट क्यों नहीं होता
GK in Hindi- COCA COLA सिरदर्द के लिए बना रहे थे, गलती से कोल्ड ड्रिंक बन गया
GK in Hindiमनुष्य की दो आंखें क्यों होती है जबकि एक आंख से भी पूरा दिखाई देता है
GK IN HINDI- इंटरनेट डाटा का उत्पादन कहां और कैसे होता है 
GK IN HINDI- BIKE का इंजन CC में क्यों होता है, हॉर्स पावर में क्यों नहीं होता
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here