CRIME STORY- दबंग से प्यार के कारण मारा गया पूरा परिवार

देवास के नेमावर में आदिवासी परिवार के 5 सदस्यों की सामूहिक हत्या का मामला एक बार फिर समाज को यह बताता है कि प्यार में आगे बढ़ने से पहले यह जान लेना बहुत जरूरी है कि आप जिसे प्यार कर रहे हैं, कहीं वह आपके साथ किसी प्रकार का धोखा तो नहीं कर रहा। रूपाली और सुरेंद्र की लव स्टोरी 4 साल पुरानी है लेकिन पुलिस ने सुरेंद्र राजपूत को रूपाली और उसके परिवार के सभी लोगों की हत्या के मामले में गिरफ्तार किया है। रूपाली सहित सभी 5 लोगों के शव सुरेंद्र सिंह के खेत में 8 फुट गहरे गड्ढे में मिले हैं।

दो बच्चों के अपहरण की शिकायत से शुरू हुई छानबीन

दिनांक 27 मई 2021 को नीतू नेमावर पुलिस के पास पहुंची और उसने बताया कि उसका बेटा पवन एवं बेटी पूजा लापता है। नीतू ने रिश्ते में अपनी बहन रूपाली नेमावर (उम्र 22 वर्ष) पर अपहरण का शक जताया। दो मासूम बच्चों का अपहरण की शिकायत के कारण पुलिस सक्रिय हो गई। पता चला कि रूपाली और उसका पूरा परिवार 13 मई 2021 से लापता है। ​​​​​​देवास ​SP शिवदयाल सिंह ने बताया कि ममता बाई (45) उनकी बेटी रूपाली (22) और दिव्या (14) तीनों लापता थे। इनके साथ पीथमपुर में रहने वाली ममता बाई की भतीजी नीतू की बेटी पूजा 15 वर्ष और बेटा पवन 14 वर्ष भी गायब थे।

पुलिस का पूरा फोकस रूपाली पर था

पुलिस को दो बच्चों के अपहरण के मामले में रूपाली की तलाश थी। इसलिए पुलिस ने रूपाली के मोबाइल की लोकेशन ट्रेस करना शुरू कर दिया। रूपाली की मोबाइल लोकेशन लगातार बदल रही थी। इस दौरान रूपाली के मोबाइल से सोशल मीडिया पर कुछ मैसेज भी पोस्ट हो रही थी जिसमें वह बता रही थी कि वह सब कुशल है और चिंता की कोई बात नहीं है। 

पुलिस की इन्वेस्टिगेशन ने यू-टर्न लिया, तब नई कहानी पता चली

कार्रवाई के दौरान पीड़ित परिवार की ओर से संतोष के साथ सुरेंद्र सिंह राजपूत भी बार-बार पुलिस के पास आता था। शुरुआत में पुलिस को लगा कि लोकल नेता होने के कारण पीड़ितों को सपोर्ट कर रहा है लेकिन जब पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लगा तो पुलिस ने सुरेंद्र सिंह के व्यवहार की समीक्षा की। ग्रामीणों से पूछताछ में सुरेंद्र और रूपाली की लव स्टोरी सामने आ गई। मोबाइल कॉल रिपोर्ट निकाली तो स्थिति एकदम स्पष्ट हो गई है।

फिल्म दृश्यम जैसा मर्डर तो किया लेकिन इन्वेस्टिगेशन में उलझ गया 

पुलिस ने जब अपने तरीके से पूछताछ की तो पता चला कि यह दो बच्चों के अपहरण का नहीं बल्कि 5 लोगों के सामूहिक हत्याकांड का मामला है। एसपी देवास के अनुसार आरोपी सुरेंद्र राजपूत ने दृश्यम फिल्म की तर्ज पर पूरे परिवार की हत्या करने के बाद ट्रांसफार्मर के लिए खोदे गए 10 फुट गहरे गड्ढे में पांचों की लाशें और उसके ऊपर यूरिया एवं नमक डाल दिया। सुरेंद्र राजपूत नहीं रूपाली का मोबाइल छीन लिया था और वही सोशल मीडिया पर लगातार मैसेज पोस्ट कर रहा था जिसके कारण पुलिस लगातार कंफ्यूज हो रही थी। मर्डर और पुलिस को कंफ्यूज करने की पूरी प्लानिंग दृश्यम फिल्म की तरह थी लेकिन पुलिस की इन्वेस्टिगेशन फिल्म की तरह नहीं थी इसलिए सुरेंद्र सिंह राजपूत के खेत से सभी के शव बरामद कर लिए गए। 

शादी करना चाहती थी इसलिए मार डाला 

देवास पुलिस का कहना है कि सुरेंद्र सिंह राजपूत ने सभी की हत्या करना कबूल कर लिया है। उसने बताया कि 4 साल से वह रूपाली के साथ संबंध बना रहा था लेकिन शादी नहीं करना चाहता था। इधर रुपाली मानने को तैयार ही नहीं थी। इसलिए शादी की बात करने के बहाने पहले रुपाली को बुलाकर उसकी हत्या की। फिर उसकी मां और बहन को बुलाकर दोनों की हत्या कर दी। कोई सबूत ना बचे इसलिए मेहमान बनकर आए दोनों बच्चों की भी हत्या कर दी। सभी को ट्रांसफार्मर के गड्ढे में डालकर दफना दिया। 

कुल मिलाकर झूठे प्यार के कारण 3 परिवार प्रभावित हुए हैं। रूपाली और उसके पूरे परिवार की मौत हो गई। नीतू के दोनों बच्चे बिना किसी कारण के मारे गए। सुरेंद्र सिंह राजपूत भी बच नहीं पाया। पुलिस ने उसे और उसके साथियों को गिरफ्तार कर लिया है।

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

मध्य प्रदेश की समस्त भूमि पर राज्य सरकार का अधिकार है, पढ़िए- MP land revenue code 1959
GK in Hindiमनुष्य की दो आंखें क्यों होती है जबकि एक आंख से भी पूरा दिखाई देता है
GK IN HINDI- इंटरनेट डाटा का उत्पादन कहां और कैसे होता है 
HEALTH TIPS IN HINDI- मात्र ₹20 में पेट का पॉइजन खत्म, 20 से ज्यादा बीमारियां नहीं होंगी 
RASHIFAL- 12 में से 6 राशि वालों के लिए गुड न्यूज़
GK IN HINDI- BIKE का इंजन CC में क्यों होता है, हॉर्स पावर में क्यों नहीं होता
GK IN HINDI- ATM से थर्मल पेपर की पर्ची क्यों निकलती है, सादा कागज क्यों नहीं है
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here