Loading...    
   


इस दुनिया में जीना है तो .......! - To live in this world, a change is necessary

कोरोना दुष्काल के कारण सरकारें राहत पैकेज जारी कर रही है| अंतत: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी कोरोना वायरस राहत पैकेज पर हस्ताक्षर कर दिए |व्हाइट हाउस ने घोषणा की कि राष्ट्रपति ने राहत पैकेज पर हस्ताक्षर कर दिए हैं| वहां अब कोरोना प्रभावितों को सरकारी सहायता मिलने का रास्ता साफ हो गया है| इससे पहले, डोनाल्ड ट्रंप ने पैकेज को मंजूरी देने से इनकार कर दिया था. उनके इस रुख की अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्‍ट्रपति जो बाइडन ने निंदा की थी| वास्तव में कोरोना संकट से त्रस्त दुनिया को महामारी से उबारने के साथ ही उन उपायों को करने की भी जरूरत है| साथ ही  भविष्य में किसी भी ऐसी नयी चुनौती से मुकाबले के लिये स्थायी तंत्र विकसित करने पर वैश्विक विमर्श प्रारम्भ हो जाना चाहिए।

अब सवाल सिर्फ कोरोना का ही नहीं है, भविष्य में आने वाली नयी महामारियों का भी है। मौजूदा संकट से सबक लेकर भविष्य की रणनीति तैयार करने की जरूरत है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की बैठक में डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अधनोम ने दुनिया के देशों से आह्वान किया कि हमें भविष्य की महामारियों के मुकाबले तथा दुनिया को स्वस्थ बनाने के लिये सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणालियों में अधिक से अधिक निवेश करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इतिहास बताता है कि यह पहली महामारी नहीं होगी। महामारी हमारे जीवन का सत्य तथ्य है।

टेड्रोस अधनोम ने कहा कि साल में एक दिन ऐसा होना चाहिए, जिसमें हम भविष्य की महामारियों से निपटने के प्रयासों पर चिंतन करें। निस्संदेह मौजूदा संकट से सबक लेकर हमें भविष्य की रणनीतियां तैयार करनी चाहिए, जिसमें सरकारों व समाज की रचनात्मक भूमिका हो सकती है। हमें यह सुनिश्चित करना है कि हमारी आने वाली पीढ़ी ऐसी महामारियों का मुकाबला करने में सक्षम बने। बच्चों को एक सुरक्षित दुनिया विरासत में मिले। डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा है कि महामारी रोकने और उससे जुड़ी तैयारी के महत्व को रेखांकित करने हेतु वर्ष में एक दिवस जागरूकता के लिये निर्धारित किया गया है, जिसमें मानवता के कल्याण से जुड़े विमर्श में दुनिया के सभी देशों की भागीदारी होगी। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने भी कहा कि दुनिया में सत्रह लाख से अधिक लोगों की मौत के साथ ही दुनिया की तमाम अर्थव्यवस्थाएं तबाह हो चुकी हैं, जिसने आपातकालीन स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर बनाने की जरूरत बतायी है। 

सारी दुनिया का भला इसी में है कि मौजूदा संकट से मुकाबले के लिये पैसा पानी की तरह बहाने के बजाय स्थायी व दूरगामी नीतियों पर बल दिया जाना चाहिए। एक स्थायी तंत्र विकसित होना चाहिए जो भविष्य की आपदाओं को समय रहते नियंत्रित करने में सहायक हो। निस्संदेह यह अंतिम महामारी नहीं है, भविष्य में ऐसी चुनौतियां नये रूप में हमारे सामने आ सकती हैं।  मानव को उन कारकों पर भी विचार करना होगा जो महामारी के विस्तार को आधारभूमि उपलब्ध कराती हैं। यह संकट हमारे लिये चुनौती के साथ एक बड़ा सबक भी है जो हमारे खानपान-जीवन व्यवहार तथा आर्थिक नीतियों के निर्धारण से जुड़े पहलुओं पर प्रकाश डालता है।

मनुष्य के साथ ही वन्यजीवों के कल्याण तथा जलवायु परिवर्तन के प्रभावों से निपटने के प्रयासों पर भी ध्यान देने की जरूरत है। दरअसल, इनके प्रभावों से मानव स्वास्थ्य भी जुड़ा है। स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले कारकों को समग्र दृष्टि से देखने की जरूरत है। यदि हम सिर्फ एक महामारी पर तमाम पैसा बहा देंगे तो अन्य रोगों से लड़ने की हमारी तैयारी बाधित होगी। इस दौर में दुनिया में अशांति व अस्थिरता से जूझ रहे देशों में महिलाओं व बच्चों के टीकाकरण के कार्यक्रम बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।

दुष्काल के संकट ने इस लड़ाई को कमजोर किया है। अभी इन इलाकों में कोरोना वैक्सीन लगाने का अभियान भी चलाया जाना है। लंबे समय से भय व असुरक्षा के माहौल में जी रही दुनिया के जीवन को सामान्य बनाने के लिये ऐसे ही रचनात्मक अभियान चलाये जाने की जरूरत है।  निस्संदेह कोरोना काल के अनुभव हमें भविष्य की ऐसी चुनौतियों से मुकाबले के लिये आधारभूमि उपलब्ध करायेंगे। विडंबना यह है कि हम एक महामारी के खत्म होते ही ऐसी नयी चुनौती के बारे में सोचना छोड़ देते हैं जो एक अदूरदर्शी सोच है। दरअसल, कोई भी महामारी मनुष्य के स्वास्थ्य, जीवों तथा धरती के अंतरंग रिश्तों के  असंतुलन को भी उजागर करती है। आज ही नहीं बल्कि अभी से मानव को प्रकृति से बेहतर रिश्ते बनाने की जरूरत है। इसे ही धरती को रहने की अनिवार्य शर्त बनाना जरूरी है।
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here