Showing posts with label Editorial. Show all posts
Showing posts with label Editorial. Show all posts

MEDIA: व्यवसायिक प्रतिबद्धता सर्वोपरि है

Thursday, October 19, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  मीडिया की प्रतिबद्धता को लेकर दो बड़ी खबरें हैं एक देश की और एक विदेश की। दोनों मीडिया के आचरण से जुडी है। पहले विदेश...

नौकरशाहों पर नकेल कसना भी जरूरी है

Wednesday, October 18, 2017

ललित गर्ग। इन दिनों नौकरशाहों की कार्यशैली पर विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं की टिप्पणियां सामने आ रही है, नौकरशाही पर इस तरह की टिप्पणिय...

गुरदासपुर और वेंकारा के सबक और चेतावनी

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  पंजाब की गुरदासपुर लोक सभा और केरल की वेंगारा विधानसभा सीट के उपचुनावों के नतीजे कांग्रेस पार्टी के पक्ष में जाने से...

क्या भाजपा चेत रही है ?

Tuesday, October 17, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  भाजपा पर हर तरफ से हमले हो रहे हैं। राहुल गाँधी की टिप्पणियों के जवाब प्रधानमन्त्री को गुजरात में देना पड़ा है। यह एक...

दुर्भाग्य ! भारत में बचपन भूखा है

Monday, October 16, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  यह रिपोर्ट डराने वाली है। इस साल के वैश्विक भूख सूचकांक में भारत तीन पायदान नीचे लुढ़का है, भारत उत्तर कोरिया से भी प...

आप TV एंकर {पत्रकार} हैं, अपनी सीमा समझें

Sunday, October 15, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  टीवी शो के दौरान एंकरों की भूमिका देखकर आम लोगों को यह एहसास होने लगता है कि एंकर ही सर्वज्ञाता है, इसे चीखने चिल्ला...

मध्य प्रदेश में किसान “भावांतर” को भाव नही दे रहे

Saturday, October 14, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  कल अर्थात 15 अक्तूबर को मध्य प्रदेश सरकार की 'भावांतर योजना' की तिथि आगे बढने की सम्भावना है। सरकार इस योजना...

स्वागत योग्य फैसला पर इसमें कुछ और भी जरूरी

Friday, October 13, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  निश्चित ही इस फैसले की गिनती एक बड़े सुधर के रूप में की जाना चाहिए। सर्वोच्च अदालत ने 18 साल से कम उम्र की पत्नी से द...

मध्यावधि की आशंका और मोदी के बचाव

Thursday, October 12, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  हर प्रधानमन्त्री की तरह ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के आर्थिक प्रबंधन का पूरी तरह बचाव किया है। प्रधा...

कुपोषण की जंग और नगद भुगतान का प्रयोग

Tuesday, October 10, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  एक ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार भारत में प्रत्येक तीसरा शिशु कुपोषित है और मातृत्व-काल की हरेक दूसरी महिला अनीमिया से ग्रस...

नव धनाढ्य राजपुत्र और उनकी पैरोकारी

Monday, October 9, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  यह सवाल उठना स्वाभाविक है कि प्रधानमंत्री जय शाह वल्द अमित शाह पर लगे आरोपों की जाँच स्वमेव करायेंगे या न्यायालय के ...

सामाजिक समरसता का मखौल उड़ाती ये चिंताजनक घटनायें

Sunday, October 8, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  शायद ही कोई समाजशास्त्री इन घटनाओं के कारणों की तार्किक परिणति पर रोशनी डाल सके कि गाँधी के गुजरात और शांति के टापू ...

देश का अर्थ तंत्र और नई मौद्रिक नीति

Saturday, October 7, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  देश का अर्थतंत्र इन दिनों सार्वजनिक विमर्श का विषय बना हुआ है। सरकार के अपने लोगों ने ही जिस तरह इस पर सवाल उठाए हैं...

राष्ट्र को एक अर्थ नीतिकार की जरूरत है ?

Friday, October 6, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  देश के आर्थिक मोर्चे पर  प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के जवाब से आर्थिक परिदृश्य का कोई संतोषजनक/ समाधान कारक चित्र नह...

क्रेडिट CARD का चलन बढ़ा, सेहरा किस के सिर?

Thursday, October 5, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  देश में क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल में बढ़ोतरी हो रही है इस नये चलन का सेहरा किसके सिर बाँधा जाये। सरकार के या बैंकों...

“पार्टी विथ डिफ़रेंस” और ये चुप्पी

Wednesday, October 4, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  अपने को “पार्टी विथ डिफ़रेंस” कहने में गर्व महसूस करने वाली भाजपा में आंतरिक लोकतंत्र हमेशा गर्व का विषय रहा है। पार्...

संघ का बौद्धिक और सरकार

Tuesday, October 3, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  वैसे तो यह स्वीकार नहीं किया जाता कि सरकार या भाजपा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से कोई निर्देश लेती है या संघ कोई निर्दे...

क्या अब POLICE मुस्तैद हो पायेगी ?

Monday, October 2, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  आखिर केंद्र सरकार ने यह मान ही लिया देश में पुलिस सुधार की जरूरत है। पुलिस सुधार जैसा विषय राज्य और केंद्र द्वारा अब...

आर्थिक मामलों में राजनीति छोडिये

Sunday, October 1, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  देश के पिछले अनुभव बताते है कि सरकार की राजनीतिक बाध्यताएं इतनी बड़ी होती हैं कि वे सरकारी संस्थाओं की तर्कसंगत आर्थ...

जानकारी के लिए जान लगा देने वालों की हिफाजत जरूरी

Saturday, September 30, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन।  अब देश में आरटीआई के माध्यम से जानकारी लेना जानलेवा होता जा रहा है। आरटीआई से सूचना प्राप्त करने वालों में ज्यादा सं...

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week