Loading...    
   


REWA के फूड कंट्रोलर अधिकारी की मौत, प्लाज्मा थेरेपी भी फेल - MP NEWS

रीवा। देश में कई इंतजाम के बाद भी न संक्रमण का फैलाव रुक रहा है, न ही कोरोना से होने वाली मौत की रफ्तार पर लगाम लग रही है। रीवा में एक लोकप्रिय सरकारी अधिकारी की इलाज के दौरान मौत हो गई। रीवा जिला फूड कंट्रोलर राजेंद्र सिंह ठाकुर ने 19 अगस्त को जिला अस्पताल में सैंपल दिया। 20 अगस्त को रिपोर्ट आई जिसमें वह कोरोना पॉजिटिव बताए गए। दो दिन तक अपने शासकीय आवास में ही आइसोलेशन में रहे। 23 अगस्त को जिला अस्पताल पहुंचे। 

23 अगस्त को ही डॉक्टरों ने उन्हें संजय गांधी अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। तब से वह लगातार जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष करते रहे। इस दौरान प्लाज्मा थेरेपी से भी इलाज किया गया। कई इंजेक्शन दिए गए। यहां तक कि दिल्ली, भोपाल और जलबपुर से विशेष इंजेक्शन मंगाए गए। बावजूद इसके उनकी तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ। एसजीएमच में भोर के तीन बजे चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।जिला फूड कंट्रोलर राजेंद्र सिंह ठाकुर मूलरूप से मंडला के बिछिया तहसील के भुआ गांव के निवासी रहे। जिले में दो साल से कार्यरत थे। कोरोना के दौरान रीवा में खाद्यान्न वितरण की व्यवस्था को लेकर कार्यालय से लेकर फील्ड में भ्रमण करते रहे। 

फूड कंट्रोलर की दो बेटियां हैं। पत्नी नीलिमा ठाकुर जो बड़ी बेटी के घर अमेरिका में थी। दरअसल मार्च में ही वह बेटी के घर अमेरिका गई थीं। कोरोना के कारण लॉकडाउन में फंस गईं। पति के कोरोना संक्रमित होने की सूचना मिलते ही अमेरिका से जैसे-तैसे भोपाल होते रीवा पहुंची। लेकिन वार्ड में मिलने नहीं दिया गया। लाचार पत्नी, वीडियो कालिंग के जरिए ही पति को देख सकीं थीं। बड़ी बेटी तो अमेरिका से आ ही नहीं सकी। वह अंतिम समय में पिता से मिल नहीं सकी। अधिकारियों से मिन्नत कर वीडियो कॉलिंग के जरिए बड़ी बेटी को शव का दर्शन कराया। 

एसजीएमएच में भर्ती होने के दूसरे दिन फूड कंट्रोलर का भतीजा पीतांबर ठाकुर रीवा पहुंचे। कुछ दिन बाद छोटी बेटी रूपांजलि ठाकुर भी भोपाल से रीवा आ गईं। जानकारी के मुताबिक फूड कंट्रोलर का भतीजा, चाचा के बेहतर इलाज के लिए बाहर ले जाना चाहता था। इसके उसने चिकित्सकों से दर्ख्वास्त भी की। लेकिन, चिकित्सकों ने यह कहकर रेफर नहीं किया कि एबुंलेंस से बाहर ले जाने की स्थित नहीं है। कमिश्नर राजेश कुमार जैन ओर कलेक्टर इलैयाराजा टी ने एयर एंबुलेंस के लिए प्रयास किए। बावजूद इसके जबलपुर, भोपाल या दिल्ली नहीं जा सके। अंत में चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

07 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

वेटिकन सिटी में बच्चे पैदा क्यों नहीं होते?
BF ने GF से कैंसर पीड़ित पिता के लिए खून बदले आबरू ले ली
यदि ब्रांच मैनेजर BANK ACCOUNT CLOSE करने से मना कर दे तो क्या करें
MADHYA PRADESH में नई शिक्षा नीति के तहत नया शिक्षा सत्र कब से शुरू होगा, क्या खास होगा
पत्नी को परीक्षा दिलाने स्कूटी से ग्वालियर आये थे फ्लाइट से जाएंगे झारखंड वाले धनंजय कुमार
SHALBY HOSPITAL ने आधी रात में भर्ती अधिकारी को बाहर निकाला, मौत
मध्य प्रदेश मौसम: 18 जिलों में बारिश होगी, 12 में धूप खेलेगी, 7 जिलों में बूंदाबांदी
BHOPAL में SBI के ATM में घुसे चोर, हैदराबाद में बजा अलार्म
BHOPAL NEWS: महिला ग्राहक को पुरुष ट्रायल रूम में भेज दिया फिर ताक-झांक करने लगा
BHOPAL-INDORE चार्टर्ड बस सेवा शुरू, कितने यात्री जाएंगे, किराया कितना होगा पढ़िए
यदि रेल की पटरी में करंट का तार लगा दें तो क्या होगा
कूलर की मोटर जाम क्यों हो जाती है, जबकि पंखे की सालों-साल चलती है
मंत्री नरेंद्र तोमर को महिलाओं ने घेरा, बोलीं: चलो हमारे साथ, दलदल बन गई सड़क पर चलकर दिखाओ
MADHYA PRADESH के स्कूलों में 5+3+3+4 पाठ्यक्रम को लागू किया जायेगा
ग्वालियर नगर निगम में नामांतरण विज्ञापन के नाम पर 30 लाख का गबन
JABALPUR- INDORE से 4 प्रमुख ट्रेनों शुरू करने की मंजूरी मिली
JABALPUR से 6 सितंबर से चलने वाली ट्रेनों का टाइम-टेबल जारी
AFTER CORONA: ग्वालियर में 40% लोग नई बीमारी का शिकार
GWALIOR में सोने-चांदी की परख रखने वाले व्यापारी इंसान पहचानने में चूक गए, 1.5 करोड़ का चूना लग गया
कूलर की मोटर जाम क्यों हो जाती है, जबकि पंखे की सालों-साल चलती है
संविदा कर्मचारी का ट्रांसफर नहीं किया जा सकता: हाईकोर्ट ने आदेश पर स्टे लगाया
MADHYA PRADESH की ग्राम पंचायतों के लिए 996 करोड़ रुपए ट्रांसफर


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here