Loading...    
   


KANGNA RANAUT: लाइफ में जितना पंगा लिया उतनी ऊंचाई मिली - LIFE STORY

कुछ लोगों की कुंडली में ऐसे योग होते हैं। श्री रामचरितमानस में वानर राज बाली का जिक्र आता है। उनकी जन्म पत्रिका में एक विशेष प्रकार का योग था। जब भी कोई शत्रु उनके सामने आता था उसकी आदि शक्ति राजा बाली में आ जाती थी। यानी शत्रु की शिकस्त और बाली की विजय सुनिश्चित होती थी। कंगना रनौत के साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा है। 16 साल की उम्र में पिता से पंगा लिया और अब पॉलीटिशियंस से। कंगना रनौत जिस लेवल व्यक्ति से पंगा लेती है उतनी ही ऊंचाई पर स्थापित हो जाती हैं। पिता से पंगा लिया था तो बॉलीवुड में काम मिल गया। करण जौहर से पंगा लिया तो दुनिया भर में तारीफ हुई, अवार्ड मिले। अब शिवसेना से पंगा लिया है तो वाई श्रेणी की सुरक्षा और एक ऐसा मुकाम जहां कंगना रनौत अपनी मर्जी से अपना फ्यूचर डिसाइड कर सकती है।

कंगना रनौत के माता पिता क्या करते थे, परिवार में कौन कौन

23 मार्च 1987 को हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में एक छोटे से कस्बे भांबला में जन्मी कंगना की परवरिश एक रूढ़िवादी संयुक्त परिवार में हुई। उनकी मां आशा रनौत एक स्कूल में टीचर थीं और पिता अमरदीप रनौत का अपना कारोबार था। कंगना के दादाजी कांग्रेस पार्टी से तीन बार विधायक रहे परंतु पिता की राजनीति में रुचि नहीं थी। कंगना की एक बड़ी बहन रंगोली और छोटा भाई अक्षत है। रंगोली पिछले कई बरस से बॉलीवुड में कंगना के साथ हैं और कई बार कंगना की टिप्पणियों पर आने वाली तल्ख प्रतिक्रियाओं का जवाब रंगोली ही देती रही हैं।

कंगना रनौत को बचपन से ही बंदिशें पसंद नहीं थी

विद्रोही स्वभाव की कंगना को लीक से बंधना कभी रास नहीं आया। बचपन में उनके छोटे भाई को खिलौना बंदूक और उसे गुड़िया दी जाती तो वह न सिर्फ उसे लेने से इंकार कर देती थीं, बल्कि इस भेदभाव का पुरजोर विरोध भी करती थीं। उन्हें अपनी मर्जी के कपड़े पहनना और अपने हिसाब से जीना पसंद था।

बॉलीवुड में भी बंधन मंजूर नहीं किए, जो सामने आया- पंगा ले लिया

कंगना ने विरोध के अपने इस गुण को फिल्मी दुनिया में रहते हुए भी बचाए रखा और तमाम तरह के भेदभाव के खिलाफ खड़ी नजर आईं। फिर चाहे वह पुरूष साथी कलाकारों से कम मेहनताना मिलने का सवाल हो, मीटू का विवाद हो या फिर फिल्म नगरी में भाई भतीजावाद का मुद्दा, कंगना ने हर बार बड़े पुरजोर तरीके से अपनी बात रखी और उस पर डटी रहीं। 

कंगना रनौत ने 16 साल की उम्र में पिता से बगावत कर दी थी

कंगना का परिवार उन्हें डॉक्टर बनाना चाहता था और इसी ख्याल के साथ वह चंडीगढ़ के DAV SCHOOL में विज्ञान विषय के साथ पढ़ाई कर रही थीं, लेकिन अचानक एक दिन उन्हें लगा कि वह इसके लिए नहीं बनी हैं और मात्र 16 बरस की उम्र में वह दिल्ली चली आईं। कंगना के पिता को उनका यह कदम कतई रास नहीं आया और उन्होंने अपनी बेटी से रिश्ता तोड़ लिया।

बॉलीवुड में आने से पहले ड्रामा स्कूल में ट्रेनिंग ली

दिल्ली में कुछ समय तक मॉडलिंग करने के बाद कंगना ने अभिनय का रुख किया और अस्मिता थिएटर ग्रुप के साथ जुड़ गईं। इस दौरान उन्होंने कुछ नाटकों में काम किया और उनके अभिनय की खूब सराहना हुई। यहां अपने अभिनय की धार परखने के बाद कंगना सपनों की नगरी मुंबई पहुंच गईं और आशा चंद्रा के ड्रामा स्कूल में चार महीने का कोर्स करने के बाद अपने सपनों की दुनिया में पहुंचने का रास्ता तलाशने में जुट गईं।

मात्र 17 साल की उम्र में पेरेंट्स की मर्जी के बिना पहली फिल्म में एक्टिंग की

कंगना को 2004 में अनुराग बासु के निर्देशन में फिल्म ‘गैंगस्टर’ में काम करने का मौका मिला और 17 साल की लड़की ने अपने मंझे अभिनय से अपनी आगे की राह आसान कर ली। इसके बाद भी कंगना ने कई फिल्मों में काम किया और धीरे-धीरे फिल्मी दुनिया का हिस्सा बन गईं।

फिल्म फैशन ने कंगना रनौत खुद नई ऊंचाई दी

वर्ष 2008 में आई फिल्म ‘फैशन’ कंगना को सातवें आसमान पर ले गई। फैशन और मॉडलिंग की दुनिया के स्याह चेहरे को बयां करती इस फिल्म में कंगना ने नशा करने के कारण बर्बाद हुई मॉडल शोनाली गुजराल की भूमिका को इस अंदाज में निभाया कि उन्हें इसके लिए राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा गया।

बॉलीवुड करियर की शुरुआत में कई चलेंगे लिए

इस दौरान कंगना को सफलता तो मिल रही थी, लेकिन वह एक ही तरह की भूमिकाओं में बंधती जा रही थीं। उन्हें इस बंधन से निकाला 2011 में आई फिल्म ‘तनु वेड्स मनु’ ने। आर माधवन के साथ आई कंगना की इस फिल्म ने यह साबित कर दिया कि वह हर तरह की भूमिकाएं पूरे विश्वास के साथ निभा सकती हैं। 2014 में आई फिल्म ‘क्वीन’ में कंगना ने एक ऐसी लड़की की भूमिका निभाई जिसका मंगेतर शादी से ठीक पहले उसे छोड़ देता है और वह हाथों में मेहंदी लगाए दुखी मन से अकेले ही अपने हनीमून पर निकल जाती है। इस फिल्म में कंगना के बेहतरीन अभिनय ने उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार ही नहीं दिलाया बल्कि सही मायने में बॉलीवुड की रानी बना दिया।

कंगना रनौत ने पिता से लेकर पॉलीटिशियंस तक हर किसी से पंगा लिया

पर्दे पर हों या पर्दे के बाहर कंगना का नाम अक्सर विवादों से जुड़ता रहा, लेकिन उनका व्यक्तित्व अपने दम पर दुनिया को जीतने का सपना देखने वाले लोगों के लिए एक मिसाल है। उनकी बातों और उनके कुछ फैसलों से लोगों को एतराज हो सकता है, लेकिन खुद कंगना का कहना है कि वह अपनी तरफ से चीजों को संभालने की जी तोड़ कोशिश करती हैं, लेकिन जब उनकी कोशिशें नाकाफी करार दी जाती हैं तो वह अपने तरीके से प्रतिक्रिया देती हैं जो बहुत लोगों को नागवार गुजरती है।

13 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

वह कौन सा पेड़ है जो नर और मादा दोनों प्रकार में पाया जाता है
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पुलिस के वाहन से जनसंपर्क किया, कांग्रेस को आपत्ति
इंदौर में BF संग लिव इन में रह रही लड़की ने सुसाइड किया
BF ने GF से कैंसर पीड़ित पिता के लिए खून बदले आबरू ले ली
DIGVIJAY SINGH कांग्रेस से रिटायर, CWC में स्थाई सदस्य बनाकर हिसाब-किताब चुकता
जनता के साथ विश्वासघात करने वाली सरकार को बेदखल करना मेरा पहला दायित्व: ज्योतिरादित्य सिंधिया
MPTET-3 EXAM 2020 स्थगित, पढ़िए परीक्षाओं का आयोजन कब होगा
INDORE में शाम को बंद हो जायेगा बाजार, 326 नए संक्रमित मिले
मुड़ते समय रेलगाड़ी एक तरफ क्यों झुक जाती है
लड़की ने 10 फर्जी वेबसाइट से 10 हजार लोगों से 10 करोड़ की ठगी, मुंह ना खोल दे इसलिए वेबसाइट डेवलपर से सगाई कर ली थी
INDORE करूणानिधि हॉस्पिटल के 2 डॉक्टर गिरफ्तार, मामला नवजात बच्चों की चोरी का
SBI HOME LOAN पर तीन स्पेशल ऑफर
KHANDWA में महिला SI की प्रताड़ना से बचने युवक फांसी पर झूल गया
MORENA भाजपा की रैली में कांग्रेसी घुस आए, सिंधिया गद्दार, काले झंडे दिखाए
MP CORONA: हर 3 घंटे में 2 लोगों की मौत, पॉजिटिविटी रेट खतरे के निशान से ऊपर
INDORE का आकर्ष जैन JEE MAIN-2 में भी 99.99 परसेंटाइल


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here