Loading...    
   


भारत की नई शिक्षा नीति: दसवीं से विषय चुनेंगे, लिखित परीक्षा कम होगी / NEW EDUCATION POLICY HIGHLIGHTS

नई दिल्ली। भारत की नई शिक्षा नीति तैयार हो गई है। सरकार का उद्देश्य है कि 2030 तक 100% बच्चे स्कूल में पढ़ाई करते मिले। नई शिक्षा नीति में 2 से 8 साल तक के बच्चों पर विशेष फोकस दिया गया है परंतु कक्षा 10 के बाद पढ़ाई का पूरा पैटर्न ही बदल दिया गया है। लिखित परीक्षाएं कब होंगी प्रैक्टिकल एग्जाम पर फोकस किया जाएगा।

भारत की नई शिक्षा नीति: 10वीं हाई स्कूल से विषय चुनने का विकल्प मिलेगा

10वीं और 12वीं में होने वाली बोर्ड परीक्षा के लिए यह सुनिश्चित किया जाएगा कि 24 से ज्यादा विषय न हों। एक बार फेल या अच्छा प्रदर्शन न करने पर छात्र को दो या उससे अधिक बार मौका मिलेगा। नौवीं के बाद विषय चुनने का विकल्प होगा। 

भारत की नई शिक्षा नीति: 2022 की परीक्षा नए पाठ्यक्रम से होगी

NCERT (राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (National Council of Educational Research and Training)) अगले वर्ष तक नेशनल कैरिकुलम फ्रेमवर्क 2020 तैयार करेगी। अब तक स्कूली शिक्षा नेशनल कैरिकुलम फ्रेमवर्क 2005 के तहत चल रही है। 2022 की परीक्षा नए पाठ्यक्रम से होगी। 

भारत की नई शिक्षा नीति: स्कूलों में नाश्ता भी मिलेगा

ग्रामीण, पिछड़े व आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के छात्रों को पढ़ाई से जोड़े रखने के लिए स्कूलों में नाश्ता भी मिलेगा। अब तक मिड-डे मील में दोपहर का भोजन मिलता था। इसी साल से पौष्टिक नाश्ता दिया जाएगा। इसके अलावा बच्चों को शारीरिक जांच के आधार पर सभी को हेल्थ कोर्ड भी मिलेगा।

भारत की नई शिक्षा नीति: लिखित परीक्षा की जगह प्रैक्टिकल परीक्षा

बच्चों को मोटी-मोटी किताबें नहीं पढ़नी पड़ेंगी। नई नीति में बच्चों को हर विषय के मूल सिद्धांत को आसान तरीकों से समझाया जाएगा। ऐसे में पूरा जोर लिखित परीक्षा की जगह प्रयोगात्मक परीक्षा पर होगा। 

भारत की नई शिक्षा नीति: 2 से 8 साल तक के बच्चों पर फोकस

पढ़ाई का फोकस और कांस्पेट्स, आइडिया, एप्लीकेशन, प्रैक्टिकल, प्राब्लम साल्विंग पर रहेगा। सरकार का मानना है कि दो से आठ साल तक बच्चा सबसे अधिक सीखता है। इसलिए इस उम्र में सीखने पर जोर दिया जाए। 

कस्तूरबा गांधी स्कूलों का विस्तार 12वीं कक्षा तक

कस्तूरबा गांधी स्कूलों का विस्तार 12वीं कक्षा तक होगा। जिनकी इकलौती संतान बेटी हो और बेटियों को शिक्षा में बढ़ावा देने के लिए विशेष योजनाएं बनेंगी। स्कूलों में अपने विषय के साथ-साथ बहुविषयक जानकारियों को बढ़ावा दिया जाएगा। लाइफ स्किल पर अधिक फोकस होगा।

स्कूली शिक्षा की हर पांच वर्ष में समीक्षा

गुणवत्ता सुधारने की की शुरुआत स्कूली शिक्षा से करने के लिए हर पांच साल में समीक्षा होगी। वर्ष 2022 के बाद पैराटीचर नहीं रखे जाएंगे। शिक्षकों की भर्ती सिर्फ नियमित होगी। रिटायरमेंट से पांच साल पहले शिक्षकों की नियुक्ति का काम केंद्र और राज्य शुरू कर देंगे। कूषि और स्वास्थ की पढ़ाई सामान्य विश्वविद्यालयों के साथ प्रोफेशनल संस्थान में छोटे कोर्स पर जोर होगा।

30 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़ी जा रही खबरें

बहन के बॉयफ्रेंड को फंसाने फिल्मी स्टाइल में साजिश रची
BIKE में CC का फुल फॉर्म क्या होता है, 100cc-150cc का क्या मतलब होता है
पिता जूते बनाते हैं, बेटी ने रिकॉर्ड बना दिया: INSPIRATIONAL STORY
ग्वालियर का हाई कोर्ट सील, गली-गली में कोरोना का कहर
ग्वालियर में 20 रुपये की बंदूक अड़ाकर ढाई लाख की लूट
फर्जी सर्टिफिकेट से ज्यादा गंभीर है फर्जी स्टांप पेपर छापना, पढ़िए कितनी सजा होती है
जबलपुर में कांग्रेस के पूर्व मंत्री एवं उनकी पत्नी कोरोना पॉजिटिव
मध्यप्रदेश में कोरोना 30000 के पार, आज 14 मौतों के साथ 24 जिलों में 10+ पॉजिटिव
शेर और शेरनी में से शिकार कौन करता है, किसमें कितना दम होता है
एमपी बोर्ड 12वीं के टॉपर्स की लिस्ट
मध्य प्रदेश से रूठ गए इंद्रदेव, बादल बिना बरसे ही लौट गए
MP COLLEGE EXAM: कब होंगे, कैसे होंगे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बताया
एमपी बोर्ड 9वीं-12वीं एडमिशन के लिए गाइडलाइन एवं एप्लिकेशन के लिए लास्ट डेट
मध्यप्रदेश में 917 कोरोना पॉजिटिव, सिचुएशन कंट्रोल के लिए 2 मंत्री मैदान में
मध्यप्रदेश में सत्ता से संगठन तक सब के सब कोरोना पॉजिटिव
TATA SKY ने 6 सेवाओं का शुल्क 50% घटाया


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here