Loading...    
   


मध्यप्रदेश विधानसभा अध्यक्ष: सीताशरण को बनाना नहीं चाहते और गोपाल भार्गव बनना नहीं चाहते / MP NEWS

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी की मध्यप्रदेश इकाई में इन दिनों काफी उथल-पुथल मची हुई है। 2018 का विधानसभा चुनाव हार जाने के बाद सत्ता तो हाथ में आ गई लेकिन पदों को लेकर जो लड़ाई शुरू हुई है, थमने का नाम ही नहीं ले रही। फिलहाल मामला विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का है। मानसून सत्र की अधिसूचना जारी हो चुकी है और इन 2 पदों पर फैसला करना अनिवार्य है। 

सीताशरण शर्मा को बनाना नहीं चाहते 

होशंगाबाद जिले के नेता सीताशरण शर्मा पिछली सरकार में विधानसभा अध्यक्ष थे। उन्हें यह कुर्सी काफी पसंद आ गई है। वह फिर से इसी कुर्सी पर बैठना चाहते हैं लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सीता शरण शर्मा को विधानसभा अध्यक्ष नहीं बनाना चाहते। कारण क्या है सब जानते हैं। 

गोपाल भार्गव बनना नहीं चाहते 

सीएम शिवराज सिंह चौहान एक तीर से दो निशाने करने के मूड में है। वह गोपाल भार्गव को विधानसभा अध्यक्ष बनाना चाहते हैं। ऐसा करने से गोपाल भार्गव कैबिनेट से बाहर हो जाएंगे और सीता शरण शर्मा भी विधानसभा अध्यक्ष नहीं बन पाएंगे। गोपाल भार्गव ने विधानसभा अध्यक्ष बनने से इनकार कर दिया है। 

अगला टारगेट कौन, पुतला दहन किसका होगा

ज्यादातर लोग यह समझने की कोशिश कर रहे हैं कि विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष कौन बनेगा। शिवराज सिंह चौहान उपाध्यक्ष की कुर्सी विपक्षी पार्टी कांग्रेस को देंगे या नहीं लेकिन इन सबसे अलग एक बड़ा सवाल यह भी है कि भारतीय जनता पार्टी में अगला पुतला दहन किसका होगा। इतिहास गवाह है! मध्य प्रदेश में भाजपा के सत्ता में रहते हुए हर साल कम से कम एक वरिष्ठ भाजपा नेता बलि चढ़ गया है। फिर चाहे वह व्यापम घोटाला हो या सीडी कांड। सवाल यह है कि अगला कौन।

23 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

गरीबों की पैसेंजर ट्रेन बंद करने जा रहा है रेलवे बोर्ड, मध्य प्रदेश की 4 पैसेंजर लिस्ट में
कमजोर कांग्रेस के कारण बेलगाम हो रही है शिवराज सिंह सरकार
INDORE यादव परिवार के 3 सदस्य एवं महाराष्ट्र के महंत की रोड एक्सीडेंट में मौत
100% काला रंग क्या सामान्य आंखों से देखा जा सकता है, आइए जानते हैं दुनिया की सबसे काली चीज क्या है
क्या शासकीय कर्मचारी को कोई भी अधिकारी दंडित/बर्खास्त कर सकता है, ध्यान से पढ़िए
CORONA की दवा मेडिकल स्टोर पर, कीमत ₹3500 प्रति टेबलेट स्ट्रिप
एमपी बोर्ड में जुलानिया का जादू चलेगा या नहीं!
SBI में FD-RD की बजाए SBI ETF में निवेश कीजिए, दुगना ब्याज (9%) मिलेगा
पैसेंजर ट्रेन कब से चलेंगी, तारीख घोषित, तैयारियां शुरू 
21 जून को साल का सबसे बड़ा दिन क्यों कहा जाता है
सूर्य की किरणें समुद्र में कितनी गहराई तक प्रकाश फैला सकती हैं
मजबूरी भी शौक को जन्म देती है: SUCCESS TIPS by विनय तिवारी IPS
क्या जमानत की शर्तों का उल्लंघन अपराध है, नई FIR दर्ज हो सकती है
कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर: NPS छोड़कर OPS का लाभ पाने का विकल्प खुला
जबलपुर विधायक के दो बैंक खाते खाली कर गए साइबर चोर, माननीय को पता तक नहीं चला 
RAISEN से BF संग भागी नाबालिग को इंदौर पुलिस ने पकड़ा तो एसिड पी लिया
भोपाल में दादा के लिए बांधी रस्सी से पोते की मौत
दवा के पैकेट में 2 टेबलेट के बीच ज्यादा गैप क्यों होता है, सिर्फ 1 टैबलेट के लिए 10 टेबलेट जितना बड़ा पैकेट क्यों देते हैं
कील पानी में डूब जाती है लेकिन लोहे का जहाज तैरता रहता है, ऐसा क्यों
क्या किसी वेतन आयोग की अनुशंसा, सरकार पर पूर्ण रूप से बाध्यकारी होती है?


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here