Loading...    
   


कमलनाथ नहीं चाहते डॉक्टर गोविंद सिंह नेता प्रतिपक्ष बने / MP NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश में कांग्रेस के सभी पदों पर कमलनाथ ने एकाधिकार कर लिया है। प्रदेश अध्यक्ष पद के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ही बने और अब जबकि विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष के नाम की बात आई है तो इस पद पर भी किसी और की दावेदारी को खत्म करने के लिए कमलनाथ ने अपना नाम आगे बढ़ा दिया है। 

विधानसभा के मानसून सत्र के लिए अधिसूचना जारी हो चुकी है। कांग्रेस पार्टी को नेता प्रतिपक्ष का नाम तय करना है। कहने के लिए नेता प्रतिपक्ष का नाम हाईकमान तय करेगा लेकिन सब जानते हैं कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस के फाइनल डिसीजन दिग्विजय सिंह और कमलनाथ लेते हैं। इन दिनों उनके फैसलों पर दिल्ली सवाल नहीं करती। 

डॉक्टर गोविंद सिंह की दावेदारी 

कांग्रेस के विधायक दल को देखें तो नेता प्रतिपक्ष के लिए डॉक्टर गोविंद सिंह से बेहतर कोई नाम नहीं है। डॉक्टर गोविंद सिंह ना केवल सीनियर हैं और अनुभवी हैं बल्कि उनके अंदर सरकार की घेराबंदी करने के गुण भी है। वह कांग्रेस विधायक दल का नया चेहरा उतरते हैं। इसमें कोई संदेह नहीं कि विधानसभा के भीतर सरकार की घेराबंदी करने में डॉक्टर गोविंद सिंह काफी सफल हो सकते हैं। 

कमलनाथ का कब्जा बरकरार रखने की कोशिश 

डॉक्टर गोविंद सिंह का नाम सामने आते ही कांग्रेस पार्टी में सभी प्रमुख पदों पर कमलनाथ का कब्जा बरकरार रखने की कोशिश शुरू हो गई है। कहा जा रहा है कि उपचुनाव में कांग्रेस पार्टी का चेहरा कमलनाथ होंगे इसलिए नेता प्रतिपक्ष भी उन्हें ही होना चाहिए। हालांकि इस दलील के पीछे कोई लॉजिक नहीं है। कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष होने के नाते उपचुनाव में पार्टी का चेहरा कमलनाथ ही होंगे लेकिन फिर भी नेता प्रतिपक्ष के पद पर डॉक्टर गोविंद सिंह को बिठाकर कमलनाथ विधायक दल के सामने अपना विकल्प पेश नहीं करना चाहते हैं। बॉलीवुड जैसा नेपोटिज्म और उस को सफल बनाने की साजिश राजनीति में भी होती है।

23 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

गरीबों की पैसेंजर ट्रेन बंद करने जा रहा है रेलवे बोर्ड, मध्य प्रदेश की 4 पैसेंजर लिस्ट में
कमजोर कांग्रेस के कारण बेलगाम हो रही है शिवराज सिंह सरकार
INDORE यादव परिवार के 3 सदस्य एवं महाराष्ट्र के महंत की रोड एक्सीडेंट में मौत
100% काला रंग क्या सामान्य आंखों से देखा जा सकता है, आइए जानते हैं दुनिया की सबसे काली चीज क्या है
क्या शासकीय कर्मचारी को कोई भी अधिकारी दंडित/बर्खास्त कर सकता है, ध्यान से पढ़िए
CORONA की दवा मेडिकल स्टोर पर, कीमत ₹3500 प्रति टेबलेट स्ट्रिप
एमपी बोर्ड में जुलानिया का जादू चलेगा या नहीं!
SBI में FD-RD की बजाए SBI ETF में निवेश कीजिए, दुगना ब्याज (9%) मिलेगा
पैसेंजर ट्रेन कब से चलेंगी, तारीख घोषित, तैयारियां शुरू 
21 जून को साल का सबसे बड़ा दिन क्यों कहा जाता है
सूर्य की किरणें समुद्र में कितनी गहराई तक प्रकाश फैला सकती हैं
मजबूरी भी शौक को जन्म देती है: SUCCESS TIPS by विनय तिवारी IPS
क्या जमानत की शर्तों का उल्लंघन अपराध है, नई FIR दर्ज हो सकती है
कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर: NPS छोड़कर OPS का लाभ पाने का विकल्प खुला
जबलपुर विधायक के दो बैंक खाते खाली कर गए साइबर चोर, माननीय को पता तक नहीं चला 
RAISEN से BF संग भागी नाबालिग को इंदौर पुलिस ने पकड़ा तो एसिड पी लिया
भोपाल में दादा के लिए बांधी रस्सी से पोते की मौत
दवा के पैकेट में 2 टेबलेट के बीच ज्यादा गैप क्यों होता है, सिर्फ 1 टैबलेट के लिए 10 टेबलेट जितना बड़ा पैकेट क्यों देते हैं
कील पानी में डूब जाती है लेकिन लोहे का जहाज तैरता रहता है, ऐसा क्यों
क्या किसी वेतन आयोग की अनुशंसा, सरकार पर पूर्ण रूप से बाध्यकारी होती है?


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here