Loading...    
   


कमलनाथजी, आपके दुर्व्यवहार ने मंत्री विधायकों को कुर्बानी के लिए विवश किया: विष्णुदत्त शर्मा / MP NEWS

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा ने पूर्व मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ से प्रश्न किया है कि ऐसी कौन सी मजबूरी थी कि वे सरकार बनने के पहले दिन से श्री दिग्विजय सिंह को बर्दाश्त करते रहे और अंततः सरकार गिराने का खामियाजा भुगतना पड़ा। आपने श्री दिग्विजयसिंह के दबाव में लगातार अपने ही विधायकों और मंत्रियों का अपमान क्यों किया? आपने क्यों श्री दिग्विजय सिंह के बेटे को कैबिनेट मंत्री बनाने के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ विधायकों की राजनीति का गला घोंटा? यह जनता के सामने स्पष्ट करना चाहिए।

श्री शर्मा ने आशंका व्यक्त की कि कोई ऐसा कारण जरूर है, जिसके चलते मुख्यमंत्री के रूप में श्री कमलनाथ ने लगातार श्री दिग्विजय सिंह की नाजायज बातों को सहन किया। अगर श्री कमलनाथ समय रहते उन बातों का खुलासा करते, तो शायद तमाम विधायकों को अपनी विधायकी का बलिदान नही देना पड़ता। श्री कमलनाथ आज अपना सिर नहीं धुंन रहे होते। 

कमलनाथ जी आपने भारत की राजनीति में ईमानदारी और शुचिता की परंपरा कायम रखने वाले सिंधिया परिवार के मुखिया श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को सड़क पर उतरने की नसीहत दे डाली। आज परिणाम सबके सामने है। सिंधिया जी की ईमानदारी और पारदर्शिता में भरोसा करने वाले उनके समर्थक विधायकों ने अपनी विधायकी को दांव पर लगाया,यह कोई मामूली बात नहीं है। कोई विधायक अथवा मंत्री तभी अपने पद का त्याग करता है, जब उसे ह्रदय की गहराइयों तक चोट पहुंचाई जाती है।

श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जी पर लाँछन लगाने वाले कांग्रेसियों को श्री दिग्विजय सिंह को धिक्कारने की हिम्मत जुटानी चाहिए। प्रदेश की जनता को यह जानने का अधिकार है कि 18 महीने तक किसके इशारे पर प्रदेश को लूटा गया और राजनीतिक प्रतिशोध के चलते भीषण कार्यवाहियां हुई। यह अलग बात है कि कांग्रेस के मंत्री और विधायकों ने बार-बार बताया था कि शराब,रेत और खनन माफिया कौनसा पूर्व मुख्यमंत्री है। इसके बावजूद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उनका ही अपमान किया जो सच को सामने लेकर आए।

श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के पूरे राजनीतिक करियर में एक भी दाग नहीं है। इसके बावजूद श्री कमलनाथ ने मुख्यमंत्री के रूप में और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के रुप में भी श्री सिंधिया को निरंतर अपमानित करने के जतन किए। इसे कोई भी स्वाभिमानी व्यक्ति सहन नहीं कर सकता।

आज श्री कमलनाथ का यह व्यक्तव्य कि वह श्री दिग्विजय सिंह के धोखे का शिकार हुए हैं। यह स्पष्ट करता है कि श्री कमलनाथ ने अपनी अक्षमताओं के कारण गलत व्यक्ति से प्रश्रय प्राप्त किया और सही लोगों को अपमानित किया। अगर आज श्री कमलनाथ और उनकी मंडली के भीतर नैतिकता बची हो तो श्री सिंधिया और उन सभी मंत्री-विधायकों से माफी मांगे,जो उनके अत्याचार, अनाचार और उपेक्षा से दुखी होकर अपना मंत्री पद और विधायकी कुर्बान करने पर मजबूर हुए हैं।

03 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

रेंट एग्रीमेंट 11 महीने के लिए क्यों होता है, 6 या 12 महीने का क्यों नहीं होता 
रसोई गैस सिलेंडर का रंग लाल क्यों होता है, क्या इससे खाना पकाना खतरनाक है, यहां पढ़िए 
सिंधिया समर्थक पूर्व मंत्री प्रद्युम्न सिंह के बेटे का हाईप्रोफाइल ड्रामा VIDEO वायरल 
हवा फेंकने वाला पंखा गंदा क्यों हो जाता है, जबकि हवा से धूल साफ होती है 
ज्योतिरादित्य सिंधिया के कारण दीपक बावरिया से इस्तीफा लिया, मुकुल वासनिक नए प्रभारी
नाई को घर बुलाकर कटिंग/सेविंग कराने वालों के खिलाफ FIR होगी: कलेक्टर 
किसान क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ाने और ब्याज घटाने की मांग 
लॉकडाउन 3.0: पूरे भारत में शराब, पान मसाला और तम्बाकू के लिए छूट 
57 साल की महिला कर्मचारी की लव स्टोरी सुर्खियों में, लॉक डाउन में हुआ प्यार का अहसास 
अपराध या भ्रष्टाचार की झूठी जानकारी देने का मामला IPC की किस धारा के तहत दर्ज होगा, कितनी सजा मिलेगी 
लॉक डाउन बढ़ाया लेकिन शर्तें बदली, समीक्षा के बाद किया फैसला 
मध्य प्रदेश के 32वें जिले में कोरोना, आज 90 पॉजिटिव, टोटल 2715 
दिग्विजय सिंह के झूठे विश्वास के कारण हमारी सरकार गिरी: कमलनाथ (बयान वायरल होते ही यू-टर्न लिया)
TATA SKY: दो महीने की फ्री सर्विस ऑफर, डिटेल्स और लास्ट डेट के लिए ध्यान से पढ़ें
ग्वालियर में गोलगप्पे, समोसे और कचौड़ियों की होम डिलिवरी 
संसद में उल्टे पंखे किसने और क्यों लगवाए थे, आइए रहस्य की बात जानते हैं 
छिंदवाड़ा सहित तीन जिलों के कलेक्टर और भोपाल के कमिश्नर बदले 
इंदौर, 1500 के पार, 28 नए पॉजिटिव, 10 डिस्चार्ज हुए, लॉकडाउन बढ़ाया
मुरैना में चली बंदूकें, 2 की मौत, 16 घायल, 1 गंभीर 
छत पर चला रहा था सैलून, ड्रोन ने पकड़ा, मकान मालिक और नाई गिरफ्तार 
कमलनाथ के खास विधायक सुरेंद्र सिंह सहित 17 लोगों में कोरोनावायरस का इन्फेक्शन 
मजदूरी या वेतन में से नियम विरुद्ध कटौती के खिलाफ FIR दर्ज करवा सकते हैं 
WhatsApp का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग फीचर अपडेट, पढ़िए अब क्या नया मिला 
अतिथि शिक्षकों को जून 2020तक यथावत रखा जाय


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here