Loading...    
   


कोरोना वायरस: हनीमून मनाकर लौटे दंपति की स्क्रीनिंग, छिंदवाड़ा में तीन परिवार आइसोलेशन वार्ड में | MP NEWS

भोपाल। कोरोना वायरस के खतरे के चलते विदेशों से लौट के आ रहे लोगों की स्क्रीनिंग शुरू हो गई है। थाईलैंड से हनीमून बनाकर भिंड लौटे दंपति की डॉक्टरों ने स्क्रीनिंग की। करहाल में विदेश से लौटे ब्लॉक मैनेजर की स्क्रीनिंग की गई। छिंदवाड़ा में इटली से लौटे तीन परिवारों को 14 दिन के लिए आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। इटली में कोरोना वायरस का संक्रमण फैल चुका है। 3000 से ज्यादा लोग बीमार हैं। 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

थाईलैंड में हनीमून बना कर लौटा संपति, डॉक्टरों ने कोरोनावायरस की जांच की

भिंड के झांसी मोहल्ला निवासी एक दंपति हनीमून के लिए 12 फरवरी को थाईलैंड गए थे। जहां से 23 फरवरी को वे वापस भारत लौटे। इसके बाद वे 3 मार्च को भिंड आए थे। सीएमएचओ डॉ. अजीत मिश्रा ने बताया कि कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय से गाइड लाइन जारी की गई है कि जो लोग विदेश से लौट कर आ रहे हैं, उनकी जांच की जाए।

श्योपुर में विदेश से वापस आए ब्लॉक अकाउंट मैनेजर की स्क्रीनिंग

21 फरवरी को थाईलैंड से श्योपुर पहुंचे युवक की जिला अस्पताल में बारीकी से जांच की गई। युवक में कोरोना के लक्षण नहीं मिले, लेकिन डॉक्टरों ने उसे अपनी निगरानी में ले लिया है। बताया गया कि थाईलैंड से लौटने के बाद संबंधित एयरपोर्ट पर उनकी स्क्रीनिंग की गई थी। युवक कराहल में ब्लॉक अकाउंट मैनेजर के पद पर पदस्थ हैं।

इटली से छिंदवाड़ा लौटे तीन परिवार 14 दिन के लिए आइसोलेशन वार्ड में

जिला अस्पताल में पदस्थ टीकाकरण अधिकारी डॉ एचपी पटेरिया ने बताया कि मुख्यालय के छिंदवाड़ा चौक निवासी गोपाल सनोडिया अपनी पत्नी व बच्चे, छिंदवाड़ा चौक के पास रहने वाले आशीष अग्रवाल अपनी पत्नी व छपारा के सुशील गोयल भी अपनी पत्नी के साथ इटली की यात्रा पर गए हुए थे। इनके वापस आने पर सभी को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। 14 दिनों तक तीनों परिवार इसी वार्ड में रहेंगे। इस दौरान वे अपने परिवार के अन्य सदस्यों से नहीं मिल सकेंगे। फिलहाल तीनों परिवारों में कोरोना वायरस के कोई भी लक्षण नहीं मिले हैं। विदेश यात्रा पर गए तीनों परिवार के सदस्य 28 फरवरी को वापस लौटे हैं। लौटने पर सभी अपनी दुकानों का संचालन कर रहे थे। याद दिला दें कि इटली में कोरोना वायरस का संक्रमण फैल चुका है। वहां 3000 से ज्यादा मरीज मिले हैं और 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here