फांसी पर झूलती लाश चलती ट्रेन में 3 दिन तक सफर करती रही | INDORE NEWS
       
        Loading...    
   

फांसी पर झूलती लाश चलती ट्रेन में 3 दिन तक सफर करती रही | INDORE NEWS

इंदौर। लिंक एक्सप्रेस के स्पेशल कोच के टॉयलेट में फांसी पर लटकी हुई एक युवक की लाश 3 दिन तक सफर करती रही। इस दौरान सैकड़ों यात्री और रेलवे से जुड़े लोग पायलट के सामने से निकले परंतु किसी ने कोई सूचना नहीं दी। इंदौर रेलवे स्टेशन पर यह कोच स्टेशन मास्टर के ऑफिस के सामने आकर रुका। इसमें से काफी बदबू आ रही थी। जब देखा तो पता चला युवक की लाश लटकी हुई है।

रेलवे पुलिस के अनुसार मंगलवार को इंदौर पहुंची लिंक एक्सप्रेस ट्रेन के कोच में 25 वर्षीय एक युवक का शव मिलने से हड़कंप मच गया। बाथरूम की खिड़की से रस्सी बांधकर युवक की लाश लटकी हुई थी। उसका शव सड़ चुका था। ट्रेन पहुंचने पर बदबू आने पर सफाईकर्मी वहां जांचने पहुंची। महिला ने जैसे ही दरवाजा खोला तो उसमें से पैर लटके दिखे। वह चीखती हुई बाहर दौड़ी, फिर पुलिस ने शव बरामद कर पोस्टमॉर्टम करवाया। 

एएसआई शकील खान ने बताया कि उसकी जेब से मिले आधार कार्ड से पहचान 25 वर्षीय कमल पिता रमेश यादव निवासी पटेल नगर अंकपात मार्ग उज्जैन के रूप में हुई है। उसके भाई प्रदीप ने बताया कि कमल चार साल से घर से गायब था। उसके हाथ पर महादेव और अन्य स्टीकर गुदे थे, जिससे उसकी पहचान हुई है। उसने फांसी क्यों लगाई यह समझ से परे है।

हर कोई देखता हुआ निकल गया

पुलिस के अनुसार कमल ने जहां फांसी लगाई उस टॉयलेट का दरवाजा खुला था। इससे अंदेशा है कि जिसने भी शव देखा तो वह बिना बताए चला गया। बताया जा रहा है कि उसने उज्जैन स्टेशन पर फांसी लगाई, जिस कोच में फांसी लगाई वह 6 स्पेशल कोच का है। ये कोच इंदौर-जयपुर लिंक एक्सप्रेस से जुड़ते हैं और लगातार चलते हैं। एफएसएल के अनुसार तीन दिन पहले फांसी लगाई गई है। तब तक ट्रेन उज्जैन से गुना फिर नागदा और उसके बाद इंदौर पहुंची। अफसर लापरवाही पता कर रहे हैं कि आखिर यह कैसे हो गया, जब किसी ने फांसी लगा ली और तीन दिन तक जानकारी नहीं लगी। फिलहाल शव परिजन को सौंपकर जांच शुरू की गई है।