Loading...

विधायक और डिप्टी कमिश्नर के आश्वासन के बाद आजाद अध्यापक शिक्षक संघ का धरना स्थगित | AZAD ADHYAPAK

मंडला। लापरवाही और निरंकुशता से त्रस्त आजाद अध्यापक शिक्षक संघ मण्डला का 06 माह से वेतन न मिलने से आक्रोशित अध्यापकों संविदा शिक्षकों अतिथि शिक्षकों एवं स्थानांतरण से आए अध्यापकों ने 5 नवंबर  को पूर्व नियोजित अनुसार विकासखंड बिछिया में अनिश्चित कालीन धरना प्रदर्शन कर आक्रोश व्यक्त किया गया। जिसमें जिले के हजारों अध्यापक उपस्थित रहे। आजाद अध्यापक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष संतोष सोनी  ने बताया कि संगठन विभागीय लापरवाही से त्रस्त हो चुका है। यदि 12 तारीख तक कार्यप्रणाली में सुधार नहीं होता है और अध्यापक शिक्षक संवर्ग की मांगो को गंभीरता से लेते हुए पूरा नहीं करता है तो आजाद अध्यापक शिक्षक संघ आंदोलन के लिए तैयार है।

धरना स्थल पर पहुंचे विधायक एवं सहायक आयुक्त आदिम जाति कल्याण 

आजाद अध्यापक शिक्षक संघ के बैनर तले हजारों अध्यापक धरना  में उपस्थित होकर शासन  के खिलाफ लामबंद हुए धरना प्रदर्शन की जानकारी लगते ही श्री नारायण सिंह पट्टा विधायक बिछिया एवं सहायक आयुक्त जाति कल्याण विभाग  मंडला धरना स्थल पर पहुंचकर अध्यापकों की मांगों को संज्ञान में लिया विधायक  बिछिया  अध्यापकों की मांगों का समर्थन किया और  अति शीघ्र निराकरण करने का आश्वासन दिया एवं सहायक आयुक्त को निर्देशित किया कि सभी मांगें जायज हैं विभागीय कार्य प्रणालियों को दुरुस्त कर 12 तारीख तक सभी समस्याओं का निराकरण किया जाए विधायक  बिछिया ने अध्यापको को सभी समस्याओं के निराकरण का आश्वासन देते हुए कहा कि 12 तारिख तक समस्या निराकृत नहीं हुए तो वे स्वयं अध्यापको के साथ धरने पे बैठ जाएंगे। 

पीडित परिवार को एक लाख की मदद 

विधायक बिछिया की पहल पे आजाद अध्यापक शिक्षक संघ मण्डला और सहायक आयुक्त मण्डला ने पीडित परिवार को पचास पचास हजार रुपये कुल एक लाख रुपये का आर्थिक सहयोग देने की घोषणा की । इस राशि से पीड़ित परिवार के आश्रितों को कुछ आसरा प्राप्त हो जाएगा ।
धरने स्थल पर मौजूद सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विजय तेकाम जी ने बताया कि हम भोपाल से लगातार आवंटन की मांग करते हैं किंतु हम दो करोड़ आवंटन एक ब्लॉक के लिए मांगते हैं तो वहां से कुल 15 से ₹20 लाख प्राप्त होता है जिसके कारण यह समस्या निरंतर बढ़ते जा रही है मैं स्वयं भोपाल जाकर मंत्री जी को अवगत कराऊंगा।

विधायक नारायण सिंह आजाद अध्यापक शिक्षक संघ के साथ धरने पर बैठेंगे


धरना स्थल पर पहुंचे विधायक बिछिया ने आजाद अध्यापक शिक्षक संघ की मान्गो का  समर्थन किया और विभाग की कार्यप्रणाली पर रोष जताया उन्होने कहा कि यदि 12 तारिख तक निराकरण नही किया जाता है तो वे स्वयं आजाद अध्यापक शिक्षक संघ के साथ धरने पे बैठ जाएंगे । विधायक जी ने अभी कहां कि आज जो हम हैं इन्हीं शिक्षकों की देन है उन्होंने शिक्षकों के प्रति अपनी पूरी सहानुभूति दिखाई एवं उन्हें न्याय दिलाने के लिए हर समय उपलब्ध रहने का आश्वासन भी दिया। आजाद अध्यापक शिक्षक संघ बिछिया के बैनर तले हजारों अध्यापक आज बिछिया में उपस्थित होकर व्यवस्था  के खिलाफ लामबंद हुए धरना प्रदर्शन की जानकारी लगते ही श्री नारायण सिंह पट्टा विधायक बिछिया धरना स्थल पर पहुंचकर अध्यापकों की मांगों को संज्ञान में लिया विधायक माननीय नारायण सिंह पट्टा ने अध्यापकों की मांगों का समर्थन किया और  अति शीघ्र निराकरण करने का आश्वासन दिया और मौके पर उपस्थित सहायक आयुक्त को निर्देशित किया कि सभी मांगें जायज हैं विभागीय कार्य प्रणालियों को दुरुस्त कर 12 तारीख तक सभी समस्याओं का निराकरण किया जाए विधायक  बिछिया ने अध्यापको को सभी समस्याओं के निराकरण का आश्वासन देते हुए कहा कि 12 तारिख तक समस्या निराकृत नहीं हुए तो वे स्वयं अध्यापको के साथ धरने पे बैठ जाएंगे.

आजाद अध्यापक शिक्षक संघ की मांग पर जारी किया आवंटन

जिला अध्यक्ष संतोष सोनी ने बताया कि आजाद अध्यापक शिक्षक संघ मण्डला के आंदोलन की सूचना पर आनन फ़ानन में 42 हेड में जिले को लगभग 2.76 करोड़ रुपये जारी कर दिये गये. लेकिन यह राशि मान्ग की गयी राशि का 10% भी नही है, जिन अध्यापक के ट्रेजरी एम्पलाय कोड जारी नहीं हो पाये हैं या जिनका वेतन ifms पोर्टल से जारी नहीं हो रहा है उनका और अतिथि शिक्षको का संविदा शिक्षकों एवं स्थानांतरण से आए शिक्षकों का  वेतन बजटशीर्ष 42 हेड से किया जा रहा है जिसके लिए जिले के प्रत्येक विकासखण्ड को औसतन लगभग 80 लाख रुपये की आवश्यकता है वहीं 6वे वेतनमान और डी ए के एरियर्स भुगतान के लिए आदिम जाति कल्याण विभाग मंडला द्वारा ब्लाकवार 2-3 करोड रुपये की मान्ग की गयी है, बार बार विभाग के अधिकारियो के द्वारा खानापूर्ति कर दी जाती है । 

पीड़ित परिवार के लिए अनुकंपा नियुक्ति की मांग

आजाद अध्यापक शिक्षक संघ ने मृत हुए परिवार के आश्रित को अनुकंपा नियुक्ति की मांग की है जिसकी फाइल धरना स्थल पर ही सहायक आयुक्त महोदय को सौंप दी गई है एवं जिले भर की समस्याओं के लिखित आवेदन की फाइल भी सहायक आयुक्त आदिवासी विकास मंडला को सौंपी गई है

समस्याओं का लगा है अम्बार

1. जिले के सभी 9 विकासखण्डो में अध्यापक, शिक्षक ,सन्विदा शिक्षको अतिथि शिक्षको को  7-7 माह से वेतन नहीं दिया गया है ,तत्काल वेतन भुगतान किया जावे 
2.ट्रान्सफ़र से आये शिक्षको को आज तारीख तक वेतन भुगतान नहीं किया गया तत्काल वेतन भुगतान किया जाए 
3.आदिमजाति कल्याण विभाग अंतर्गत नवीन शिक्षक संवर्ग से वंचित अध्यापको और सन्विदा शिक्षक अतिथि शिक्षको का वेतन 42 हेड से किया जा रहा है लेकिन अध्यापको के वेतन और एरियर्स के लिए जहाँ 20-25 करोड़ का भुगतान शेष है, मात्र 15 से 20 लाख का आबन्टन उपलब्ध कराया जाता है  शीघ्र पूर्ण आबन्टन उपलब्ध कराया जाये 
4.प्रदेश भर में में 6वे वेतनमान की दूसरी किस्त जारी हो चुकी है लेकिन जिले में अभी तक पहली किश्त ही नहीं दी गई, अतिशीघ्र पहली और दूसरी किश्त का भुगतान किया जाए .
5.01 जुलाई 2018से नये संवर्ग में 7वा वेतनमान स्वीकृत किया गया है लेकिन आज तक नगद भुगतान नहीं किया गया है  शीघ्र भुगतान किया जाये

विधायक के साथ जाकर मुख्यमंत्री से मिलेंगे

माननीय विधायक श्री नारायण सिंह पट्टा ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री जी 9 नवम्बर को मण्डला आ रहे हैं, उनके आगमन पर वे स्वयं आजाद अध्यापक शिक्षक संघ की भेंट मुख्यमंत्री महोदय से करायेंगे एवं समस्याओं का निदान करवाने का  प्रयास करेंगे।