Loading...

भोपाल: न्याय नहीं, न्यायालय की दरकार | EDITORIAL by Rakesh Dubey

न्यायिक जगत में एक एक सर्वमान्य मुहावरा है जिसका हिंदी अनुवाद लगभग यूँ होता है “देरी से दिया गया न्याय,न्याय नहीं होता|” भोपाल तो न्याय नहीं उच्च न्यायालय की पीठ की मांग, मध्यप्रदेश बनने से अब तक लगातार करता आ रहा है | कभी सरकार भोपाल के वकीलों की बात सुनकर कुछ करती है तो कभी जबलपुर के वकीलों की बात सुनकर पीछे हट जाती है | सरकार कोई भी हो इस मामले में कुछ करती है तो सिर्फ कदम ताल | कदम ताल, एक स्थान पर खड़े होकर, चलने का झूठ-मूठ प्रदर्शन होता है  | १९५६ से यही हो रहा है | इस मांग को अब तक पूरी न होने के पीछे राजनीति है | इस राजनीति का सबसे अभद्र प्रदर्शन  भाजपा की एक सरकार में हुआ था | जब भाजपा प्रतिपक्ष में थी, तो विधानसभा में इस विषय की पैरवी करने का दम भरती थी | विधानसभा में इस विषय का दम भरने वाले महापुरुष जब सिंहासन पर आरूढ़ हुए तो वकीलों के प्रतिनिधि मंडल से यह कह कर चलते बने कि “ क्या गली-गली में हाईकोर्ट की बेंच खोल दें ?” उनका जो भी नजरिया रहा हो भोपाल कोई गली- कूचा नहीं है, १९५६ से प्रदेश की राजधानी है | संविधान का अनुच्छेद २१४ हर राज्य में एक उच्च न्यायालय का पक्षधर है | उच्च न्यायलय के मुख्य न्यायाधिपति, राज्य के मुख्यमंत्री, की संयुक्त सिफारिश पर केंद सरकार इस निर्णय को लेती है, ऐसी परम्परा है |

मध्यप्रदेश में १५ साल पहले राजनीति “हम भी खुश –तुम भी खुश” जैसी परम्परा का उदय हुआ था, यह परम्परा पिछले ९ महीने से फिर परवान चढ़ रही है | हनी ट्रेप में ३ बार जाँच दल का बदलना उस परम्परा के पल्लवित होने की निशानी है | भोपाल में हाईकोर्ट बेंच की मांग पर यह  सौजन्य क्यों नहीं बरता जा सकता ? एक सवाल है राज्य के उन लोगों से जो अपने को विकास पुरुष कहलाने में गर्व महसूस करते हैं | इस मांग पर राजनीति न कर, श्रेय का समर्पण केंद्र सरकार को करें तो बहुत कुछ सुधर सकता है | वकीलों में उभय पक्ष के नुमाईंदे है, अपने अपने राजनीतिक आकाओं से पैरवी करने की बात जोर देकर कहना चाहिए  |

अभी क्या हो सकता है ? आप ये सवाल मुझसे पूछने के हकदार हैं |  खबर है प्रदेश के एक बड़े नेता अपनी गलती का परिमार्जन करने को तैयार है और जल्दी ही राज्य प्रशासनिक न्यायाधिकरण पुन: भोपाल में काम करने लगेगा | तिथि और अवसर अभी तय नहीं है | राजनीति हमेशा ऐसे अवसर और तिथि  लाभ – हानि का गणित लगा कर घोषित  करती है | मौके की तलाश है | लेकिन, यह इस मांग का पूरा हल नहीं है, ये तो खबर है | मेरा सुझाव अभी बाकी है | इस सुझाव का पूरा श्रेय मैं लेना भी नहीं चाहता | इसमें भोपाल के एक वरिष्ठ वकील और न्यायमूर्ति का परामर्श भी शामिल है | न्यायालय और वो भी उच्च न्यायालय के मामले में लिखने से पहले मैंने उनसे परामर्श किया | सुझाव यह है कि भोपाल में “सर्किट बेंच” तो फौरन खोली जा सकती है, जिसके लिए मुख्य न्यायधिपति मध्यप्रदेश  और मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश की आपसी बातचीत और सहमति ही जरूरी है | तो देर क्यों ?
सर्किट बेंच  खुलने के फायदे बहुत से हैं | पहला- उच्च न्यायालय में मुकदमे के नाम पर राज्य के खजाने से प्रतिमाह खर्च होने वाला जन धन बचेगा | दूसरा – मुकदमों और अपील त्वरित तरीके से सुने जायेंगे | तीसरा- भोपाल जिला बार में काम करने वाले नवागत वकील साहबों का स्तर कुछ सुधरेगा | राज्य प्रशासनिक न्यायाधिकरण के वापिसी से भी इन तीनों स्थिति में परिवर्तन आएगा |मध्यप्रदेश बनने के पहले भोपाल राज्य का उच्च न्यायलय भोपाल में ही  था | तब न्यायाधीश जुडिशियल कमिश्नर पदनाम से सम्बोधित होते थे | जिला बनने के बाद भी जिला एवं सत्र न्यायाधीश सर्किट बेंच की भांति पडौसी जिलों में सुनवाई करने जाते थे | उच्च न्यायालय की  बेंच हो या सर्किट बेंच भोपाल के नागरिकों से ज्यादा सरकार की जरूरत  सरकार को सोचना चाहिये | जबलपुर में उच्च न्यायालय क्यों बना और भोपाल राजधानी क्यों बनी  ? इस पर फिर कभी |
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं