Loading...

दहेज का नया चेहरा: सॉफ्टवेयर इंजीनियर के पिता ने 10 करोड़ की बीमा पॉलिसी मांगी | SAGAR MP NEWS

सागर। दहेज का एक नया रूप सामने आया है। लड़के के पिता ने कन्या पक्ष से दहेज कार, डुप्लेक्स या लाखों की नगदी नहीं मांगी बल्कि 10 करोड़ रुपए की बीमा पॉलिसी लेने को कहा। यह अपने तरह का नया दहेज प्रकरण है। पुलिस ने बताया कि लड़के का पिता बीमा ऐजेंट है। यदि कन्या पक्ष के लोग 10 करोड़ रुपए का बीमा कराते हैं तो उसे मोटा लाभ होगा और वो दहेज भी नहीं कहा जाएगा। 

मामला शहर के चकराघाट निवासी दो परिवारों के बीच का है। कोतवाली पुलिस थाने में दर्ज इस मामले के अनुसार चकराघाट निवासी नवविवाहिता ने अपने ससुर धर्मेंद्र, सास नीता और पति दीपक पांडे निवासी चतुर्भुज घाट, चकराघाट हाल निवासी इंदौर पर दहेज प्रताड़ना का आरोप लगाया है। पीड़िता रूही का कहना है मेरा ब्याह करीब सवा साल पहले मई 2018 में हिंदू रीति-रिवाज से हुआ था। शादी के बाद कुछ समय तक ताे सब ठीक चला। इसके बाद मेरे सास-ससुर ने दहेज के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया।

बेटा सॉफ्टवेयर इंजीनियर है, 1 करोड़ की शादी नहीं की, अब बीमा करवाना पड़ेगा

रूही के अनुसार मेरे ससुर अपनी बहन के नाम पर बीमा एजेंसी चलाते हैं। इसी आधार पर उन्होंने दहेज के लिए दबाव बनाना शुरु कर दिया। उनका कहना था कि मेरा बेटा सॉफ्टवेयर इंजीनियर है और एक मल्टीनेशनल आईटी कंपनी में एक लाख रु. महीने की नौकरी करता है। इस हिसाब से तुम्हारे मम्मी-पापा को कम से कम 1 करोड़ रुपए की शादी करना थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। अब अपने मम्मी-पापा से बोलो कि वे अपने परिचित-रिश्तेदारों का हमारे जरिए कम से कम 10 करोड़ रुपए का बीमा कराएं।

बार-बार की डिमांड और जान का खतरा देख मायके लौट आई

रूही के अनुसार ससुराल पक्ष, दहेज के लिए मेरे ऊपर लगातार दबाव बनाए था। वे कभी स्कूटी तो कभी जेवर और कभी इंदौर में फ्लैट खरीदने के लिए 20 लाख रुपए की डिमांड कर रहे थे। मैंने मना कर दिया तो वे सभी प्रताड़ना पर उतर आए। मैं पेशे से प्राइवेट स्कूल में टीचर हूं और मुझे 15 हजार रु. महीना वेतन मिलता है। मेरे पति ने सास के कहने पर मेरा एटीएम कार्ड अपने पास रख लिया,जिसके चलते मैं एक-एक पैसे के लिए मोहताज हो गई। इसी दौरान एक और विवाद हुआ तब सागर से सास-ससुर ने मुझे इंदौर फोन लगाया। वे बोले ठहरो, हम लोग इंदौर आ रहे है और तुम्हें कहीं बाहर घुमाने ले जाएंगे। मैं डर गई, जान का खतरा देख चुपचाप सागर स्थित मायके लौट आई।

अब प्रकरण वापस लेन के लिए बना रहे दबाव

रूही का कहना है कि मैंने जब से सास-ससुर और पति के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। ये सभी लोग मुझे धमका रहे हैं। वे कोतवाली थाने में दर्ज दहेज एक्ट का मामला वापस लेने के लिए दबाव बना रहे हैं। उनका कहना है कि समझौता कर लाे। इस सब से कुछ नहीं होगा।