Loading...

हरेंद्र भदौरिया के मकान में महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत | GWALIOR NEWS

ग्वालियर। पति को छोड़कर अपने प्रेमी के साथ ग्वालियर आई महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। उसकी लाश उस कमरे में मिली, जिसे पांच दिन पहले दोनों ने खुद को पति-पत्नी बताकर किराए पर लिया था। महिला के साथ जो युवक आया था, वह भाग गया है। मकान मालिक को जब कमरे में शव फांसी के फंदे पर लटका मिला तब उन्होंने युवक को बताया। इसके बाद से युवक का फोन भी बंद आ रहा है। 

घटना थाटीपुर इलाके की है। थाटीपुर थाना पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम हाउस में रखवाकर मायका और ससुराल पक्ष को सूचना दे दी है। सोमवार को परिजनों के आने के बाद पोस्टमार्टम होगा। पुलिस हत्या और आत्महत्या के एंगल पर जांच कर रही है। थाटीपुर स्थित विवेक नगर के रहने वाले हरेंद्र भदौरिया का चार मंजिला मकान है। इसमें तीन किराएदार रहते हैं। चौथी मंजिल पर कमरा खाली था। पांच दिन पहले सोनू तोमर (Sonu Tomar) निवासी भिंड उनके घर आया। उसके साथ महिला थी, जिसका नाम उसने आरती तोमर बताया। उसने कहा कि वह पति-पत्नी हैं, इसलिए किराए पर कमरा चाहिए। हरेंद्र ने उन्हें चौथी मंजिल पर कमरा किराए पर दे दिया। किराएदार से संबंधित जानकारी देने के लिए उसे फॉर्म हरेंद्र ने दिया और इनकी आईडी मांगी। सोनू ने अपनी आईडी दे दी।

शनिवार दोपहर में वह हरेंद्र से यह बोलकर गया कि वह कुछ दस्तावेज लेने के लिए भिंड जा रहा है। रविवार दोपहर में हरेंद्र ने सोनू के मोबाइल पर कॉल किया। सोनू से कहा कि उन्हें फॉर्म जमा करना है, इसलिए वह दस्तावेज दे दे। सोनू ने कहा कि वह ऊपर कमरे में जाकर आरती से ले लें। इसके बाद हरेंद्र ऊपर गए तो दरवाजा बंद था। दरवाजा खटखटाया तो काफी देर तक नहीं खुला। इसके बाद खिड़की से झांका तो आरती फांसी के फंदे पर लटकी थी। इसके बाद उन्होंने अन्य परिजन और पड़ोसियों को बताया। तुरंत पुलिस को सूचना दी गई। सूचना मिलने पर पुलिस आ गई। पुलिस ने सोनू को कॉल लगाया तो उसने नहीं उठाया। फिर अपना मोबाइल भी बंद कर लिया। पुलिस ने दरवाजा तोड़ा और शव को नीचे उतरवाया। शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। कमरे की तलाशी लेने पर आईडी मिली, जिसमें महिला का नाम आरती तिवारी लिखा था। पड़ताल में सामने आया कि महिला के पति का नाम नवीन तिवारी (Naveen Tiwari) है। वह एक साल से नवीन से अलग रह रही है। 

बिस्तर पर महिला की 3 आईडी मिलीं। आधार कार्ड में महिला का नाम आरती तिवारी (Aarti Tiwari) निवासी हीरानगर, इंदौर लिखा था। हीरानगर पुलिस से संपर्क किया तो इसकी पहचान नहीं हो सकी। फिर एक आईडी पर नाम आरती शर्मा लिखा था। एक ईमेल आईडी का प्रिंट मिला, जिसमें आरती पुरोहित लिखा था। तब मकान मालिक ने बताया कि सोनू ने उसे बताया था कि इटावा के इकदिल में नवीन तिवारी के यहां उसकी ससुराल है। इस पर पुलिस ने वहां संपर्क किया। तब जाकर नवीन से बात हुई फिर खुलासा हुआ कि नवीन उसका ससुर नहीं बल्कि पति है।