बारिश के लिए RAISEN में मेंढक की शादी, BHOPAL में जुमे की दुआ | MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश में बारिश के लिए अब इंद्रदेव को मनाने वाले टोटके शुरू हो गए हैं। रायसेन में मेंढक की बारात निकाली गई तो भोपाल में मुसलमानों ने जुमे की नम़ाज में अच्छी बारिश के लिए दुआ पढ़ी। 

रायसेन जिले में 13 दिन से बारिश नहीं होने से परेशान लोगों ने मेंढक के साथ मेंढ़की का धूमधाम से विवाह कराया और ढोल नगाड़ों के साथ बारात निकाली। इसमें बाराती झूमकर नाचे। मान्यता है कि मेंढक की बारात निकालने से इंद्रदेवता प्रसन्न होंगे और अच्छी बारिश होगी। रायसेन के वार्ड नंबर-18 में मेंढक की बारात निकाली गई। ढोल नगाड़ों के साथ वार्ड वासियों के घर-घर जाकर सामान इकट्ठा किया है, इसके बाद देवस्थान पर गए और दाल बाटी बनाकर इंद्रदेव को भोग लगाया। 

बारात सभी समाज के बड़े-बूढे शामिल हुए 

मेंढ़क-मेंढ़की की बारात निकाली गयी। बारात में बच्चे-बूढ़े और जवान सब शामिल हुए। असल में, रायसेन में लगातार 13 वें दिन बारिश नहीं हुई। मानसून पर ऐसा ब्रेक लगा है कि पिछले 13 दिन से जिले के किसी भी इलाके में बारिश की एक बूंद तक नही गिरी है। 

इंद्रदेव को मनाने के लिए टोना-टोटके का सहारा 

इसलिए लोग अब इंद्र देव को मनाने के लिए टोने टोटके का सहारा ले रहे हैं। बारात में बैंडबाजा भी था। बाराती भी झूमते-गाते चल रहे थे। बच्चों के उल्लास का तो जबाव ही नहीं था।

समाज के लोग मेंढक और मेंढकी को पकड़ कर उनकी बारात निकालते हैं। फिर मंदिर में शादी करने के बाद वापस छोड़ देते हैं। समाज के लोगों का मानना है कि मेंढक रानी की बारात निकालने के बाद इंद्र देव प्रसन्न होते हैं और इस अनुष्ठान के बाद इलाके में बारिश जरूर होती है। 

भोपाल में जुमा की दुआ


भोपाल। राजधानी समेत प्रदेश में अच्छी बारिश के लिए शुक्रवार को जुमा पर दोपहर 3 बजे, सेंट्रल लाइब्रेरी मैदान में नमाज (इस्तिसका) अदा की गई। यहां पर हजारों की संख्या में मुस्लिम समाज के लोग इकट्ठा हुए। मसाजिद कमेटी के मुताबिक नमाज के बाद अल्लाह से बारिश के लिए दुआ की गई। इस दौरान बादल चढ़ आए और बारिश भी होने लगी। हालांकि दुआ पूरी की गई। सदका और अस्तगफार भी किया गया।

इसके बाद शहर काजी सैय्यद मुश्ताक अली नदवी, मुफ्ती शहर अबुल कलाम कासमी, नायब काजी सैय्यद बाबर हुसैन नदवी और नायब मुफ्ती शहर जसीमदाद खान भी इस दुआ में शामिल रहे। शहर काजी ने लोगों के साथ दुआ की और अच्छी बारिश के लिए अल्लाह से फरियाद की।