Loading...

पंकज सिकरवार हत्याकांड: दिनभर पोरसा में छापामारी करती रही पुलिस, कुछ नहीं मिला | GWALIOR NEWS

ग्वालियर। प्रॉपर्टी डीलर एवं भाजपा नेता का भाई पंकज सिकरवार की हत्या कर फरार शूटरों सोनू, रिंकू शर्मा, परमाल तोमर, आंसू तोमर और साजिश कर्ताओं का मूवमेंट पुलिस को अंबाह व पोरसा में मिला है। सूचना मिलते ही क्राइम ब्रांच की चारो टीमें और हजीरा थाना पुलिस की टीमों ने पोरसा इलाके में दबिश दी। हालांकि अभी शूटरों और साजिशकर्ता पुलिस के हाथ नहीं आए है। पुलिस को दबिश के दौरान पता चला है कि एक शूटर दिल्ली में है। इसका पता चलते ही क्राइम ब्रांच की एक टीम दिल्ली रवाना की जा रही है। 

शूटरों की तलाश में गई पुलिस टीमों ने लोकल पुलिस को भी अपने साथ लिया है। शूटरों के छिपे होने की सूचना लोकल पुलिस से ही क्राइम ब्रांच तक पहुंची है, जिसके बाद सुबह तीन बजे क्राइम ब्रांच की चार टीमें और हजीरा थाना पुलिस पोरसा रवाना हुई है। यहां पर दबिश के दौरान पता चला है कि यहां पर आरोपी आए थे। साथ ही पता चला है कि शूटर तथा उनके साथी किसी भी जगह कुछ घंटे ही ठहर रहे है। 

प्रॉपर्टी डीलर पंकज पाण्डे की हत्या में शूटरों के शामिल होने पर अब पुलिस पता लगा रही है कि शूटरों का पैमेंट करने के लिए फायनेंसर कौन है, जिसने शूटरों का पैमेंट किया था। इसके लिए पिछले एक माह में इनके साथ मिलने जुलने वालों की लिस्ट बनाई जा रही है, जिससे उनके बैंक खातों से पता लगाया जा सके कि उन्होंने बड़ा पैमेंट तो नहीं किया है। हत्यारों के हाथ ना आने से इलाके में अभी भी दहशत का माहौल है कि इस गैंगवार में हमलावर किसी और को निशाना ना बना ले। 

सूचना देने वाले की भी तलाश

पुलिस अफसरों की माने तो शूटरों को पंकज सिकरवार की पल-पल की सूचना पहुंच रही थी, क्योंकि पंकज के नजर ना आने से पहले ही हमलावर अलर्ट हो गए थे और अपनी पोजीशन ले ली थी। इससे पुलिस को शंका है कि कहीं पंकज के साथ कोई भेदिया तो नहीं था। इसका पता लगाने के लिए पुलिस उसके आस-पास मौजूद लोगों की कॉल रिकॉर्ड खंगाल रही है।