Loading...

मिर्ची बाबा की FIR के कारण CM KAMAL NATH से देश भर के संत नाराज | NATIONAL NEWS

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का संरक्षण प्राप्त मिर्ची बाबा (MIRCHI BABA) उर्फ वैराग्यानंद महाराज ने बीते रोज अपने राजनीतिक प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री महंत नरेंद्र गिरि महाराज (MAHANT NARENDRA GIRI MAHARAJ) के खिलाफ भोपाल के अयोध्या नगर थाने में आपराधिक प्रकरण (FIR) दर्ज करा दिया। अब इसी एफआईआर के कारण पूरे देश के साधु संत सीएम कमलनाथ (CM KAMAL NATH) से नाराज हो गए हैं एवं भोपाल में बड़ा आंदोलन करने की योजना बना रहे हैं। 

संतों ने उत्तराखंड में हरीश रावत का घेराव किया

संतों ने उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत से राधा कृष्ण धाम में मुलाकात करके परिषद के अध्यक्ष के खिलाफ दर्ज मुकदमे में हस्तक्षेप करने की मांग की। हरीश रावत ने कहा कि संत समाज हमारे लिए पूज्यनीय हैं। उन्होंने आश्वासन दिया कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ से वार्ता कर मामले को निस्तारित कराया जाएगा।
विज्ञापन

जयराम आश्रम में साधुओं की बैठक आयोजित हुई

श्री जयराम आश्रम में आयोजित संतों की बैठक को संबोधित करते हुए जयराम पीठ के पीठाधीश्वर स्वामी ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी ने कहा कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ को पूरे मामले की निष्पक्ष जांच कर दूध का दूध पानी का पानी करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बिना जांच के ही गिरफ्तारी करने के आदेश दिया जाना तर्कसंगत नहीं है। श्रीमहंत नरेंद्र गिरि महाराज देश के संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। ऐसे प्रतिष्ठित संत के खिलाफ बिना जांच के मुकदमा दर्ज नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि कुछ लोग श्रीमहंत नरेंद्र गिरि की छवि को धूमिल करने की नीयत से प्रपंच रच रहे हैं। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री को पूरे मामले को संज्ञान लेकर मुकदमा वापस लेना चाहिए। 

इतने अखाड़े कमलनाथ सरकार के खिलाफ लामबंद हुए

आनंद पीठाधीश्वर स्वामी बालकानंद गिरि महाराज ने कहा कि पूरा मामला राजनीतिक द्वेष से प्रेरित है। कुछ राजनीतिक दल के नेता संत समाज को बदनाम करने की नीयत से इस तरह के प्रपंच रच रहे हैं। श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन के मुखिया महंत भगतराम महाराज, कालिका पीठाधीश्वर श्रीमहंत सुरेंद्रनाथ अवधूत, श्रीमहंत देवानंद सरस्वती, श्री पंच निर्मोही अणी अखाड़े के श्रीमहंत राजेंद्रदास महाराज, श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन के श्रीमहंत रघुमुनि, श्री पंच निर्वाणी अणी अखाड़े के श्रीमहंत धर्मदास महाराज सहित सभी अखाड़ों के संत महंतों ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज करने की निंदा की है। 

बैठक में ये साधु संत शामिल हुए

बैठक में महामंडलेश्वश्वर स्वामी हरिचेतनानंद, श्रीमहंत नारायण गिरि, महंत जसविंद्र सिंह, स्वामी कपिल मुनि महाराज, स्वामी चिदविलासानंद, स्वामी ऋषि रामकृष्ण, महंत लखन गिरि, महंत डोगर गिरि, श्रीमहंत आशीष गिरि, श्रीमहंत रविंद्रपुरी, महंत रामरतन गिरी, स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी, बाबा हठयोगी, महंत दुर्गादास, महंत विष्णुदास, महंत गौरीशंकर दास, महंत दलीप दास, श्रीमहंत विध्यानंद सरस्वती, सतपाल ब्रह्मचारी, श्रीमहंत प्रेमगिरि, श्रीमहंत विनोद गिरि आदि मौजूद थे। 

देशव्यापी आंदोलन होगा, दिल्ली में धरना देकर पीएम मोदी से मिलेंगे

संतों ने चेतावनी दी कि यदि मुकदमा वापस नहीं लिया तो देशव्यापी आंदोलन किया जाएगा। इसकी शुरूआत दिल्ली में धरना देकर की जाएगी। धरना की तिथि शीघ्र तय की जाएगी। धरने में देशभर के संत शामिल होंगे। बैठक में संतों ने तय किया कि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद समेत सभी तेरह अखाड़ों के संत देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात कर मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार के खिलाफ शिकायत दर्ज कराएंगे।