Loading...

आरक्षक भर्ती घोटाला: 7 पुलिस कर्मचारी बर्खास्त, FIR, फरार | CONSTABLE RECRUITMENT SCAM

भोपाल (MP POLICE CONSTABLE RECRUITMENT SCAM)। मध्यप्रदेश के दतिया जिले में 7 पुलिस कर्मचारियों को बर्खास्त किया गया है। सभी पुलिस कर्मचारियों के जाति प्रमाण पत्र जांच के दौरान फर्जी पाए गए थे। सेवा समाप्ति का आदेश जारी करने से पहले सभी कर्मचारियों के खिलाफ विभागीय जांच हुई एवं सभी को अपील का अवसर मिला। सभी 7 पुलिस कर्मचारियों के खिलाफ दस्तावेजों की कूटरचना एवं धोखाधड़ी का मामला भी दर्ज किया गया है। 

एसपी दतिया को यह जानकारी मिली थी कि 2017 में भर्ती आरक्षकों में से विजय मांझी, कालीचरण मांझी, सुरेंद्र मांझी, पंकज मांझी, संजीव केवट, छोटेलाल, अरुण बाथम ने फर्जी जाति प्रमाण पत्र प्रस्तुत कर नौकरी हासिल की है। शिकायत की विभागीय जांच के दौरान तथ्य प्रमाणित पाए गए। सभी के जाति प्रमाण पत्र फर्जी साबित हुए। इस पर एसपी ने सभी को नौकरी से बर्खास्त कर दिया। साथ ही सभी आरक्षकों के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया गया है। फिलहाल सभी आरक्षक फरार हैं।

दतिया में हुई थी पोस्टिंग
एसडीओपी गीता भारद्वाज ने कहा कि पुलिस विभाग के कुछ आरक्षकों पर केस दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2017-18 के दौरान भर्ती चयन प्रक्रिया के अंतर्गत आरक्षकों की भर्ती हुई थी। चुने गए कुछ आरक्षकों को दतिया में पदस्थ किया गया था। यहां पदस्थ किए गए आरक्षकों में से 7 के जाति प्रमाण पत्र फर्जी पाए गए हैं। इसे लेकर उनके खिलाफ कई धाराओं में मामले दर्ज किए गए हैं। उन्होंने कहा कि इन सभी आरक्षकों को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है।