मप्र के महू केंप से पाकिस्तान को सेना की सूचनाएं भेजी जा रहीं थीं | NATIONAL NEWS

Advertisement

मप्र के महू केंप से पाकिस्तान को सेना की सूचनाएं भेजी जा रहीं थीं | NATIONAL NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश के महू, इंदौर स्थित आर्मी केंप में तैनात बिहार निवासी एक जवान पाकिस्तान को भारतीय सेना की गोपनीय जानकारियां भेज रहा था। पूरे 1 माह की सर्विलांस के बाद पुख्ता सबूत मिल जाने पर उसे एटीएस ने गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की महिला जासूस ने उसे 'हनीट्रैप' का शिकार बना लिया था। 

जाल में फंसाया​ फिर दल दल में खींच लिया

बिहार का रहने वाला ये जवान महू में भारतीय सेना की एक यूनिट में क्लर्क के पाद पर तैनात था। उस पर शक है कि उसने पाकिस्तान को भारतीय सेना से जुड़ी जानकारियां भेजी हैं। जानकारी के मुताबिक़, इस जवान को पाकिस्तानियों ने फ़ेसबुक के जरिये फंसाया और वह पाकिस्तानी महिला के संपर्क में आया। धीरे-धीरे आर्मी जवान इस जाल में फंसता चला गया। 

सेना की लोकेशन, मूवमेंट भेजता था

सूत्रों की माने तो उसे भारतीय सेना की लोकेशन, मूवमेंट और एक्सरसाइज से जुड़ी जानकारी हासिल करने का टास्क दिया गया। आरोपी जवान आर्मी में अपने संपर्कों के जरिये संवेदनशील जानकारी हासिल कर रहा था और पाकिस्तान को भेज रहा था। वह इन सूचनाओं को फेसबुक और व्हाट्सएप के जरिये शेयर कर रहा था। यह भी माना जा रहा है कि इसके बदले उसे पैसे दिए जा रहे थे।

1 महीने तक सर्विलांस पर रखा, पुख्ता हुआ तो गिरफ्तार किया

आरोपी जवान की गतिविधियों से हरकत में आई इंटेलिजेंस एजेंसी ने जांच शुरू की और उस पर फिजिकल और इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस रखा। उसकी हर हरकत को ट्रैक किया गया। करीब एक महीने की निगरानी के बाद जब उसके खिलाफ सबूत मिले तो बुधवार (15 मई) को मध्य प्रदेश पुलिस की एटीएस टीम ने उसे हिरासत में ले लिया। फिलहाल उसके इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस की जांच कर उससे पूछताछ की जा रही है। यह जानने की कोशिश की जा रही है कि उसने किस तरह की सूचनाएं पाकिस्‍तान को मुहैया कराई है।

'हनीट्रैप' क्या होता है

यह महिलाओं द्वारा पुरुषों को फंसाने का एक तरीका है। महिला पहले बातचीत या मित्रता के बहाने नजदीक आती थी। फिर पुरुष को इशारों में उकसाती है और उसके तत्काल बाद वो कुछ इस तरह से प्रदर्शित करती है मानो पुरुष ने अपराध कर दिया और वो पीड़िता है। भारत के कानून पीड़िता के प्रति संवेदनशील हैं। पुरुष अपराधबोध से ग्रसित हो जाते हैं, कानूनी कार्रवाईयों से डर जाते हैं और महिला इसी का फायदा उठाकर ब्लैकमेल करती है।