Loading...

IG का भांजा और जज का भाई, साइबर अपराधी के शिकंजे में, मामला दर्ज | INDORE NEWS

इंदौर। आईजी पुलिस का भांजा एवं न्यायाधीश के भाई मोबाइल कंपनी में मार्केटिंग मैनेजर आशुतोष कुलश्रेष्ठ ने शिकायत की है कि कोई अज्ञात साइबर अपराधी उसे 1 महीने से तंग कर रहा है। उसके नाम से फर्जी फेसबुक आईडी बनाई, फिर एक महिला अधिकारी की फर्जी ईमेल आईडी बनाकर उसकी शिकायत कर दी। फिर उसकी फर्जी ईमेल आईडी बनाकर महिला की शिकायत कर दी। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है लेकिन अपराधी का पता नहीं लगा पाई है। 

लसूड़िया पुलिस के मुताबिक संग्रीला टाउनशिप निवासी 41 वर्षीय आशुतोष कुलश्रेष्ठ की शिकायत पर धोखाधड़ी और आईटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। आशुतोष ने पुलिस को बताया कि वह मोबाइल कंपनी में मार्केटिंग मैनेजर है। कंपनी का स्कीम-78 में ऑफिस है। दो महीने पहले ही उनका छत्तीसगढ़ तबादला हुआ है। भाई मंदसौर जिले में जज हैं। मामा आईपी कुलश्रेष्ठ पुलिस मुख्यालय में आईजी हैं। 14 अप्रैल को आरोपित ने आशुतोष के नाम से फेसबुक आईडी बना ली और विदेश में रहने वाले रिश्तेदारों को फ्रेंड्स रिक्वेस्ट भेज दी। उसने वाट्सएप स्टेट्स से फोटो निकाल लिया था। जैसे ही रिक्वेस्ट मिली रिश्तेदारों ने कॉल कर पूछा कि नई आईडी क्यों बनाई है। आशुतोष ने कहा कि उसने आईडी नहीं बनाई है। कुछ रिश्तेदारों ने फेसबुक को आपत्ति दर्ज कराई और आईडी बंद करवा दी। इसके बाद एक आईडी कंपनी प्रबंधन में काम करने वाली महिला अफसर के नाम से बनाई गई। इसके बारे में भी फेसबुक को शिकायत की और तुरंत बंद करवा दी।

मुंबई मुख्यालय ईमेल कर लगाया शोषण का आरोप, सकते में आ गए अफसर

आशुतोष के मुताबिक आरोपित ने 27 अप्रैल को महिला अफसर के नाम से एक फर्जी ईमेल मुंबई स्थित कंपनी के मुख्यालय में सीनियर शशिकांत गुप्ता और विशाल सिंहल को कर दिया। उसमें आशुतोष पर यौन शोषण का आरोप लगाया गया। कंपनी अफसर सकते में आ गए और आशुतोष से जवाब मांगा। आशुतोष ने कहा कि जिस महिला ने आरोप लगाया, वह उसे जानता नहीं है। कंपनी ने महिला से पूछताछ की तो उसने ईमेल करने से इनकार कर दिया। कंपनी इस बारे में छानबीन कर रही थी तभी 14 मई को आशुतोष के नाम से फर्जी ईमेल आईडी बना महिला अफसर के विरुद्ध प्रताड़ना की शिकायत कर दी गई। आशुतोष ने क्राइम ब्रांच को शिकायत की और आईडी एड्रेस, आईडी, ईमेल की जानकारी मुहैया करवाई। क्राइम ब्रांच ने रिपोर्ट तैयार कर थाने में केस दर्ज करवा दिया।