Advertisement

LIC अधिकारी हत्या करने के बाद व्यवसायी व युवक को चाकू मार भाग गया हत्यारा | INDORE NEWS



इंदौर। फूटी कोठी चौराहे पर बुधवार रात जहां बैरिकेड्स लगाकर पुलिस शराबी वाहन चालकों का चालान बना रही थी, वहीं मेन रोड पर हत्या हो गई। बदमाश ने लूट के लिए सीरियल चाकूबाजी करते हुए पहले एटीएम (ATM) से निकले एलआईसी अधिकारी (LIC officer) पर हमला कर जान ले ली, फिर फोन पर बहन से बात कर रहे कटलरी व्यवसायी (Cutlery Businessman,) को चाकू मार दिया। इसके बाद नवनीत गार्डन (Navneet Garden) के पास एक अन्य को चाकू मारकर भाग निकला। घटना के चार घंटे बाद भी अधिकारी वारदात के तार नहीं जोड़ पाए। तीन थानों का बल फुटेज के आधार पर हत्यारे की तलाश में जुटा। जिस जगह हत्या की वारदात हुई, उससे सौ मीटर दूर शराब की दुकान है जो देर रात तक खुली रहती है।   

द्वारकापुरी पुलिस के मुताबिक मृतक यतिन (Yatin Pise) (52) पिता माधवराव पीसे (Madhavrao Pise) निवासी सूर्यदेव नगर है। घायलों में राजेश (Rajesh Chhajlani)(40) पिता मुरारीलाल छजलानी (Murarilal Chhazlani) निवासी द्वारकापुरी और पुष्कर (Pushkar) नामक युवक है। घटना करीब 7.45 बजे की है। फूटी कोठी इलाके में द्वारकापुरी मेन रोड पर एक बदमाश अपने साथी का पीछा करते हुए किचनसेट की दुकान तक पहुंच गया। दुकान मालकिन कुछ समझ पाती, तब तक बदमाश अपनी जान बचाने के लिए दुकान में घुस गया। पीछा कर रहे बदमाश के हाथ में चाकू देख महिला घबरा गई। फिर हिम्मत दिखाते हुए उसे अंदर आने से रोका। इस पर बदमाश चला गया। कुछ ही समय बाद महिला ने देखा बदमाश एटीएम से बाहर निकल रहे यतिन के पास पहुंच गया। उनसे झूमाझटकी की और चाकू के छह वार किए। इससे यतिन वहीं गिर गए। बदमाश कूछ दूर चला और सड़क किनारे फोन पर बात कर रहे कटलरी व्यवसायी राजेश से रुपए मांगे। मना करने पर उनके पैर पर चाकू मार दिया। राजेश के मुताबिक आरोपित को उन्होंने ऑटो रिक्शा से जाते देखा था। बदमाश भागकर अन्नापूर्णा थाना क्षेत्र में पहुंचा। यहां गर्ल्स हॉस्टल के पास पुष्कर को चाकू मार दिया। पुलिस के मुताबिक किचनसेट की दुकान और हॉस्टल से पास से मिले सीसीटीवी फुटेज में दिखाई दे रहा बदमाश एक ही है।

यतिन के साले नीलेश ने बताया कि जीजा छावनी स्थित एलआईसी ऑफिस में प्रशासनिक अधिकारी थे। बुधवार शाम करीब छह बजे उन्होंने बहन के फोन नंबर पर फोन लगाया था। बहन दिन में घर द्रविड़ नगर आई थी। गलती से उसका मोबाइल छूट गया था। इस वजह से फोन मैंने उठाया था। जीजा ने बातचीत के दौरान बताया था कि वे ऑफिस से निकलकर घर आ रहे हैं। रास्ते में वे अपना वेतन निकालने के बाद द्रविड़ नगर आकर मोबाइल ले जाएंगे। फिर करीब एक घंटे बाद पुलिस ने फोन पर बताया कि जीजा को अस्पताल लेकर गए हैं।