LOKSABHA CHUNAV HINDI NEWS यहां सर्च करें




NPS: अब निकासी भी TAX फ्री, पढ़िए क्या नए बदलाव हुए | INVESTMENT PLAN

21 December 2018

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार नेशनल पेंशन स्कीम यानी NPS को लगातार अपग्रेड कर रही है ताकि कर्मचारी पुरानी पेंशन योजना OPS की मांग छोड़ दें। सरकार ने एनपीएस में अपना योगदान 14 प्रतिशत कर दिया है। अब NPS से पैसे निकालना टैक्स फ्री कर दिया गया है। अगर आप NPS में इनवेस्ट कर रहे हैं तो नियमों में होने जा रहे बदलावों को जान लीजिए। यहां हम आपको इन बदलावों से रूबरू करा रहे हैं।

अब तक NPS की मेच्योरिटी पर टैक्स लगता था। इस वजह से इसमें लोग निवेश से कतराते थे लेकिन अब NPS की मेच्योरिटी पर मिलने वाली 60 फीसदी रकम पर टैक्स माफ होगा। रिटायरमेंट या 60 साल की उम्र में NPS सब्सक्राइवर को 60 फीसदी पैसा निकालने की इजाजत है। जबकि 40 फीसदी पैसा एन्यूटी प्लान में इनवेस्ट करना होता है ताकि इससे सब्सक्राइवर को आगे नियमित पेंशन मिलती रहे। जो 60 फीसदी पैसा रिटायरमेंट के वक्त निकालने की इजाजत होती है उसमें से 40 फीसदी टैक्स फ्री होता है और बाकी 20 फीसदी पर टैक्स लगता है। बाकी जो 40 फीसदी पैसा एन्यूटी खरीदने के लिए इनवेस्ट किया जाता है, वह पूरी तरह टैक्स फ्री होता है।

नए बदलाव गवर्नमेंट और प्राइवेट सेक्टर दोनों के के लिए
NPS से निकासी पर टैक्स छूट का लाभ का नियम सरकारी और प्राइवेट इनवेस्टर दोनों के लिए लागू होगा। इससे NPS भी PPF और EPF जैसा हो जाएगा, जिसमें निवेश और निकासी पर टैक्स नहीं लगता। इस वक्त निकासी के समय NPS के सिर्फ 20 फीसदी पैसे पर टैक्स लगता है।

टियर 1 एनपीएस से रिटायरमेंट तक निकासी नहीं हो सकती लेकिन टियर 2 एनपीएस से निकासी हो सकती है। अभी तक नियमों के मुताबिक टियर 2 से पैसे से निकासी में कोई टैक्स बेनिफिट नहीं है।

सेंट्रल गवर्नमेंट कर्मचारियों के लिए सरकार का कंट्रीब्यूशन बढ़ेगा
NPS के दायरे में आने वाले सेंट्रल गवर्नमेंट के कर्मचारियों के खाते में सरकार का योगदान अब 14 फीसदी हो जाएगा। अब तक सरकार इसमें 10 फीसदी योगदान करती रही है। कर्मचारियों का योगदान 10 फीसदी ही रहेगा।

नए इनवेस्टमेंट पैटर्न भी आएंगे
NPS के दायरे में आने वाले सेंट्रल गवर्नमेंट के कर्मचारियों को पेंशन फंड मैनेजर के चुनाव में ज्यादा विकल्प मिलेंगे। साथ ही उनके लिए अब ज्यादा इनवेस्टमेंट पैटर्न भी होंगे। इनमें डेट इंस्ट्रूमेंट्स से लेकर इक्विटी और डेट दोनों के कॉम्बिनेशन वाले निवेश माध्यम होंगे।

घाटे की भरपाई के नियम को भी मिली मंजूरी
सेंट्रल गवर्नमेंट के कर्मचारियों के लिए 2004-2012 की अवधि में एनपीएस कंट्रीब्यूशन की देरी से जमा या जमा न होने पर घाटे की भरपाई को भी मंजूरी मिल गई है।

इनकम टैक्स बेनिफिट
जहां तक इनकम टैक्स बेनिफिट का सवाल है तो NPS टियर टू में निवेश करने वाले सरकारी कर्मचारियों को डेढ़ लाख तक के डिडक्शन वाले सेक्शन 80 सी का लाभ मिलेगा। हालांकि यह तीन साल के लॉक-इन पीरियड वाले इनवेस्टमेंट इंस्ट्रूमेंट्स पर ही लागू होगा।

इसका लाभ प्राइवेट सब्सक्राइवर को भी मिल सकता है। इससे NPS , ELSS के समकक्ष हो जाएगा. खास कर सेक्शन 80 सी के तहत टैक्स सेविंग्स इनवेस्टमेंट के न्यूनतम लॉक इन पीरियड के मामले में।

NPS यानी नेशनल पेंशन स्कीम पहले सरकारी कर्मचारियों के लिए लाई गई थी लेकिन अब इसमें गैर संगठित क्षेत्र में काम करने वालों लोगों के साथ देश का हर नागरिक इनवेस्ट कर सकता है।

NPS में दो तरह के अकाउंट होते हैं टियर 1 और टियर 2, टियर 1 में निवेश रिटायरमेंट के पहले नहीं निकाला जा सकता। जबकि टियर 2 अकाउंट से आप जब चाहे पैसे निकाल सकते हैं। यह अकाउंट स्वैच्छिक सेविंग स्कीम की तरह काम करता है।



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Suggested News

Loading...

Advertisement

Popular News This Week

 
-->