कमलनाथ निर्णय लें, बदला नहीं | EDITORIAL by Rakesh Dubey

21 December 2018

मध्यप्रदेश सरकार अर्थात मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ रोज नये निर्णय ले रहे हैं | निर्णय लेना उनका और २-४ दिन में बनने वाली उनकी कैबिनेट का अधिकार भी है | निर्णय कठोर हो या नाजुक, दोनों ही हालतों में निर्णय जरूरी हैं | साथ ही यह संदेश जाना भी जरूरी है कि सरकार बदल गई है, वो निजाम बदल गया है  | कुछ निर्णय जो अब तक किये हैं, जरूरी थे | कुछ में जल्दबाजी भी सामने आई है और कुछ जो होने जा रहे उनकी फैली सूचनाएं “ वक्त है बदलाव का “ को “वक्त  है बदले का “ जैसा बना रही है | सरकार को इससे बचना चाहिए | सरकार स्वभाव नारियल की भांति होना चाहिए, कड़ा प्रशासन  और लोकहित के निर्णय |

वचन पत्र के वचन निभाना जरूरी है, क्योंकि वही पैमाना होगा आने वाले लोकसभा चुनाव में | सावधानी भी जरूरी है, क्योंकि बिगड़ी नौकरशाही, सत्ता के इर्द-गिर्द मंडरा रहे दलाल सक्रिय हैं और इनके झांसे में कुछ इतना गलत भी हो जाने की उम्मीद से इंकार नहीं किया जा सकता, जो सरकार के ‘बदलाव’ के निर्णय ‘बदला’ जैसा दिखाने लगे | जैसे  सचिवालय में इन दिनों लोक सेवा आयोग द्वारा चयनित और नियुक्ति आदेश की प्रतीक्षा में घूम रहे सहायक प्राध्यापक | इन के बीच यह बात फैल गई है कि सरकार चयन  सूची रद्द करने जा रही है | यदि यह सही है तो खतरनाक और अफवाह है तो और ज्यादा खतरनाक | लोक सेवा आयोग के कुछ नतीजे आने भी वाले हैं, उनके साथ भी ऐसे ही सवाल चस्पा है | इस बारे में सरकार को यह सूचना देना और सरकार का यह मानना दोनों ही खतरनाक है कि इन परीक्षार्थियों में सबकी विचारधारा किसी एक दल से जुडी है | नीर-क्षीर विवेक की जरूरत है |  

 सरकार का काम निर्णय और प्रतिपक्ष का काम निगहबानी होता है | पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्विटर पर लिखा, “मैं सोया नहीं हूं, मैं जाग रहा हूं और मेरी पैनी नज़रें सरकार पर ही हैं.'' उनके इस भाव का स्वागत है | लेकिन वे देर से जागे हैं |जब मसनद पर थे, तब जागते तो बेहतर था | मसनद पर अब कोई और है अब आपके जागने या सोने से कोई अंतर नहीं होने वाला | जनता ने आपकी बादशाहत किसी और को सौंप आपको चौकीदारी दी है, उसे भी अब ईमानदारी से निभाएं | इसमें गफलत आने वाले चुनाव में भारी पड़ सकती है |

गफलत में कांग्रेस को भी नहीं रहना चाहिए | सरकार पार्टी की हो सकती है, पार्टी सरकार नहीं हो सकती | हर निर्णय पार्टी के वचन के अनुसार हो पर शैली सरकार की हो | सरकार का स्वरूप कल्याणकारी होता है, उसके निर्णय समाज में जो छबि निर्माण करते हैं उसका प्रतिसाद सरकार का स्थायित्व होता है | पार्टी को अपनी भूमिका तय कर  लेना  चाहिए और सरकार को भी |जिससे ठीक  निर्णय हों, ‘बदलाव’ दिखे ‘बदला’ नहीं |  
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->