लूट का बाजार ई-कामर्स | EDITORIAL by Rakesh Dubey

11 November 2018

दीपावली पर बहुत से लोगों ने ई कामर्स द्वारा अपनों को उपहार भेजे | यह धंधा भारत में करोड़ों ला चल रहा है |उत्पाद के नकली   होने और किसी चीज के स्थान पर कुछ और भेजने की कई शिकायतें सामने आई हैं |  'लोकल सर्किल्स' नामक संस्था द्वारा कराये गये एक ताजा सर्वेक्षण से पता चलता है कि ई-कॉमर्स के जरिये बेचे जा रहे हर पांच में से एक उत्पाद नकली है| अगर कोई वस्तु सौंदर्य प्रसाधन, इत्र आदि श्रेणी का है, तो फिर इसके नकली होने की आशंका सबसे ज्यादा है| 

संस्था द्वारा किये गये सर्वेक्षण के मुताबिक ई-कॉमर्स की ज्यादातर महत्वपूर्ण साइटों पर २० से ३७ प्रतिशत नकली उत्पाद बेचे जा रहे हैं| त्योहारी खरीद के मौसम में ई-कॉमर्स की वेबसाइटों ने ग्राहकों को लुभाने के लिए उत्पादों पर बड़ी आकर्षक पेशकश की थी | इस माहौल में नकली उत्पाद के शिकार ग्राहकों की संख्या भी बढ़ी है| हालांकि अपनी और ब्रांड की साख को बचाये रखने के लिए बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियां सावधानी बरतने की कोशिश करती हैं, लेकिन उनके इंतजाम कारगर साबित नहीं हो पा रहे हैं| 

इन  दिनों ई-कॉमर्स के बाजार का तेज प्रसार है|  ऑनलाइन खरीद-बिक्री में जवाबदेही का स्वायत्त ढांचा खड़ा करने के लिए नियमन के साथ ग्राहकों में पर्याप्त जागरूकता भी जरूरी है| ऐसे ढांचे के बगैर फिलहाल हमें इसी बात से संतोष करना होगा कि अपनी कमियों और खामियों को सुधारने की क्षमता बाजार में है| यह उम्मीद भी गलत नहीं है कि बढ़ती प्रतिस्पर्धा में टिके रहने और अपने बाजार का विस्तार करने के लिए ई-कॉमर्स में सक्रिय कंपनियां खुद ही नकली सामानों की बिक्री पर रोक लगाने की कोशिश करेंगी| इंटरनेट, स्मार्ट फोन और डिजिटल भुगतान सुविधाओं की बढ़ोतरी के साथ ई-कॉमर्स के व्यापक होते जाने की संभावनाएं बलवती हैं| आर्थिक विकास और रोजगार के अवसरों के बढ़ने में भी इनका अहम योगदान है|

उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार देश में ई-कॉमर्स के बाजार का आकार २०१७   ३८ अरब डॉलर का था | जिसके २०२०  तक ६४ अरब डॉलर पहुंचने का अनुमान है| यह बाजार अभी ५१ प्रतिशत की वार्षिक  दर से बढ़ रहा है, जो कि दुनिया में किसी भी देश से ज्यादा है|कोई भी ई-कॉमर्स साइट नहीं चाहेगी कि ग्राहकों में उसकी नकारात्मक छवि बने और इस बड़ते माहौल में वह पीछे रह जाये| ग्राहकों को भी खरीदारी करते समय, खासकर ज्यादा छूट या कैशबैक के साथ बेची जा रही चीजों के मामलों में, अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए  | संबद्ध सरकारी संस्थाओं को भी निगरानी और शिकायतों पर अधिक गंभीर होने की जरूरत है|
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->