मैं आपको उबारने के लिए मुख्यमंत्री बना हूं, डूबने नहीं दूंगा: शिवराज सिंह चौहान | mp election news

13 October 2018

सुल्तानगंज/गैरतगंज। बेगमगंज और सुल्तानगंज में कोई भी गांव बांध के कारण डूबेगा नहीं। मैं आपको उबारने के लिए मुख्यमंत्री बना हूं, डूबने नहीं दूंगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने यह बात शनिवार को रायसेन जिले के सुल्तानगंज में जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान आयोजित जनसभा में कही। मुख्यमंत्री ने सभा में उपस्थित लोगों को आश्वस्त किया कि कोई गांव डूब में न आए, इसके लिए अधिकारियों को निर्देश दे दिए हैं।

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की जनआशीर्वाद यात्रा शनिवार को रायसेन-विदिशा जिलों के ग्रामीण अंचल में पहुंची। यात्रा की शुरुआत रायसेन जिले के सुल्तानगंज से हुई। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान शनिवार सुबह हेलीकॉप्टर से सुल्तानगंज पहुंचे। हेलीपैड पर स्थानीय कार्यकर्ताओं और नेताओं ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया। हेलीपैड से सभा स्थल की ओर जाते समय रास्ते में स्थानीय लोककलाकारों ने पारंपरिक नृत्य से मुख्यमंत्री का गर्मजोशी से स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने यहां आमसभा को संबोधित किया। इस दौरान मंच पर प्रदेश के लोकनिर्माण मंत्री रामपाल सिंह सहित अन्य नेता और पदाधिकारी उपस्थित थे।

चौथी बार आशीर्वाद दें, बची हुई सड़क भी बन जाएगी

सुल्तानगंज में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि स्थानीय लोगों ने मुझे डूब में आने वाले गांवों के बारे में बताया है। मंत्री रामपाल सिंह ने भी इसका जिक्र किया है कि सुल्तानगंज और बेगमगंज के करीब 27 गांव प्रस्तावित बांध के कारण डूब में आ रहे हैं। आप चिंता न करें,  मैंने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को ताकीद किया है कि एक भी गांव डूब में नहीं आना चाहिए। मैं आप लोगों को उबारने के लिए मुख्यमंत्री बना हूं,  किसी को डुबोने के लिए नहीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आपके विधायक और मंत्री रामपाल सिंह ने सिलवानी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत गांव-गांव तक सड़कों का जाल फैला दिया है। उन्होंने इस काम पर करीब 900 करोड़ रुपए खर्च किए हैं और वह बधाई के पात्र हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर कोई सड़क और बाकी रह गई होगी, तो मुझे चैथी बार आशीर्वाद दें, बाकी सड़कें भी बन जाएंगी।

कांग्रेस के राज में काला पानी कहलाता था सुल्तानगंज

मुख्यमंत्री ने कहा कि सुल्तानगंज का आज जो स्वरूप दिखाई दे रहा है, वह पहले नहीं था। अंग्रेजों के जमाने से लेकर कांग्रेस के शासनकाल तक इसे काला पानी के रूप में जाना जाता था। कोई भी सरकारी अधिकारी या कर्मचारी यहां नौकरी करना पसंद नहीं करता था। कारण यह था कि न यहां सड़कें थीं, न आने-जाने के साधन थे और बिजली न होने के कारण अंधेरा छाया रहता था। शाम होते ही लोग घरों में दुबक जाते थे। अंधेरा होने के कारण कोई बाहर निकलना पसंद नहीं करता था। जब से भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी है,  हमने हर घर में उजाला किया है। गांव-गांव में सड़कें बनी हैं। स्कूल बन रहे हैं। हर गांव-कस्बे में मानव जीवन के लिए जरूरी सभी प्राथमिक सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं। सुल्तानगंज भी बदल गया है,  अब कोई इसे काला पानी नहीं कहता है।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->