Loading...

भाजपा-कांग्रेस प्रत्याशियों को प्रचार नहीं करने देेंगे, चाहे कुछ हो जाए: करणी सेना | Bhopal mp news

भोपाल। करणी सेना एससी-एसटी एक्ट में किए गए संशोधन का विरोध करती है। शिकायत होने पर बिना जांच गिरफ्तारी का प्रावधान न्यायसंगत नहीं है। हम आर्थिक आरक्षण की मांग करते हैं। करणी सेना चुनाव नहीं लड़ेगी, लेकिन समान विचारधारा वाले दल का समर्थन करेगी। सेना ने प्रदेशभर में सर्वे करवाया है और सवर्ण समाज हमारे पक्ष में है। यह बात श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी ने कही। वे बुधवार को भोपाल में थे। 

SC-ST ACT पीड़ित सवर्णों को मुआवजा दे सरकार
श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी ने सोमवार को यहां मीडिया से कहा कि विदिशा जिले में एससी-एसटी एक्ट से पीड़ित राजेंद्र सिंह राजपूत द्वारा की गई आत्महत्या के मामले में दोषी सुुंदरलाल अहिरवार के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो। मृतक के परिजन को सरकारी नौकरी आैर एक करोड़ रुपए मुआवजा दिया जाए। उन्होंने बताया कि प्रदेश के कई जिलों में महाराणा प्रताप की पेंटिंग को पोत दिया गया। ऐसा उस स्थिति में किया गया जब करणी सेना चुनाव नहीं लड़ रही है। 

भाजपा-कांग्रेस प्रत्याशियों को प्रचार नहीं करने देेंगे
कांग्रेस-भाजपा नेता एट्रोसिटी एक्ट को लेकर टिप्पणी करने से बच रहे हैं। हमने तय किया है कि भाजपा-कांग्रेस प्रत्याशियों को प्रचार नहीं करने देेंगे। भले ही कुछ भी हो जाए। जनता को इनकी हकीकत बताएंगे। जगह-जगह इनके खिलाफ पोस्टर लगाएंगे। अब तक सवर्ण वोटर भाजपा के साथ था, लेकिन भाजपा ने अपने मूल वोटर पर ही ध्यान नहीं दिया। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com