भाजपा के 2 मंत्री, 4 पूर्व मंत्री, 8 विधायक और 50 से ज्यादा दिग्गज नेता कांग्रेस की ​लिस्ट में

08 June 2018

भोपाल। पिछले दिनों कमलनाथ ने बयान दिया था कि भाजपा के कई नेता उनके संपर्क में हैं। आज नेताप्रतिपक्ष अजय सिंह ने शहडोल के भाजपा नेता नरेंद्र मरावी को कांग्रेस ज्वाइन कराते हुए दोहराया कि यह तो शुरूआत है। अभी कई नाम बाकी हैं। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि इस दिशा में बड़े पैमाने पर तैयारियां की जा रहीं हैं। भाजपा में ऐसे दिग्गज नेताओं के नाम निकाले जा रहे हैं जो आरएसएस की पृष्ठभूमि से नहीं हैं और शिवराज सरकार से नाराज हैं या फिर संगठन में उन्हे महत्व नहीं मिला। मजेदार बात यह है कि इस लिस्ट में पूर्व मंत्री सरताज सिंह का नाम है लेकिन बाबूलाल गौर का नाम नहीं है। चौंकाने वाली बात यह है कि कांग्रेस की कथित लिस्ट में भाजपा के 2 मंत्री एवं 8 विधायकों के नाम दर्ज किए जा चुके हैं। 

पहली बार कांग्रेस एक एक विधानसभा सीट पर भाजपा के असंतुष्टों की पहचान कर रही है। उनका सबसे पहला टारगेट है ऐसे नेता जो शुद्ध रूप से भाजपा के हैं। जिनकी पृष्टभूमि में आरएसएस नहीं आता। कांग्रेसी रणनीतिकारों का मानना है कि उन्हे आसानी से भाजपा से बाहर निकाला जा सकता है और इससे कांग्रेस मजबूत होगी। इस लिस्ट में कांग्रेस के 2 दिग्गज मंत्रियों के नाम भी शामिल हैं। एक वो हैं जिनसे मंत्रीमंडल विस्तार के दौरान एक आईएएस के कहने पर उनका विभाग छीन लिया गया था और दूसरे वो जिन्हे संकेत दिया जा चुका है कि 2018 में उन्हे टिकट नहीं दिया जा सकेगा। सूत्रों का कहना है कि दोनों में से एक मंत्री की तो दिल्ली में कमलनाथ से मुलाकात भी हो चुकी है। हालांकि उस दौरान दलबदल के बारे में कोई चर्चा नहीं हुई लेकिन दोनों जानते थे कि वो किसलिए मिल रहे हैं। 

ये हैं कुछ नाम जो लीक हो गए
कांग्रेस की तैयारियों के बीच कुछ नाम लीक हो गए हैं। कमलनाथ के कुछ भरोसेमंद नेता या तो इनके संपर्क में आ गए हैं या इनसे संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं। कुछ नाम इस प्रकार हैं: 
सरताज सिंह: जिन्हे फार्मूला 75 के नाम पर मंत्री पद से हटा दिया गया था। बाद में पता चला कि अमित शाह ने ऐसा कोई आदेश दिया ही नहीं था। 
अजय विश्नोई: पिछले 5 साल से ठंडे बस्ते में। ना सत्ता में ना संगठन में। 
राकेश चौधरी: कांग्रेस से भाजपा में गए थे परंतु भाजपा ने वादे पूरे नहीं किए। घरवापसी की तैयारी में हैं। 
अनूप मिश्रा सांसद मुरैना: भाजपा में महत्व नहीं दिया जा रहा। क्षेत्र का पटवारी भी नहीं सुनता। कई बार अपना दर्द पार्टी मंच पर रख चुके हैं परंतु ना तो भोपाल से राहत मिली ना दिल्ली से। 

इसके अलावा कुछ और नाम इस प्रकार हैं: 
नीलम मिश्रा अभय मिश्रा रीवा
रमेश शर्मा गुट्टू भैया
उदय प्रताप सिंह सांसद
सुधा जैन पूर्व विधायक सागर 
कमलापत आर्य पूर्व विधायक भांडेर
बोधसिंह भगत सांसद बालाघाट 
नीता पटेरिया पूर्व सांसद 
जसपाल अरोरा सीहोर 
तेज सिंह सेंधव पूर्व विधायक शाजापुर 
पूर्व मंत्री बद्रीलाल यादव राजगढ़ 
वीरेन्द्र रघुवंशी पूर्व विधायक शिवपुरी
भैया साहब लोधी पिछोर 
मुकेश चौधरी विधायक मेहगांव 
केपी सिंह भदौयिा भिंड 
जितेन्द्र बुंदेला पूर्व सांसद छतरपुर 
BHOPAL SAMACHAR | HINDI NEWS का 
MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए 
प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->