ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक पूर्व मंत्री, शिवराज सरकार के खिलाफ धरने पर बैठीं, दिनभर हंगामा- GWALIOR NEWS

ग्वालियर
। ज्योतिरादित्य सिंधिया के नजदीकी नेता अपनी ही भाजपा सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। कुछ दिनों पहले कैबिनेट मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने अपने क्षेत्र की एक सड़क बनवाने के लिए जूते चप्पल त्याग दिए थे। अब पूर्व मंत्री श्रीमती इमरती देवी हत्या के आरोपियों के घर बुलडोजर चलवाने और टीआई को हटाने की मांग को लेकर दिन भर धरने पर बैठी रही। उनके साथ बघेल समाज के सैकड़ों लोग भी मौजूद थे।

डबरा में प्रशांत बघेल हत्याकांड का संक्षिप्त विवरण

डबरा के हनुमान कॉलोनी में रहने वाले 22 वर्षीय प्रशांत बघेल पुत्र इंदर का जवाहर कॉलोनी में रहने वाले जसपाल उर्फ बिल्लो और उसके साथियों से हफ्ते भर पहले विवाद हुआ था। इस विवाद के बाद दोनों पक्षों के बीच मंदिर में बैठकर समझौता भी हो गया। बुधवार रात करीब 8 बजे प्रशांत अपने घर के बाहर खड़ा था। आरोप है कि इसी दौरान जसपाल और उसके साथियों ने प्रशांत पर 10 राउंड फायर किए। जिसमें 3 गोलियां प्रशांत को लगीं। प्रशांत की मौके पर ही मौत हो गई। दोनों के बीच विवाद का मुख्य कारण इलाके में अपना दबदबा कायम रखना था। आरोपी जसपाल सिंह के खिलाफ कई आपराधिक प्रकरण दर्ज है और मृतक प्रशांत बघेल ने फोन पर उसे धमकी दी थी। 

डबरा में पुलिस ने इमरती देवी को घेर लिया था

प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व करते हुए पूर्व मंत्री एवं भाजपा की महिला नेता श्रीमती इमरती देवी ने मध्य प्रदेश पुलिस के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए। उनकी पहली मांग थी कि डबरा थाने के टीआई को हटाया जाए और हत्या के आरोपियों का बुलडोजर चलाकर घर तोड़ दिया जाए। कलेक्टर और एसपी दोनों ने इमरती देवी की मांग को अस्वीकार कर दिया। इमरती देवी और उनके साथी प्रदर्शनकारियों को कंट्रोल करने के लिए आसपास के 5 पुलिस थानों की फोर्स भेज दी गई। एडिशनल एसपी जयराज कुबेर किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार थे। 

इमरती देवी ने ज्योतिरादित्य सिंधिया की प्रतिष्ठा दांव पर लगा दी

पूर्व मंत्री इमरती देवी ने प्रदर्शन के दौरान लोगों को बताया कि उनकी श्रीमंत महाराज साहब ज्योतिरादित्य सिंधिया से बात हो गई है। उन्होंने आश्वासन दिया है कि आरोपियों के घर तोड़े जाएंगे और डबरा थाने के टीआई को भी हटाया जाएगा। इसके बाद धरना समाप्त हो गया। कुल मिलाकर इमरती देवी ने ज्योतिरादित्य सिंधिया की प्रतिष्ठा एक बार फिर दाव पर लगा दी है।

इमरती देवी ने मुख्यमंत्री को बड़े आंदोलन की धमकी दी थी 

डबरा टीआई से इमरती देवी का फंदा काफी पुराना है। भाजपा के प्रदेश कार्यालय में कहा जाता है कि इमरती देवी डबरा विधानसभा के अंतर्गत आने वाले सभी थानों में अपनी पसंद के टीआई नियुक्त कराने की कोशिश करती है। डबरा विधानसभा, मध्य प्रदेश के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा का क्षेत्र भी है। कहा जाता है कि डबरा थाना प्रभारी की नियुक्ति इमरती देवी की मंजूरी से नहीं हुई इसलिए वह लगातार पुलिस के खिलाफ बयान दे रही है। दिनांक 26 नवंबर को ही इमरती देवी ने थाना प्रभारी को लुटेरा कहते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान को चेतावनी दी थी कि यदि 7 दिन के भीतर कुछ नहीं किया तो डबरा में बहुत बड़ा आंदोलन होगा।