सूर्य ग्रहण- क्या करें क्या ना करें, यहां पढ़िए विधि एवं विधान - Surya grahan time, what to do what not to do

Surya grahan time and what to do what not to do

भारत में सूर्य ग्रहण दिनांक 25 अक्टूबर 2022 को शाम 4:30 से 5:30 बजे तक रहेगा लेकिन इसके 12 घंटे पहले यानी दीपावली पूजा के बाद रात 4:00 बजे से सूतक लग गया है। राशिफल के अनुसार जिन लोगों के लिए सूर्य ग्रहण शुभ नहीं है, वह लोग 4:00 बजे से 6:00 बजे तक यदि संभव हो तो किसी कमरे को बंद करके अपने इष्टदेव का ध्यान करें। भजन करें। योगा करें। इसके अलावा जो भी धार्मिक गतिविधि करना चाहे कर सकते हैं जिसमें भगवान की प्रतिमाओं और चित्र का उपयोग नहीं होता हो। 

सूर्य ग्रहण के सूतक काल में क्या करें क्या ना करें 

✔ सूतक काल में न ही भोजन बनाया जाता है और न ही ग्रहण किया जाता। हालांकि बीमार, वृद्ध और गर्भवती महिलाओं के लिए इस तरह के नियम लागू नहीं हैं। 
✔ यदि भोजन पहले से बना रखा है तो उसमें तुलसी का पत्ता तोड़कर डाल दें। दूध और इससे बनी चीजों, पानी में भी तुलसी का पत्ता डालें। तुलसी के पत्ते के कारण दूषित वातावरण का प्रभाव खाद्य वस्तुओं पर नहीं पड़ता। 

✔ सूतक लगने के साथ गर्भवती महिलाएं विशेष रूप से ध्यान रखें। सूतक काल से लेकर ग्रहण पूरा होने तक घर से न निकलें और अपने पेट के हिस्से पर गेरू लगाकर रखें। 
✔ सूतक काल से ग्रहण काल समाप्त होने तक गर्भवती स्त्रियां किसी भी प्रकार की नुकीली वस्तुओं का इस्तेमाल न करें। 
✔ सूतक काल में घर के मंदिर में भी पूजा पाठ न करें। इसके स्थान पर मानसिक जाप करना फलदायी रहेगा।