BHOPAL की सड़कें- मुख्यमंत्री ने इमरजेंसी मीटिंग बुलाई, 15 दिन का अल्टीमेटम- NEWS TODAY

भोपाल
। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की सड़कें इतनी ज्यादा खराब हो गई है कि इसका प्रेशर सीएम शिवराज सिंह चौहान पर भी दिखाई दिया। उन्होंने मंगलवार की रात सड़कों का निरीक्षण किया और बुधवार की सुबह इमरजेंसी मीटिंग बुलाकर अधिकारियों को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया। 

भोपाल की सड़कों की ऐसी दुर्गति, मैंने कल्पना नहीं की थी: मुख्यमंत्री

बुधवार की सुबह सीएम शिवराज सिंह चौहान ने नगर निगम और लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को एक इमरजेंसी मीटिंग में कॉल किया। 5 साल पहले मुख्यमंत्री, भोपाल की सड़कों की तारीफ करते नहीं थकते थे। सन 2018 में उन्होंने भोपाल की सड़कों को वाशिंगटन की सड़कों से अच्छा बताया था। सन 2022 में सड़कों की हालत ऐसी थी कि सीएम शिवराज सिंह चौहान को कहना पड़ा कि, भोपाल की सड़कों की इतनी दुर्गति हो गई है कि मैंने कल्पना नहीं की थी। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारियों को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया है। 

पूरे मध्यप्रदेश की ऐसी दुर्गति हुई है, मुख्यमंत्री ने कल्पना नहीं की होगी: उमाकांत

पॉलिटिकल क्रिटिक उमाकांत कश्यप का कहना है कि केवल भोपाल की सड़कें ही नहीं बल्कि पूरे मध्यप्रदेश की ऐसी दुर्गति हुई है कि शिवराज सिंह चौहान ने कल्पना नहीं की होगी। शिवराज सिंह जब से तीसरी बार मुख्यमंत्री बने हैं, एक साजिश के तहत उन्हें माया जाल में फंसा दिया गया है। कई बार तो उन्हें फर्जी विकास दिखा दिया जाता है। उनके पास कोई सोर्स ही नहीं है जिससे उन्हें ग्राउंड जीरो की स्थिति का पता चल सके। शिवराज सिंह के पास जो इंफॉर्मेशन का नेटवर्क है, उस में वायरस आ गया है। 

श्री कश्यप का कहना है कि ऐसा पहली बार नहीं हो रहा। इतिहास में कई बार हुआ है। जब कोई सफलता के शिखर पर पहुंचने लगता है तो उसके आसपास एक ऐसी लेयर बन जाती है जो सही जानकारियों को उसके पास तक पहुंचने ही नहीं देती।