MP SCHOOL EDUCATION जिला शिक्षा अधिकारियों की रैंकिंग JUNE-AUG 2022

छतरपुर जिला टॉपर है। इसके अलावा बालाघाट छिंदवाड़ा पन्ना दमोह खंडवा कटनी शहडोल सिवनी निवाड़ी सीहोर शाजापुर टीकमगढ़ सीधी और होशंगाबाद जिलों ने ए ग्रेड हासिल किया है। इन सभी के अंक 75 से अधिक है। सबसे खराब स्थिति रतलाम की है। रतलाम को सी ग्रेड मिला है और पूरे 52 जिलों में अकेला रतलाम जिला ऐसा है जिसे सी ग्रेड मिला है।

पिछले 3 महीने में सबसे अच्छी और सबसे खराब जिले

समग्र शिक्षा अभियान मध्य प्रदेश डिस्ट्रिक्ट रिपोर्ट कार्ड के अनुसार पिछले 3 महीनों में सबसे अच्छा परफॉर्मेंस निवाड़ी गुना कटनी टीकमगढ़ सतना पन्ना सीधी बड़वानी शिवपुरी और खंडवा का है। उपरोक्त सभी जिलों ने पिछली तिमाही की तुलना में इस तिमाही में अच्छी ग्रोथ हासिल की है। इसके विपरीत मुरैना उमरिया नीमच अनूपपुर जबलपुर इंदौर भिंड भोपाल नरसिंहपुर और बैतूल का परफॉर्मेंस सबसे खराब रहा। इनकी रैंक में भारी गिरावट दर्ज हुई है।

धनराजू एस (आईएएस) संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र ने बताया कि शिक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा निर्देशित किया गया था कि जिला, जनपद तथा शालाओं की रैंकिंग प्रणाली विकसित की जाए ताकि जिलों के मध्य एक स्वस्थ्य प्रतिस्पर्धा की भावना उत्पन्न हो सके। 

निर्देश के अनुक्रम में राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा प्रारंभिक शिक्षा (कक्षा 1 से 8) हेतु समग्र शिक्षा योजना अंतर्गत संचालित कार्यक्रम एवं गतिविधियों के साथ ही छात्रों के learning Outcomes, (सीखने के प्रतिफल ) शिक्षकों को क्षमता संवर्धन, शालाओं में उपलब्ध संसाधन और विभिन्न मूल्यांकनों में शालाओं के प्रदर्शन आदि को ध्यान में रखते हुए, प्रदर्शन आधारित रेकिंग तैयार किया गया है। इस रैंकिंग में 6 मुख्य घटकों के अंतर्गत 32 पैरामीटर सम्मिलित हैं। 

उक्त सभी पैरामीटर्स विभाग के पास उपलब्ध विभिन्न data sources से संकलित किया गया है। मुख्य घटको तथा पैरामीटर्स के महत्व के आधार पर उनकी प्राथमिकता निर्धारित की गई है। 

उपरोक्त प्राथमिकताओं तथा गणना प्रणाली के अनुसार शैक्षणिक सत्र 2022-23 प्रथम तिमाही में प्रदर्शन के आधार पर प्रदेश के सभी 52 जिलों की रैकिंग की गई है, जो संलग्न तालिका में दर्शित है। आपको याद दिलाना चाहूँगा कि मई 2022 में सत्र 2021-22 के प्रदर्शन आधारित रैंकिंग जारी की गयी थी, वर्तमान रैंकिंग में यह देखा गया है की कुछ जिलों ने अपना performance बेहतर किया है जबकि कई जिले विगत रैंकिंग के मुकाबले खराब स्थिति में हैं। 

सत्र 2022-23 की द्वितीय तिमाही रैंकिंग (सितम्बर अक्टूबर एवं नवम्बर) दिसम्बर माह में जारी किया जायेगा। इस तिमाही हेतु वर्तमान पैरामीटर्स के अतिरिक्त राज्य शिक्षा केंद्र की प्राथमिकतायें निम्नानुसार रहेंगी:
हाज़री ऐप पर दर्ज शिक्षक तथा छात्रों का उपस्थिति प्रतिशत
FLN कक्षाओं का बेहतर संचालन तथा मेंटरिंग
माह नवम्बर में संचालित होने वाली NMMS परीक्षा में छात्रों की भागीदारी
नवम्बर के तीसरे सप्ताह में आयोजित होने वाली समेकित ओलंपियाड में छात्रों की भागीदारी
Leap for Word कार्यक्रम अंतर्गत English Language Learning प्रशिक्षण में शिक्षकों की सहभागिता HGHV कार्यक्रम अंतर्गत Chatbot आधारित साप्ताहिक quiz कार्यक्रम में छात्रों की भागीदारी
कक्षा 5वीं तथा 8वीं की माह नवम्बर में आयोजित होने वाली अर्द्धवार्षिक परीक्षा में छात्रों की भागीदारी (शासकीय तथा निजी विद्यालय) आशा है कि उक्त विश्लेषण के आधार पर जिले की रैकिंग की सुधारात्मक पहल आपके नेतृत्व में की जायेगी।