BHOPAL NEWS- कर्मचारी को थप्पड़ के बदले मकान क्यों तोड़ा, मानवाधिकार आयोग का नोटिस

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के कलेक्टर, नगर निगम कमिश्नर एवं एसीपी भोपाल सिटी को मानव अधिकार आयोग ने एक नोटिस जारी करके जवाब मांगा है। नगर निगम ने न्यू मार्केट में एक कर्मचारी को थप्पड़ मारने वाले व्यक्ति की मां कि मकान पर बुलडोजर चला दिया है। नगर निगम की इस कार्रवाई की निंदा की जा रही है और कांग्रेस पार्टी ने इसे मुद्दा बना लिया है। 

न्यू मार्केट भोपाल में नगर निगम कर्मचारी और दुकानदारों में लड़ाई हुई थी

दिनांक 20 अगस्त को राजधानी भोपाल के न्यू मार्केट में नगर निगम द्वारा अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की जा रही थी। दुकानदारों द्वारा इस कार्रवाई का विरोध किया गया। विवाद इतना बढ़ा कि नगर निगम के कर्मचारियों और दुकानदारों के बीच मारपीट भी हुई। इसके बाद नगर निगम के कर्मचारियों ने खुद को घायल बताते हुए मेडिकल कराया और टीटी नगर पुलिस थाने में अल्ताफ खान एवं मनोज लोधी आदि के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा का मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने कुछ आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। 

जिसने चांटा मारा नगर निगम ने उसकी मां का मकान तोड़ दिया

आरोप लगाया जा रहा है कि अल्ताफ ने नगर निगम के अतिक्रमण अधिकारी साकेत को चांटा मारा था इसलिए 27 अगस्त को बाणगंगा क्षेत्र में उसकी मां के मकान को अतिक्रमण में बताते हुए तोड़ दिया गया। महिला लगातार बताती रही कि उसका बेटा उसके साथ नहीं रहता। नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष शबिस्ता जकी ने भी इस प्रकार बदले की कार्रवाई का विरोध किया परंतु भारी पुलिस बल के बीच मकान पर JCB चला दी गई।

आरोपी गिरफ्तार हो गया था तो फिर बदले की कार्रवाई क्यों की

घटना के समय मौजूद आम नागरिकों ने इस प्रकार की कार्रवाई की निंदा की। कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने इसे मुद्दा बना लिया और मानव अधिकार आयोग में अध्यक्ष न्यायमूर्ति श्री नरेंद्र कुमार जैन के समक्ष महिला को शिकायत सहित प्रस्तुत किया गया। शिकायत के आधार पर मानवाधिकार आयोग ने मामले का संज्ञान लिया एवं कलेक्टर, कमिश्नर नगर निगम एवं एसीपी भोपाल शहर को नोटिस जारी करके पूरी रिपोर्ट मांगी है। इस मामले में दुकानदारों का कहना है कि जब आरोपी फरार नहीं है, उसकी गिरफ्तारी हो गई है तो फिर उसकी मां का मकान तोड़ने की क्या जरूरत थी।