MPTET वेटिंग वाले शिक्षक राजधानी में बड़े प्रदर्शन की तैयारी में- NEWS TODAY

भोपाल
। सन 2018 में शुरू हुई शिक्षक भर्ती प्रक्रिया अभी तक पूरी नहीं हुई है और डीपीआई के कमिश्नर ने नई शिक्षक पात्रता परीक्षा की तारीख घोषित कर दी। इस बात से नाराज वेटिंग वाले आक्रोशित हो उठे हैं। 25 जुलाई को राजधानी भोपाल में बड़े प्रदर्शन की तैयारी की जा रही है। 

लोक शिक्षण संचालनालय के आयुक्त अभय वर्मा ने प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड के डायरेक्टर को पत्र लिखकर बताया है कि अप्रैल 2023 में शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन किया जाना है। यह पत्र 30 जून 2022 को लिखा गया जो 22 जुलाई 2022 को सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। शुरुआत में लगा कि यह आधिकारिक दस्तावेज नहीं है। डीपीआई की तरफ से प्रतिक्रिया का इंतजार किया गया। जब अथॉरिटी ने कोई बयान नहीं दिया और डिपार्टमेंट से कंफर्म हुआ कि दस्तावेज आधिकारिक है, तब भोपाल समाचार डॉट कॉम ने खबर प्रसारित की।

उम्मीदवारों का कहना है कि 2018 में स्कूल शिक्षा एवं जनजातीय विभाग से उच्च एवं माध्यमिक शिक्षकों के कुल 30,594 पदों की पूर्ति के लिए पात्रता परीक्षा आयोजित हो चुकी है जिसमें से अभी मात्र 15,000 चयनित शिक्षकों को ही नियुक्ति पत्र मिले हैं। शेष पात्र अभ्यर्थी अभी भी अपनी नियुक्ति के इंतजार में हैं। इसके अलावा स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने उच्च माध्यमिक के 3,000 एवं माध्यमिक शिक्षकों के 5,000 पद बढ़ाने का आश्वासन भी पात्र अभ्यर्थियों को दिया है और कहा है बढ़ाई गए पदों पर MPTET-2018 की वेटिंग लिस्ट से सेकंड काउंसलिंग कर के शिक्षकों की भर्ती की जाएगी। 

इस प्रक्रिया से पहले शिक्षक पात्रता परीक्षा 2023 के लिए प्रक्रिया का शुरू करना, इंतजार कर रहे हैं नाराज उम्मीदवारों को आक्रोशित कर गया। शिक्षक पात्रता परीक्षा संघ के प्रदेश संयोजक रंजीत गौर एवं अन्य अभ्यार्थियों के अनुसार प्रदेश में शिक्षकों की भारी कमी है। अत: सरकार को उच्च एवं माध्यमिक शिक्षकों की पूर्ती के लिए द्वितीय काउंसलिंग कराते हुए शिक्षक भर्ती 2018 को पूर्ण करना चाहिए उसके बाद अगली पात्रता परीक्षा की बात करना चाहिए।