Amarnath latest breaking news live- अमरनाथ- हादसे संबंधित समाचार

जम्मू-कश्मीर: अमरनाथ गुफा के निचले इलाकों में बादल फटने के बाद भारी मात्रा में पानी बह रहा है। घटनास्थल पर बचाव कार्य जारी है।


जम्मू-कश्मीर: अमरनाथ गुफा के निचले इलाकों में बचाव अभियान जारी है। वहां बादल फटने की सूचना है। अब तक दो लोगों की मृत्यु हुई है। 


जम्मू-कश्मीर: अमरनाथ गुफा की निचली पहुंच में शाम करीब 5.30 बजे बादल फटने की सूचना मिली थी। NDRF, SDRF और अन्य संबद्ध एजेंसियों द्वारा बचाव अभियान जारी है। अधिक जानकारी की प्रतीक्षा है: संयुक्त पुलिस नियंत्रण कक्ष, पहलगाम 


मैंने जम्मू-कश्मीर के एलजी मनोज सिन्हा से अमरनाथ गुफा में बादल फटने से अचानक आई बाढ़ के संबंध में बात की है। NDRF, SDRF, BSF और स्थानीय प्रशासन बचाव कार्य कर रहे हैं। लोगों की जान बचाना हमारी प्राथमिकता : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह

काफी देर से बारिश हो रही थी तभी गुफा के ऊपरी हिस्से से पानी आने लगा और धीरे-धीरे पानी आना तेज़ होने लगा। हमने तुरंत ही सभी एजेंसी को अलर्ट किया। इस बार हम पहले से अलर्ट थे। वहां श्रद्धालुओं के टेंट लगे थे और सुरक्षा बलों के भी टेंट लगे हुए थे। सभी को अलर्ट किया गया। काफी लोगों को वहां से निकाला गया जिससे कई लोगों को बचाया भी गया है। हमने अभी स्थिति को देखते हुए यात्रा रोकने का निर्णय लिया गया है: विवेक कुमार, PRO, ITBP

अमरनाथ गुफा के निचले इलाकों में बादल फटने से अब तक 3 महिलाओं और 2 पुरुषों सहित 5 लोगों के मृत्यु की खबर है: जम्मू-कश्मीर आपदा प्रबंधन प्राधिकरण

हमारी 1 टीम गुफा के पास तैनात रहती है, वो टीम तत्काल बचाव कार्य में जुट गई थी। 2 टीम पास में है जिसमें से 1 वहां पहुंच कर काम पर लग गई है,1 टीम शामिल होने वाली है।वहां मौजूद हमारे लोगों के मुताबिक 10 लोगों के मौत की खबर है और 3 को वहां से जीवित निकाला गया है। वहां पर और भी कई संस्थाओं की टीमें जैसे ITBP, आर्मी, लोकल पुलिस मौजूद है। वहां ढलान काफी ज्यादा है इसलिए पानी काफी तेजी से आता है। बहाव के चलते टेंटों को नुकसान पहुंचा है। आशा है कि बहाव और कम हो जाएगा लेकिन हम हर स्थिति के लिए तैयार हैं: अतुल करवाल, DG NDRF

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर में अमरनाथ गुफा के पास बादल फटने पर दुख व्यक्त किया। उन्होंने ट्वीट किया, "जम्मू-कश्मीर एलजी मनोज सिन्हा से बात की और स्थिति का जायजा लिया। बचाव और राहत अभियान जारी है। प्रभावितों को हर संभव सहायता प्रदान की जा रही है।"

अब तक, 40 से अधिक लोग घायल हुए हैं और 13 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। हमने यहां घायलों के लिए सभी इंतजाम किए हैं। अभी तक यहां कोई मरीज नहीं आया है। यहां 28 डॉक्टर, 98 पैरामेडिक्स, 16 एंबुलेंस और SDRF की टीमें भी मौजूद हैं: डॉ. ए शाह, CMO गांदरबल, जम्मू-कश्मीर