मध्य प्रदेश मानसून- 30 जिलों में मूसलाधार बारिश होगी, बाढ़ का खतरा- MP WEATHER FORECAST

भोपाल
। मध्यप्रदेश के आसमान पर एक बार फिर काले घने बादल छा गए हैं। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने मौसम का पूर्वानुमान एवं किसान मौसम बुलेटिन में बताया है कि मध्य प्रदेश के 30 जिलों में मूसलाधार बारिश का खतरा है। यहां कुछ इलाकों में बाढ़ आ सकती है। ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है यानी इन इलाकों में सभी प्रकार की यात्राएं एवं गतिविधियां स्थगित कर दें।

मध्य प्रदेश मौसम का पूर्वानुमान- कितने जिलों में ऑरेंज अलर्ट

मौसम केंद्र भोपाल के अनुसार भोपाल, विदिशा, रायसेन, सीहोर, राजगढ़, सागर, दमोह, छतरपुर, टीकमगढ़, पन्ना, ग्वालियर, शिवपुरी, गुना, अशोकनगर, भिंड, मुरैना, श्योपुर, शहडोल, उमरिया, अनूपपुर, जबलपुर, छिंदवाडा, सिवनी, मण्डला, बालाघाट, देवास, शाजापुर, आगर, नीमच एवं मंदसौर जिलों में भारी से अति भारी यानी मूसलाधार बारिश की संभावना है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि कुछ स्थानों पर 204 एमएम तक बारिश हो सकती है। इसके कारण बाढ़ की स्थिति बन जाएगी। मौसम विभाग ने ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। यानी उपरोक्त जिलों के नागरिक यदि मौसम खराब नहीं है तब भी स्वयं को सुरक्षित करें। 

मध्य प्रदेश मौसम समाचार- कहां कितनी बारिश हुई

पिछले 24 घन्टो के दौरान प्रदेश के शहडोल, जबलपुर, सागर, नर्मदापुरम, भोपाल, चंबल एवं ग्वालियर संभागों के जिलों में अधिकांश स्थानो पर रीवा एवं उज्जैन संभागों के जिलों में अनेक स्थानो पर तथा इंदौर संभाग के जिलों में कुछ स्थानों पर वर्षा दर्ज की गई। सबसे ज्यादा पानी गोरमी में 15 सेंटीमीटर, ब्यावरा 13 गंजबासौदा 12, चाचैडा 11 रैपुरा, मोहगाँव, खरगापुर, पठारी 9 श्योपुर छिंदवाडा 8, खुरई, छतरपुर, रेहली नौगॉव, विजयराघौगढ, कुंभराज, पचमढी एवं सबलगढ में 7 सेमी गिरा।