मध्य प्रदेश मानसून- आसमान में आफत टली, लेकिन 26 जिलों में बाढ़ का खतरा- MP WEATHER FORECAST

भोपाल
। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने रेड अलर्ट वापस ले लिया है। यानी मध्यप्रदेश के आसमान में घनघोर काली-घटाओं की संख्या कम हो गई है लेकिन 26 जिलों में मूसलाधार बारिश एवं बाढ़ का खतरा बना हुआ है। अनुमान लगाया गया है कि 17 जुलाई तक ऐसा ही मौसम बना रहेगा।

मध्य प्रदेश मौसम का पूर्वानुमान- 26 जिलों में मूसलाधार बारिश होगी

मौसम केंद्र भोपाल के अनुसार जबलपुर, कटनी, नरसिंहपुर, मंडला, सिवनी, बालाघाट, छिंदवाड़ा, डिंडौरी, अलीराजपुर, बड़वानी, बुरहानपुर, धार, इंदौर, झाबुआ, खंडवा, खरगोन, उज्जैन, देवास, आगर-मालवा, शाजापुर, रतलाम, मंदसौर, नीमच, नर्मदापुरम, हरदा एवं बैतूल जिला में मूसलाधार बारिश की संभावना है। मौसम विभाग ने ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। न्यूनतम 64 और अधिकतम 204 मिलीमीटर वर्षा होने की संभावना है। 

मध्य प्रदेश मौसम समाचार- पिछले 24 घंटे में कहां क्या हुआ

पिछले 24 घन्टो के दौरान प्रदेश के भोपाल, उज्जैन, इंदौर एवं नर्मदापुरम संभागों के जिलों में अधिकांश स्थानों पर शहडोल एवं जबलपुर संभागों के जिलों में अनेक स्थानों पर ग्वालियर एवं चंबल संभागों के जिलों में कुछ स्थानो पर सागर संभाग के जिलों में कहीं कहीं वर्षा दर्ज की गई तथा रीवा संभाग के जिलों में मौसम मुख्यतः शुष्क रहा। 

सबसे ज्यादा वर्षा खकनार में 18 सेमी. गोगांवां, खण्डवा 17. झिरन्या, नेपानगर 16. ठीकरी 14, भीमपुर 13 चाचरीयापाटी, मोहखेडा 12. भगवानपुरा, खरगौन, भीकनगॉव 11, इछावर पंधाना, अंजड, बडौद, कुरई 10, संघवा, उदयनगर, खातेगॉव 9 चिंचोली, भैसदेही, सीहोर, सैलाना 8 सेमी दर्ज की गई।