सिर्फ वोट देने से लोकतंत्र मजबूत नहीं होगा, युवाओं को चुनाव लड़ना चाहिए: यूथ महापंचायत 2022

भोपाल
। यूथ महापंचायत 2022 के माध्यम से मध्य प्रदेश के युवाओं से अपील की गई है कि वह केवल वोट देकर लोकतंत्र के प्रति अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह ना समझे बल्कि लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए अधिक से अधिक संख्या में चुनाव लड़े। 

मध्य प्रदेश शासन के जनसंपर्क विभाग द्वारा जारी यूथ महापंचायत 2022 के प्रतिवेदन में लिखा है कि, युवाओं की अधिक से अधिक भागीदारी से ही लोकतंत्र सशक्त होगा। भारत में एक पार्लियामैन्टिरियन की औसत आयु 50 वर्ष है, जबकि विश्व के अन्य बड़े लोकतंत्रों में यह औसत काफी कम है। हमारे देश में युवाओं को राजनीति में अधिक से अधिक मौका मिलना चाहिए। 

लोकतंत्र में केवल वोट देने मात्र से हमारा लोकतंत्र महबूत नहीं होगा, अपितु युवाओं को आगे आकर चुनाव लड़ना चाहिए। स्वामी विवेकानंद, शहीद भगत सिंह, शहीद चंद्रशेखर आजाद जैसे युवाओं ने पूरी दुनिया में भारत का नाम रोशन किया। युवा बड़ा सोचें, सोचें कि भारत को विश्व में नंबर एक कैसे बनाएँ।

राज्य स्तरीय यूथ महापंचायत के दूसरे दिन आज रवीन्द्र भवन कन्वेंशन सेंटर में विभिन्न सत्र में विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ युवाओं ने अपने ओजपूर्ण विचारों से युवाओं को प्रेरित किया। ‘लोकतंत्र के लिए युवा’ सत्र में प्रमुख वक्ता के रूप में पत्रकार श्री प्रदीप भाटिया, पैनलिस्ट के रूप में जर्मनी के श्री एड्रियन हैक, सरपंच सुश्री भक्ति शर्मा, प्रदेश की सबसे युवा महिला सरपंच सुश्री लक्षिका डाबर तथा मॉडरेटर के रूप में सुश्री रागेश्वरी आंजना ने हिस्सा लिया।