BHOPAL NEWS- एक रात में 511 बदमाश गिरफ्तार, 1200 पुलिस वालों की काॅम्बिंग गश्त

भोपाल
। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के इतिहास में यह एक रिकॉर्ड है। पुलिस ने पूरे शहर में काॅम्बिंग गश्त करके एक रात में 511 ऐसे बदमाशों को गिरफ्तार किया जिनके खिलाफ कोर्ट से वारंट जारी हुए हैं लेकिन वह कोर्ट में पेश नहीं हो रहे हैं। इसके अलावा 12 ऐसे बदमाश भी पकड़े गए, जिन्हें कलेक्टर ने जिला बदर कर दिया था परंतु फिर भी घर पर आराम कर रहे थे। पुलिस कमिश्नर ने सभी के खिलाफ NSA की कार्रवाई की है। 

पुलिस की सरप्राइज काॅम्बिंग गश्त क्या होती है, क्यों की जाती है

गुंडे-बदमाशों की धरपकड़ के लिए पुलिस द्वारा समय-समय पर काॅम्बिंग गश्त की जाती है। भोपाल कमिश्नर सिस्टम की इस दूसरी काॅम्बिंग गश्त में एडिशनल पुलिस कमिश्नर सचिन अतुलकर, सभी डीसीपी, एडि. डीसीपी, एसीपी, थाना प्रभारी समेत 1200 पुलिसकर्मी शामिल थे। सभी को पुलिस कंट्रोल रूम बुलाया गया और टास्क दिया गया। हर थाने में 5-5 पुलिसकर्मियों की 5-5 टीमें तैयार की गई थीं। इस प्रकार करीब 200 टीमों ने एक साथ अपने-अपने थाना क्षेत्रों में काॅम्बिंग गश्त के दौरान गुंडे-बदमाशों की सर्चिंग शुरू की।

BHOPAL POLICE- 1200 जवान शहर के बदमाशों से होली मिलने पहुंचे, 511 को पकड़ लाए

रात 10.30 बजे से सुबह 5 बजे तक चली सरप्राइज कॉम्बिंग गश्त में 260 स्थायी एवं 251 गिरफ्तारी वारंट समेत कुल 511 वारंट तामील कर गुंडे-बदमाशों को गिरफ्तार किया गया। इसके अलावा जमानती वारंट, जिला बदर, फरार आरोपी, 110, 107/116 के 400 नोटिस तामील किए गए हैं। इस दौरान जिला बदर का उल्लंघन करने वाले 12 बदमाशों को गिरफ्तार कर रासुका के तहत कार्रवाई की गई है। साथ ही लगभग 250 से अधिक हिस्ट्रीशीटर बदमाशों को चैक किया गया।

6.30 घंटे में निपटाया महीनों का काम: ACP सचिन अतुलकर

कॉम्बिग गश्त सरप्राइज होने की वजह से गुंडे और बदमाशों को सतर्क होने और भागने का मौका नहीं मिल सका, जिससे भारी संख्या में स्थायी एवं गिरफ्तारी वारंट तामील किए गए। भोपाल पुलिस द्वारा एक साथ इतनी बड़ी संख्या में वारंट तामीली पहली बार हुई है, जिसे तामील करवाने में अमूमन महीनों लग जाते हैं। इसके पूर्व 5 फरवरी को भी काॅम्बिंग गश्त में 258 वारंट तामील हुए थे। -सचिन अतुलकर, एडि. पुलिस कमिश्नर, भोपाल
भोपाल की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया bhopal news पर क्लिक करें।