चंबल में डाकू गिरोह और पुलिस की मुठभेड़, किसान को किडनैप करके ले जा रहे थे - MP NEWS

मुरैना।
मध्य प्रदेश के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने पिछले दिनों बयान दिया था कि चंबल में कोई गिरोह नहीं है। लोग सोशल मीडिया पर अफवाह उड़ा रहे हैं, लेकिन आज उन्हीं के डिपार्टमेंट की पुलिस और डाकू गिरोह के बीच मुठभेड़ हो गई। डाकू गिरोह, मुरैना के किसान का अपहरण करके ले जा रहा था।

मुरैना जिले की सिंहौनियां पुलिस ने दावा किया है कि उनकी एक डकैत गिरोह के साथ मुठभेड़ हुई है। इस एनकाउंटर के दौरान डाकू गिरोह द्वारा किडनैप किए गए किसान को मुक्त करा लिया गया। डाकुओं ने किसान के साथ बेरहमी से मारपीट की थी। इलाज के लिए उसे अस्पताल में भर्ती किया गया है। घटना गुरुवार की रात डेढ़ से दो बजे के बीच की बताई गई है है। 

अस्पताल में भर्ती घायल किसान ने बताया गैंग में आठ लोग थे, जिसमें एक महिला भी है। गिरोह के लोग राजस्थानी भाषा में आपस में बात कर रहे थे। पुलिस ने बताया, सूचना मिली थी कि डकैतों ने ने बाबरीपुरा के किसान राधेश्याम सैंथियां (65) का अपहरण कर लिया है। सिंहौनियां थाना प्रभारी पवन भदौरिया के नेतृत्व में पुलिस फोर्स बाबरीपुरा के खेतों में पहुंची। पुलिस ने खोजबीन शुरू की, तभी फायरिंग की आवाज आई। जवाब में पुलिस ने भी हवाई फायर किए। पुलिस की जवाबी फायरिंग के कारण डकैत गिरोह, किसान को सरसों के खेत में छोड़कर भाग गया। 

जब पुलिस किसान के पास पहुंची, उसके मुंह में कपड़ा भरा हुआ था और वह गंभीर रूप से घायल था। डकैतों ने किसान के हाथ-पैर बांध दिए थे। किसान ने बताया कि उसके साथ मारपीट की गई है। पुलिस ने किसान को पानी पिलाया और जिला अस्पताल मुरैना भेज दिया, जहां उसका इलाज चल रहा है। मध्य प्रदेश की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया mp news पर क्लिक करें.