महिलाओं में हेयर फॉल के 10 प्रमुख कारण- 10 main reasons for hair fall in women

विज्ञापन वालों की बात पर भरोसा करें तो किसी एक तेल को लगाने से बालों का झड़ना बंद हो जाता है परंतु यदि वह सही होते तो बालों के टूटने की समस्या अब तक खत्म हो गई होती। लाइफ में बाल कितने इंपॉर्टेंट हैं, बाला फिल्म में बहुत अच्छे तरीके से बताया गया है। पुरुष तो फिर भी गंजे चल जाते हैं लेकिन गंजी महिलाओं के लिए घर में रहना भी मुश्किल हो जाता है। अपने बालों में कुछ भी यूज करने से पहले बहुत जरूरी है कि बालों के झड़ने का कारण जान लिया जाए। यदि कारण जान लेंगे तो निवारण भी आसानी से मिल जाएगा। 

1. बाल, सौंदर्य के लिए हैं सजावट के लिए नहीं

कई लड़कियां या महिलाएं, बालों की सही तरीके से देखभाल नहीं करती हैं। वे उन पर किसी भी तरह के रंग या डाई को लगा लेती हैं या फैशन के चक्‍कर में गर्म रोलर से कर्ल कर लेती हैं। कसकर चोटी बनाने या गलत तरीके से कंघी करने से भी बाल बहुत ज्‍यादा टूटते हैं। 

2. हारमोंस में असंतुलन के कारण बालों का टूटना

पुरूष के साथ सम्‍बंध बनाने के बाद ओवरी में स्‍पर्म के जाने के बाद शरीर में अचानक से काफी परिवर्तन आ जाते हैं जिससे कि बालों पर नकारात्‍मक असर पड़ने लगता है। ऐसा हारमोन्‍स में असंतुलन आने के कारण होता है।

3. एनीमिया के कारण बाल झड़ जाते हैं

शरीर में आयरन की कमी से खून में ऑक्‍सीजन का संचार कम होता है जिससे खून की कमी हो जाती है और बालों को पर्याप्‍त मात्रा में पोषक तत्‍व नहीं मिलता है। ज्‍यादा मात्रा में ब्‍लीडिंग होने पर (पीरियड के दौरान) भी बालों पर बुरा असर पड़ता है।

4. मेनोपॉज के कारण बाल कमजोर हो जाते हैं

महिला के शरीर में मेनोपॉज के दौरान काफी परिवर्तन आते हैं। इस दौरान उसके बालों का झड़ना, तेजी से बढ़ जाता है। ऐसे में बालों को स्‍पेशल ट्रीटमेंट देने की जरूरत होती है।

5. प्रसव के बाद बालों का गिरना जनरल प्रॉब्लम है

कई महिलाओं को प्रसव के बाद बालों के झड़ने की समस्‍या होती है। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि गर्भावस्‍था के दौरान महिला के शरीर में एस्‍ट्रोजन की मात्रा बहुत ज्‍यादा बढ़ जाती है। डिलीवरी के बाद शरीर सामान्‍य हो जाता है और इस परिवर्तन को झेल नहीं पाते हैं।

6. प्रोटीन की कमी किसी भी इंसान को गंजा बना देती है

हमारे बाल, कैराटिन नामक प्रोटीन के बने होते हैं। अगर शरीर में किसी भी दौरान इस प्रोटीन की कमी हो जाती है तो बालों का झड़ना शुरू हो जाता है।

7. दवाईयां के साइड इफेक्ट से बालों का झड़ना

जो महिलाएं गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करती हैं उनके बाल दवाईयों के साइड इफेक्‍ट के कारण झड़ जाते हैं। कीमोथेरेपी के दौरान भी बाल झड़ जाते हैं लेकिन ऐसा सिर्फ कैंसर के इलाज के दौरान होता है।

8. अत्‍यधिक वजन घटाएंगे तो बाल भी घट जाएंगे

अगर कोई महिला बहुत ज्‍यादा वजन घटाने का प्रयास करती है या कम कर लिया होता है तो उनके बाल झड़ना भी स्‍वाभाविक है।

9. थॉयराइड, ऑटोइम्‍यून बीमारी से बाल गिरने रखते हैं

थॉयराइड या कोई अन्‍य बीमारी होने पर शरीर की सामान्‍य प्रक्रिया में असंतुलन आ जाता है जिससे बाल झड़ने लगते हैं। कई बार ज्‍यादा बाल झड़ना भी संकेत देते हैं कि आपके शरीर में कुछ न कुछ असामान्‍य है।

10. बालों का गिरना गंभीर मेडिकल स्थिति का संकेत हो सकता है

डायबटीज, सोराइसिस या अन्‍य किसी प्रकार की बीमारी होने पर शरीर की प्रक्रिया गड़बड़ कर जाती है और बालों का गिरना शुरू हो जाता है। सोराईसिस में ऐसा होना सामान्‍य है क्‍योंकि यह एक प्रकार का त्‍वचा सम्‍बंधी रोग होता है। स्वास्थ्य से संबंधित समाचार एवं जानकारियों के लिए कृपया Health Update पर क्लिक करें


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here