MP TET VARG-3 NOTES- विचार या चिंतन पार्ट- 2, Thought or Thinking

जैसा कि हमने अपने पिछले आर्टिकल में जाना कि चिंतन का संबंध तर्क से भी है, उसी तरह चिंतन का संबंध वाणी और भाषा से भी है। मनुष्य की चिंतन प्रक्रिया का संबंध वाणी और भाषा से भी है। वाणी,भाषा का ही छोटा रूप है। चिंतन का वाणी के साथ गहरा संबंध है और जब चिंतन मूर्त रूप ग्रहण कर लेता है तो इसका परिणाम, भाषा होती है। यानी सबसे पहले चिंतन या विचार आता है और फिर वाणी और अंत में भाषा आती है परंतु अलग-अलग मनोवैज्ञानिकों के मत भाषा और विचार के संबंध में अलग-अलग हैं। 

➤ जीन पियाजे (Jean piaget)- मानते हैं कि पहले भाषा आती है और फिर विचार आता है। 
➤ वाइगोत्सकी (Vygotsky)- मानते हैं कि पहले विचार आता है और फिर भाषा आती है।
➤ नोम चोमस्की (Noam Chomsky) -का मानना है कि हमारे दिमाग में, भाषा अधिग्रहण यंत्र (LAD) पाया जाता है, जिसके कारण हम भाषा के नियमों को आसानी से सीख जाते हैं। 
➤ स्किनर (Skinner) मानते हैं कि भाषा अनुकरण से सीखी जाती है। 

परंतु इनमें से सर्वाधिक मान्य विचार वाइगोत्सकी का माना जाता है जिनके अनुसार आंतरिक क्षमता और वातावरण साथ में काम करते हैं और सोशल कॉन्टेक्स्ट भी महत्वपूर्ण होता है। जीवन के शुरुआती अवस्था में तो विचार और भाषा अलग अलग होती है परंतु धीरे-धीरे एक बच्चा, अहं केंद्रित वाक्, यानी प्राइवेट इनर स्पीच के द्वारा अपने आप को निर्देशित करता रहता है और उसके संज्ञान के विकास के लिए भाषा जरूरी है।

चिंतन के प्रकार- Types Of Thoughts 

चिंतन की प्रक्रिया, समस्या के समाधान के ऊपर निर्भर करती है परंतु फिर भी  सामान्यतः चार प्रकार का चिंतन होता है-
1.प्रत्यक्षआत्मक चिंतन (perceptual thinking) 
2.प्रत्यात्मक् चिंतन (Conceptual thinking) 
3.विचारात्मक चिंतन (Reflective thinking) 
4.सृजनात्मक चिंतन (Creative Thinking) 

इनमें से सृजनात्मक चिंतन, चिंतन की एक नई तकनीक है। जो बच्चों को किसी विषय, तथ्य, घटना, वस्तु आदि के बारे में सोचने का नवीन दृष्टिकोण विकसित करता है। सृजनात्मक चिंतन खोज, अविष्कार, मौलिकता आदि को जन्म देती है। इसे अपसारी चिंतन (Divergent Thinking) भी कहा जाता है। जिससे कई प्रकार की दिशाओं में सोचा जा सकता है। यह विचार किसी बच्चे के मन मस्तिष्क में अचानक ही सृजित हो जाते हैं। MP TET varg 3 के लिए सृजनात्मक चिंतन ही सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि यह वैज्ञानिक सोच को बढ़ावा देता है और बच्चे को कई दिशाओं में सोचना सिखाता है। मध्य प्रदेश प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा के इंपोर्टेंट नोट्स के लिए कृपया mp tet varg 3 notes in hindi पर क्लिक करें.