GWALIOR हाईकोर्ट ने कहा- कर्मचारियों की कमी स्वीकार नहीं, काम समय पर होना चाहिए

ग्वालियर
। मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय की ग्वालियर खंडपीठ में एक याचिका की सुनवाई के दौरान स्पष्ट किया कि कर्मचारियों की कमी के कारण किसी काम में देरी को वैध आधार नहीं माना जाता। कर्मचारियों की नियुक्ति करना और दिए गए काम को समय पर पूर्ण करना डिपार्टमेंट की जिम्मेदारी है। मामला बलात्कार के एक केस में डीएनए रिपोर्ट का था। 

कर्मचारियों की नियुक्ति एवं व्यवस्था के लिए हाईकोर्ट ने आदेश की कॉपी डीजीपी को भेजी

हाईकोर्ट की एकल पीठ ने कहा कि न्यायिक प्रक्रिया में इस तरह हस्तक्षेप नहीं किया जा सकता है। प्रयोगशाला में समय पर रिपोर्ट मिले इसकी व्यवस्था होना चाहिए। जैसे ही रिपोर्ट तैयार हो जाती है लैब को तत्काल ही संबंधित न्यायालय को इसकी सूचना देनी चाहिए। कोर्ट ने आदेश दिया कि यदि किसी मामले में प्राथमिकता के साथ डीएनए जांच कराना है तो ऐसे मामलों में प्रयोगशालाओं को प्राथमिकता के आधार पर मामले में जांच रिपोर्ट तैयार करना चाहिए। आदेश की कापी डीजीपी को भेजने के निर्देश दिए हैं, इस दिशा में आगे की कार्रवाई कर सकें। 

लैब में 4386 मामले डीएनए के लिए लंबित

प्रस्तुत मामले में हाईकोर्ट ने डीएनए लैब के डायरेक्टर से शपथ पत्र मांगा था। राज्य फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला सेवाएं के निदेशक डॉ अनिल कुमार सिंह ने हाईकोर्ट ने शपथ पत्र पेश किया। शपथ पत्र में बताया कि लैब में 4386 मामले डीएनए के लिए लंबित है। हर माह 200 से अधिक मामलों का निपटारा किया जा रहा है। 

साक्ष्य में देरी के कारण अपराधी को बरी करना पड़ता है: हाई कोर्ट

डीएनए लैब के डायरेक्टर ने बताया कि लैब में कर्मचारियों के खाली पदों की संख्या अधिक होने के कारण भी जांच कार्य लंबित हो रहा है। इस जवाब को लेकर कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि डीएनए रिपोर्ट में हो रही देर के लिए कर्मचारियों की कमी को वैध आधार नहीं माना जा सकता है। न्यायालय ने कहा कि बलात्कार के मामलों में यदि पीडि़ता मुकर जाती है, तो वैज्ञानिक और फोरेंसिक साक्ष्य सजा के लिए पर्याप्त साक्ष्य है। डीएनए रिपोर्ट में देर होती है, तो इससे अभियोजन को आरोप सिद्ध करने में बाधा उत्पन्न होगी और ट्रायल कोर्ट के पास आरोपी को बरी करने के अलावा कोई विकल्प नहीं होगा।

23 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP NEWSमुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने भी ब्यूरोक्रेसी पर तंज कसा
MP NEWSमध्यप्रदेश में बिजली के पूरे ढांचे को बदलने का फैसला: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह
MPPEB NEWS- में परीक्षा नियंत्रक प्रतिनियुक्ति के लिए विज्ञापन जारी
MP BOARD BLUE PRINT- 9वीं-12वीं के लिए ब्लू प्रिंट एवं अंक तालिका जारी, यहां पढ़िए
CORONA 3rd WAVE NEWSभारत में कोरोना वायरस खत्म, तीसरी लहर नहीं आएगी, एम्स के डायरेक्टर का दावा
LEARN ENGLISH in Hindiढक्कन खोल दो और नल खोल दो में खोल दो के लिए कौन सा अंग्रेजी शब्द यूज होगा
MP NEWSसबसे ज्यादा शिक्षा विभाग में ट्रांसफर पॉलिसी का उल्लंघन हुआ: एडवोकेट अमित चतुर्वेदी
MP NEWS- क्या चाहती हैं उमा भारती, क्यों खलबली मचा रहीं हैं
MP NEWS- शिक्षक प्रशिक्षण और DElEd कॉलेज खोलने के आदेश
Khula KhatCM Sir, बीएमसी सागर ने सरकारी कॉलेज का डिप्लोमा अमान्य कर दिया, न्याय दिलवाइए
चयनित शिक्षक और MPPSC आरक्षण विवाद का हल निकालने सीएम शिवराज सिंह दिल्ली में

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindi- iPhone के विज्ञापन में हमेशा 9:41 टाइम क्यों दिखाते हैं
GK in Hindi- किचन में सिर्फ डिनर सेट क्यों होता है, लंच सेट क्यों नहीं होता
GK in Hindiदुर्योधन की पत्नी कौन थी, किसकी पुत्री थी और कैसे विवाह हुआ
GK in Hindiशिवलिंग पर जल क्यों चढ़ाते हैं, कोई वैज्ञानिक कारण है या बस परंपरा
GK in Hindiगेहूं की रोटी में हवा कैसे भर जाती है, ज्वार और मक्का की रोटी में क्यों नहीं भरती
GK in Hindiजब अमेरिका 110V बिजली से जगमगाता है तो भारत में 220V बिजली सप्लाई क्यों की जाती है
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here