ARIHANT HOSPITAL में 3 साल के बच्चे की संदिग्ध मौत, FIR दर्ज

इंदौर।
ARIHANT HOSPITAL INDORE में 3 साल के मासूम बच्चे की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया है। चंदन नगर पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है। फरियादी पक्ष का आरोप है कि वह हंसते-खेलते बच्चे को छोटे से ऑपरेशन के लिए लेकर आए थे लेकिन ऑपरेशन में लापरवाही के कारण बच्चे की मौत हो गई। बच्चे के पिता का दावा है कि ऑपरेशन के दौरान बच्चे को एनेस्थीसिया का ओवरडोज दे दिया गया था।

29 जुलाई को चुंबक निगला, 12 दिन बाद ऑपरेशन

मृत बच्चे का नाम कबीर तिवारी उम्र 3 साल है। उसके पिता पिता सुनील तिवारी ने बताया, 29 जुलाई को बेटे ने चुंबक निगल लिया था। इसके बाद परिजन उसे लेकर तत्काल अरिहंत हॉस्पिटल पहुंचे। डॉक्टरों ने बताया, चुंबक बच्चे के गले में फंसा हुआ है, जो सर्जरी करके निकाला जाएगा। बच्चे को सर्दी होने से डॉक्टरों ने उस दिन एंडोस्कोपी नहीं की गई। उन्होंने 9 अगस्त को एंडोस्कोपी के जरिए चुंबक निकालने का निर्णय किया था।

डॉक्टरों ने ऑपरेशन को सफल बताया था

सुनील तिवारी ने बताया कि जब हम बच्चे को सर्जरी के लिए अस्पताल लेकर आए तब वह हंस खेल रहा था। उसकी एंडोस्कोपी सुबह 8 बजे शुरू हुई, जो करीब 1 घंटे तक चली। डॉक्टरों ने चुंबक निकालकर बच्चे को NICU में शिफ्ट कर दिया। डॉक्टरों ने कहा कि बच्चे को होश में आने में पौन घंटा लगेगा।

ऑपरेशन के बाद बच्चे का शरीर ठंडा पड़ने लगा

फिर अचानक डॉक्टर का स्टेटमेंट बदल गया। कहने लगे होश आने में 4 घंटे लगेंगे। आधे घंटे बाद कबीर की मां विमला ने बच्चे को टच किया तो उसका शरीर ठंडा था। इस पर उन्होंने तत्काल डॉक्टर से बात की। डॉक्टरों ने कहा कि अभी थोड़ा समय लगेगा।

डॉक्टरों से सवाल-जवाब किए तो बच्चे को मृत घोषित कर दिया

काफी देर बाद जब बच्चे को होश ही नहीं आया। उसका शरीर पूरी तरह ठंडा पड़ गया तो रोते बिलखते परिजन डॉक्टर के पास पहुंचे। इसके बाद डॉक्टर ने बच्चे को देखकर कहा कि उसकी डेथ हो चुकी है।

डॉक्टरों ने मृत्यु का कारण नहीं बताया

परिजन ने जब मौत होने का कारण पूछा तो वे कोई जवाब नहीं दे पाए। केवल इतना कहा कि पहली बार इस तरह का केस सामने आया है। इसके बाद परिजन चंदन नगर थाने अस्पताल के खिलाफ कार्रवाई को लेकर शिकायत करने पहुंचे।

डॉक्टर नहीं बता पाए मौत का कारण

बच्चे के पिता सुनील तिवारी ने कहा कि डॉ. मयंक जैन और मैडम से बात की, तो क्लियर ही नहीं कर पाए कि हुआ क्या था, लेकिन एनेस्थीसिया के ओवर डोज से बच्चे की जान गई है। डॉक्टर कह रहे हैं कि बच्चे की हार्ट बीट अचानक रुक गई थी। वेंटिलेटर में रखा, लेकिन रिकवरी नहीं हुई। चंदन नगर पुलिस के मुताबिक मामले की शिकायत परिवार वालों ने की है। जांच की जा रही है।

हमने पूरा इलाज प्रोटोकॉल के तहत किया है: डॉ. संजय राठौर

अरिहंत हॉस्पिटल के सुप्रिटेंडेंट डॉ. संजय राठौर का कहना है कि एनेस्थीसिया के ज्यादा डोज से उसकी मौत नहीं हुई है। हमने इलाज के सारे दस्तावेज पुलिस को सौंप दिए हैं। बच्चे को एनेस्थीसिया देने वाली डॉ. सोनल निवस्कर व गेस्ट्रो एंट्रालॉजिस्ट डॉ. मयंक जैन अच्छे एक्सपर्ट हैं। पूरा इलाज मेडिकल प्रोटोकॉल के तहत ही किया है।

मौत कैसे हुई, नहीं मालूम: अरिहंत हॉस्पिटल के सुप्रिटेंडेंट ने कहा

अरिहंत हॉस्पिटल के सुप्रिटेंडेंट डॉ. संजय राठौर ने बताया कि बच्चे का ऑपरेशन एक्सपर्ट डॉक्टरों की टीम ने किया है। बकायदा उसका प्री चेकअप हुआ। उसके बाद एंडोस्कोपी का निर्णय लेकर चुंबक निकाला गया। फिर उसे रिकवरी के लिए एनआईसीयू में शिफ्ट किया गया। वहां बच्चे का सेचुरेशन पुअर होता गया, लेकिन मौत कैसे हुई, कारण हम भी नहीं समझ पा रहे हैं। उसकी ऑटोप्सी भी कराई गई। अब पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही सही कारण मालूम पड़ेगा।

09 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP COLLEGE EXAM NEWS- 18 लाख स्टूडेंट्स के लिए फिर से परीक्षा होगी
 EMPLOYEE NEWS- अनुकंपा नियुक्ति में पहले दिन से नियमित वेतनमान दिया जाए: हाई कोर्ट का फैसला
मध्य प्रदेश मानसून- 12 जिलों में भारी वर्षा की चेतावनी
MP NEWS- सिंध में बाढ़ के बाद चांदी के सिक्के मिल रहे हैं, सन् 1860 और INDIA लिखा है
MPPSC RESULT आने से पहले ही स्टूडेंट ने सुसाइड कर लिया
MP NEWS- प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति हेतु पत्र जारी
MP NEWS- 4 दिन की विधानसभा के पहले दिन कांग्रेस का वॉकआउट, कमलनाथ और शिवराज के बीच कहासुनी
SIHORA NEWS- JABALPUR जा रहे ट्रैक्टर एजेंसी संचालक की एक्सीडेंट में मौत
GWALIOR NEWS- लैंड रिकॉर्ड का सिस्टम बदल रहा है, सतर्क रहें
MP NEWS- POLICE SI भर्ती का इंतजार कर रहे बेरोजगार ने सुसाइड कर लिया
INDORE NEWS- खेल अकादमी के लिए कक्षा 7 से 12 तक के विद्यार्थी यहां आवेदन करें

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiघी में आग क्यों लग जाती है, दूध में क्यों नहीं लगती
पत्नी रूठकर मायके चली जाए तो क्या यह तलाक का आधार हो सकता है
GK in Hindiदुबई के सभी शेख अमीर क्यों होते हैं, कोई कंगाल क्यों नहीं होता
GK in Hindiकुत्ते कार का पीछा क्यों करते हैं, क्या वह कार चोरी की होती है, पढ़िए 4 कारण
GK in Hindiअंधेरा होने पर भी मच्छरों को हमारी लोकेशन कैसे मिल जाती है 
GK in Hindi- वह कौन सी संख्या है जिसे रोमन में नहीं लिखा जा सकता
GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here