गलत वेतन निर्धारण- एएसआई से वसूला गया ब्याज वापस करो: हाईकोर्ट का आदेश - EMPLOYEE NEWS

Recovery of interest from employee after wrong pay fixation, High Court's decision

जबलपुर। मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने स्पष्ट किया है कि यदि गलत वेतन निर्धारण में कर्मचारी की भूमिका नहीं है तो उससे ब्याज की वसूली नहीं की जा सकती। मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने मध्य प्रदेश पुलिस की सेवा से रिटायर हुए असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर को वसूले गए ब्याज की रकम वापस लौटाने का आदेश दिया है।

श्री हीरालाल चौधरी सहायक उपनिरीक्षक, नरसिंहपुर जिले से दिनांक 31/03/2020 में रिटायर हुए हैं। कथित गलत वेतन निर्धारण के कारण, सेवानिवृति के समय उनके विरुद्ध रुपये 5,33,978 की वसूली निकाली गई थी। जिसमे 1,72,583 मूल धन था एवं रुपये 361,583 ब्याज था। उल्लेखनीय है कि श्री चौधरी को सेवानिवृत्ति लाभ, वसूली किये जाने के बाद ही दिए के आदेश थे। उपरोक्त संबंध में उनसे सहमति पत्र भी मांगा गया था।

बाध्यकारी परिस्थितियों में श्री चौधरी द्वारा विभाग को वसूली हेतु सहमति पत्र दिया गया एवं उनके द्वारा इस बाबत भी सहमति दी गई थी कि वे किसी कोर्ट में वसूली के विरुद्ध केस नही दायर करेंगे। तत्पश्चात उनके उपादान से 5,33,978 रुपये वसूल लिए गए थे।

श्री चौधरी ने पेंशन प्राप्त करने के बाद, ब्याज की राशि रुपये 3,61,395 वापस पाने हेतु, उच्च न्यायालय जबलपुर में याचिका दायर की। उनकी ओर से उच्च न्यायालय, जबलपुर के वकील श्री अमित चतुर्वेदी ने बताया है कि कोर्ट ने विभाग को आदेशित किया है कि सहायक उपनिरीक्षक को ब्याज की राशि बिना देरी के लौटाई जाये। 

कोर्ट ने माना कि कर्मचारी की भूमिका गलत वेतन निर्धारण में नही थी, अतः ब्याज की वसूली विधि विरुद्ध है। प्रकरण की सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा की गई है।

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
GK in Hindi₹1 के नोट पर गवर्नर के हस्ताक्षर क्यों नहीं होते हैं 
GK in Hindiइंसान को शेर कहना शान और गधा कहना अपमान क्यों माना जाता है 
GK in HindiRefresh करने पर क्या कंप्यूटर फिर से तरोताजा हो जाता है
GK in Hindi- खतरे का रंग लाल क्यों होता है काला क्यों नहीं
GK in Hindiपुष्पक विमान किस ईंधन से चलता था, पेट्रोल और बैटरी तो उस समय होते नहीं थे
GK in Hindiआवारा गाय सड़क के बीच क्यों बैठतीं हैं, क्या सुसाइड करना चाहतीं हैं 
GK in Hindi- मादा कोयल की आवाज मधुर नहीं होती, वह तो अपराधी होती है
GK in Hindi- हिटलर की मूछें टूथब्रश जैसी क्यों थी, योद्धाओं जैसी क्यों नहीं, पढ़िए
GK in Hindiबर्फ का टुकड़ा पानी में तैरता है तो फिर शराब में क्यों डूब जाता है 
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here