Loading...    
   


अतिथि विद्वानों के पदों को भरा मानते हुए ट्रांसफर-पोस्टिंग करे सरकार: संघर्ष मोर्चा - EMPLOYEE NEWS

भोपाल
। सूबे के सरकारी महाविद्यालयों में दो दशक से ज्यादा समय से सेवा देते आ रहे अतिथि विद्वानों के सामने अब रोजी रोटी का संकट आने लगा है। अब उच्च शिक्षा विभाग ने एक जुलाई से नियमित प्राध्यापकों का ट्रांसफर करना शुरू कर दिया है। जिससे अतिथि विद्वानों की रोजी रोटी पर संकट के बादल छाने लगे हैं। सरकार के तरफ़ से अतिथि विद्वानों के हित में आज तक एक कदम भी नहीं उठाया गया है। 

अतिथि विद्वान संघर्ष मोर्चा के संयोजक व महासंघ के अध्यक्ष डॉ देवराज सिंह ने बताया की सरकार अतिथि विद्वानों के लिए कोई नीति आज तक नहीं बनाई है। अब नियमित प्राध्यापकों का ट्रांसफर कर रही है जिससे अतिथि विद्वान फिर फॉलेन आउट होंगे और फिर आत्महत्या करने पर मजबूर होंगे। सरकार से मांग हैं की जिस पद में अतिथि विद्वान सेवा दे रहे हैं उन पदों को भरा मानते हुए सरकार ट्रांसफर करे।

देश के हर मुद्दे को सुलझाने वाली भाजपा अतिथि विद्वानों का मुद्दा क्यों नहीं सुलझा पा रही

आज देश के बड़े बड़े मुद्दों को भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने सुलझा दिया है लेकिन महाविद्यालयीन अतिथि विद्वानों के नियमितीकरण का मुद्दा आज तक नहीं सुलझा पाई है जो बेहद चिंताजनक है। उक्त बातें संघ के मीडिया प्रभारी डॉ आशीष पांडेय ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा है। उन्होंने आगे कहा की धारा 370 और राम मंदिर जैसे जटिल मुद्दों को बीजेपी ने सुलझाया है लेकिन पिछले दो दशकों से उच्च शिक्षा में अपना जीवन दांव में लगाकर अनिश्चित भविष्य,आर्थिक बदहाली के बाद भी उच्च शिक्षा में सेवा देने वाले अतिथि विद्वानों का भविष्य सरकार सुरक्षित नहीं कर पाई है। जिससे अतिथि विद्वान बेहद निराश होकर लगातार मौत को गले लगा रहें हैं।

डॉ पांडेय ने सरकार से आग्रह करते हुए कहा की जिन पदों में अतिथि विद्वान सेवा दे रहे हैं उन पदों को भरा मानते हुए सरकार ट्रांसफर या पोस्टिंग करे साथ ही अतिथि विद्वानों के नियमितीकरण मुद्दे पर बनी बीजेपी की सरकार नियमित कर वादा निभाए। आज जहां एक जुलाई को 11 बजे सुबह री काल हुआ अतिथि विद्वानों का तो वहीं शाम 5 बजे विभाग ने ट्रांसफर करते हुए बाहर किया अतिथि विद्वानों को जिससे सभी विद्वान् स्तब्ध रह गए।सरकार स्पष्ट नीति बनाए।

500 अतिथि विद्वान हैं फालेन आउट; ट्रांसफर कर और विद्वानों को बेरोजगार करेगी सरकार?

वरिष्ठ अतिथि विद्वान डॉ जेपीएस चौहान ने सूबे के मुखिया शिवराज सिंह चौहान व शासन प्रशासन से मीडिया के माध्यम से अनुरोध करते हुए कहा है की अतिथि विद्वानों की पीड़ा समझिए, लगातार होती आत्महत्या को देखिए और मानवीयता के आधार पर निर्णय लीजिए।

आज भी बहुत सारे अतिथि विद्वान बेरोजगार हैं उनको तक अब तक सेवा में वापस नही लिया गया है। न 450 पदों की स्वीकृति दी गई न ही फॉलेन आउट अतिथि विद्वानों को सेवा में वापस लिया गया और फिर से अतिथि विद्वानों को बाहर करने में सरकार आमादा है जो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। आखिर कब तक अतिथि विद्वान यूं ही बेरोजगारी और बदहाली के साए में घुटते रहेंगे। सरकार से अनुरोध है की बाहर हुए अतिथि विद्वानों को तत्काल व्यवस्था में लेते हुए भविष्य सुरक्षित करने की कोई ठोस नीति बनाई जाय।

03 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP NEWS- अतिथि शिक्षकों की भर्ती के आदेश जारी
MP NEWS- ग्वालियर में उर्जा मंत्री हादसे का शिकार, मंच से नीचे गिरे, अस्पताल में भर्ती
MP NEWS- 3.48 लाख कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई पर विचार
MP NEWS- ट्रांसफर में टंटे मत करना: सीएम ने डिनर टेबल पर मंत्रियों को समझाया
MPCG NEWS- हर पेंशनर को ₹400000 मिलने का रास्ता साफ
MP BOARD- कक्षा 12 के रिजल्ट का डिटेल प्लान जारी किया
MP NEWS- छग की तरह मप्र में भी कर्मचारियों को वेतनवृद्धि व एरियर्स मिलना चाहिए
MP NEWS- शिक्षा मंत्री ने कहा: पेरेंट्स के खिलाफ FIR दर्ज कराई जानी चाहिए थी
MP NEWS- विवेक तन्खा के इस्तीफे से सोनिया गांधी और कमलनाथ पर दबाव
MP NEWS- यशोधरा से विवाद के बाद मंत्री तोमर BJP प्रदेश कार्यालय में तलब
RAIL SAMACHAR- भोपाल से पुणे, खजुराहो और बीना के लिए विशेष ट्रेन
GWALIOR NEWS- BJP में ग्वालियर-चंबल संभाग ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम
New Cars in India 2021- मारुति की नई हैचबैक कार मात्र 4.5 लाख रुपए में

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindi- मुर्गा सूर्योदय से पहले बांग क्यों देता है, कभी लेट क्यों नहीं होता
GK in Hindi- COCA COLA सिरदर्द के लिए बना रहे थे, गलती से कोल्ड ड्रिंक बन गया
GK in Hindiमनुष्य की दो आंखें क्यों होती है जबकि एक आंख से भी पूरा दिखाई देता है
GK IN HINDI- इंटरनेट डाटा का उत्पादन कहां और कैसे होता है 
GK IN HINDI- BIKE का इंजन CC में क्यों होता है, हॉर्स पावर में क्यों नहीं होता
GK IN HINDI- ATM से थर्मल पेपर की पर्ची क्यों निकलती है, सादा कागज क्यों नहीं है
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here