Loading...    
   


CORONA NEWS- दूसरे डोज के बाद तीसरा बूस्टर डोज जरूरी, IMA प्रेसिडेंट डॉ सतीश जोशी ने कहा

इंदौर।
इंडियन मेडिकल एसोसिएशन इंदौर चैप्टर के प्रेसिडेंट डॉ सतीश जोशी का कहना है कि कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए वैक्सीन के दूसरे डोज के 120 दिन बाद तीसरा बूस्टर डोज लगाना जरूरी है। 120 दिन में वैक्सीन का असर कम पड़ जाता है। डॉक्टर जोशी मांग कर रहे हैं कि तीसरी लहर से पहले डॉक्टरों एवं फ्रंटलाइन वर्कर्स को तीसरा बूस्टर डोज लगा दिया जाए।

वैक्सीनेशन के 4 महीने बाद एंटी बॉडी लेवल कम होने लगा: डॉक्टर जोशी

आईएएम इंदौर चैैप्टर अध्यक्ष डॉ. सतीश जोशी ने बताया कि अब डॉक्टरों को तीसरे बूस्टर डोज की जरूरत है। क्योंकि सबसे ज्यादा खतरा उन्हें ही है। 16 जनवरी को देशव्यापी वैक्सीनेशन शुरू हुआ था। इस तरह डॉक्टरों को फरवरी अंत तक उन्हें दूसरे डोज भी लग गए। अब चार माह (120 दिन) हो गए हैं। ऐसे में अब उनकी एंटी बॉडी लेवल कम होने लगा है। 

कोरोना वैक्सीन का कॉकटेल बूस्टर डोज क्या होता है

डॉ. जोशी का कहना है कि अप्रैल में मैंने खुद का टेस्ट कराया तो एंटीबॉडी लेवल 20 से ज्यादा था जो अब 3 हो गया है। ऐसी स्थिति अन्य डॉक्टरों की भी है। इसके चलते अब उन्हें कॉकटेल के रूप में तीसरा बूस्टर डोज लगाए जाए। इसके तहत जिन डॉक्टरों को जैसे पहले कोविशील्ड के डोज लगे हैं उन्हें बूस्टर के रूप में स्पूतनिक या कोवैक्सीन का डोज भी लगाए जा सकते हैं। अभी एंटी बॉडी लेवल कम है। ऐसे में अगर तीसरी लहर आती है तो सबसे ज्यादा खतरा उन्हीं को है। 

सरकार सिर्फ ICMR की बात मानती है: एसीएस मो. सुलेमान

एसोसिशन ने प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर व ट्वीट कर बूस्टर डोज की मांग की है। उधर, आईएमए मप्र के पूर्व उपाध्यक्ष डॉ. संजय लोंढे ने बताया कि कुछ समय पहले हमने भी मांग की थी। मामला साइंटिफिक है और अभी तक इसे लेकर कोई प्रूफ नहीं है। इधर, शनिवार को इसे लेकर एसीएस मो. सुलेमान ने बताया कि यह टेक्निकल इश्यू है। इस पर सही विचार मेडिकल कम्युनिटी से ही आते हैं। इस तरह के मामलों में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) जो कुछ कहता है, सरकार वह मानती है। इस मामले में अभी ICMR ने कोई विचार व्यक्त नहीं किया है। जब भी कुछ ऐसा सामने आएगा, हम पालन करेंगे।

17 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्य प्रदेश में मानसून की नई तारीख- बंगाली बादलों का एक दल आएगा
MPPEB POLICE भर्ती परीक्षा कब होगी, यहां पढ़िए
MP COLLEGE ADMISSION- उच्च शिक्षा मंत्री ने बताई नई व्यवस्था क्या होगी
MP NEWS- गोद में बेटी के शव को चिपकाए महिला पटवारी की लाश टंकी में मिली
LPG- रसोई गैस का नया सिलेंडर आया, दिखाई देती है गैस कितनी बची है
BHOPAL NEWS- चलती कार में पत्नी ने बहस की, पति ने पिलर में कार ठोक दी
MP EMPLOYEE NEWS- अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा का गठन
GWALIOR NEWS- सस्पेंडेड सिपाही ने बैक-टू-बैक 3 BIKE को टक्कर मारी, 4 घायल
BHOPAL NEWS- वृद्ध पिता को भोपाल बुलाकर बेटी गायब हो गई: आरोप
EMPLOYEE NEWS- मप्र राजपत्रित अधिकारी संघ पूर्व संयोजक ने कहा: कर्मचारी गुस्से में हैं, सरकार ध्यान दे
INDORE NEWS- अधिकारी की बेटी और व्यापारी का बेटा चंडीगढ़ में मिले

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiपहले भारतीय आईसीएस अफसर का नाम और सफलता की कहानी 
हड्डियों में दर्द क्यों होता है, सभी कारण एवं निवारण - Bone Pain: Causes and Treatments
GK in Hindi- मादा कोयल की आवाज मधुर नहीं होती, वह तो अपराधी होती है
GK in Hindiगाय को माता क्यों मानते हैं, दूध तो भैंस भी देती है 
GK in HindiDISC BRAKE बाइक के अगले पहिए में क्यों लगाते हैं, पिछले में क्यों नहीं
GK in Hindiकैसे पता करें TV-AC फ्रिज ने 1 महीने में कितनी यूनिट बिजली खर्च की 
GK in Hindi- हिटलर की मूछें टूथब्रश जैसी क्यों थी, योद्धाओं जैसी क्यों नहीं, पढ़िए
GK in Hindiभारत के किस रेलवे स्टेशन का नाम, सबसे बड़ा है, इसमें अंग्रेजी के कुल कितने अक्षर आते हैं 
GK in Hindiसड़क किनारे वृक्षों पर सफेद पेंट क्यों किया जाता है, वैज्ञानिक कारण 
GK in Hindiबर्फ का टुकड़ा पानी में तैरता है तो फिर शराब में क्यों डूब जाता है 
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here