Loading...    
   


मंत्री गोपाल भार्गव का अपमान करने वाले 2 अधिकारी सस्पेंड, प्रोटोकॉल उल्लंघन का मामला - MP NEWS

भोपाल
। मध्य प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव का अपमान करने वाले पीडब्ल्यूडी के दो अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया गया है। सागर कलेक्टर ने दोनों अधिकारियों को मंत्री गोपाल भार्गव के सागर आगमन पर रिसीव करने के लिए नियुक्त किया था परंतु दोनों अधिकारी नहीं आए पूछने पर मंत्री गोपाल भार्गव का मजाक उड़ाया गया।

गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि मंत्री को रिसीव नहीं किया बल्कि तंज कसा

लोक निर्माण मंत्री पंडित गोपाल भार्गव सागर में 26 जनवरी को आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि थे। एक दिन पहले रात 10 बजे भार्गव सागर सर्किट हाउस पहुंचे थे, लेकिन प्रोटोकाॅल के तहत उन्हें रिसीव करने जिला प्रशासन का कोई भी अधिकारी नहीं पहुंचा था। जबकि भार्गव के सागर आगमन की सूचना दोपहर में ही कलेक्टर कार्यालय को दे दी थी। भार्गव से जब इस बारे में सवाल किया गया था तो उन्होंने तंज भरे लहजे में कहा- हो सकता है अफसर पुताई करा रहे होंगे, इसलिए नहीं आए। शायद वे दिन भर काम करते थक गए होंगे और रात में जल्दी सो गए होंगे। उन्हें प्रोटोकॉल का ध्यान नहीं रहा होगा। 

नाराज मंत्री गोपाल भार्गव सागर छोड़कर गढ़ाकोटा चले गए थे

कैबिनेट मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि वे प्रदेश भाजपा में सबसे सीनियर लीडर है, लेकिन उन्होंने कभी 1 मिनट के लिए भी इस बात का घमंड नहीं किया। इसलिए अफसरों को भी अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए। बताया जाता है कि सागर कलेक्टर ने मंत्री भार्गव को रिसीव करने के लिए अनुविभागीय अधिकारी (SDO) जेएम तिवारी और कार्यपालन यंत्री हरिशंकर जायसवाल की डयूटी लगाई थी, लेकिन दोनों तय समय पर सर्किट हाउस नहीं पहुंचे थे। इससे नाराज होकर भार्गव अपने गृहनगर गढ़ाकोटा चले गए थे। हालांकि सुबह मंत्री तय समय से पीटीसी ग्राउंड पहुंचे और ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली। 

SDO जेएम तिवारी और कार्यपालन यंत्री हरिशंकर जायसवाल निलंबित

मंत्री भार्गव की नाराजगी को देखते हुए लोक निर्माण विभाग ने गुरुवार को प्रोटोकाॅल का उल्लंघन करने के आरोप में अनुविभागीय अधिकारी (SDO) जेएम तिवारी और कार्यपालन यंत्री हरिशंकर जायसवाल को निलंबित कर दिया गया है। आदेश के मुताबिक दोनों इंजीनियरों को पीडब्ल्यूडी मुख्यालय भोपाल में अटैच किया गया है।

28 जनवरी को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here